तनहा भाभी को दिए चुदाई का मजा – 1

एक दिन सुबह जब मैं उठा और ऐसे ही फ़ोन देख रहा था। तभी अचानक से एक नोटीफिकेशन आया। देखने से मालूम हुआ कि कोई प्रिया शर्मा (नाम बदला हुआ है) की फ्रेंड रिक्वेस्ट आई थी। 

मैंने उसकी प्रोफाइल देखी। उसकी प्रोफाइल देखने में एक फेक प्रोफाइल लग रही थी। फिर भी मैंने एक्सेप्ट कर ली। ‌फिर दोपहर को मेरे मैसेंजर पर उसका हाय का मैसेज आया। मैंने भी रिप्लाई कर दिया। उससे बात चालू हो गईं। 

मैं आपको बता दूँ कि वो एक भाभी थी, जिसकी उम्र 30 साल थी। उससे मेरी करीब दो घंटे बात हुई। मैंने उससे बातचीत से समझ लिया कि वो एक तन्हा औरत थी और उसका पति विदेश में काम करता था। 

वो यहां भारत में अकेली रहती थी। उस समय तो चैट बंद हो गई। मगर अब मुझे उसमें कुछ मजा आने लगा था। फिर उससे लम्बी लम्बी बातें होने लगीं। रात को दो तीन बजे तक बात करना शुरू हो गया। 

उससे बात करते हुए मुझे एक महीना हो गया। चूंकि हम दोनों रोज देर तक बात करते थे, इसलिए हम दोनों एक दूसरे के बहुत करीब हो गए थे। एक दिन प्रिया भाभी का मेरे पास कॉल आया। मैंने बात की, तो वो रो रही थीं। 

मैंने उनसे पूछा- क्या हुआ भाभी आप रो क्यों रही हो। उसने मुझे जवाब देने की जगह फ़ोन काट दिया। मैंने दुबारा से उन्हें कॉल किया, तो मैंने उन्हें अपनी कसम दी और बात बताने के लिए कहा। 

चुत की प्यास और लंड की दीवानगी – 2

भाभी से मिलने गया घर पर अकेले 

उन्होंने मुझे अपनी कहानी बताई कि वो ज़िन्दगी में बहुत अकेलापन महसूस कर रही हैं। मैंने फ़ोन पर ही भाभी को सांत्वना दी और शांत कराया। भाभी ने मुझसे कहा- तुम मुझसे मिलने आ सकते हो, तो आ जाओ। 

मैंने हां कर दी, तो भाभी ने मुझे अपना एड्रेस दे दिया। मैं पहले कभी ऐसे मिलने नहीं गया था लेकिन अब हम दोनों क्लोज हो गए थे। उनसे मैंने पूछ लिया कि आपके घर पर कोई होगा तो क्या करेंगे? उन्होंने बताया कि वो घर पर अकेली ही हैं। 

मैंने उनसे दोपहर को उनके घर आने की कहा, तो भाभी मान गईं। मैं दोपहर में भाभी के घर चला गया। ‌वो एक फ्लैट में रहती थीं। मैंने उनके घर जा कर डोरबेल बजाई। उन्होंने आकर दरवाजा खोला। 

जैसे ही भाभी ने दरवाजा खोला, मेरी आंखें फटी की फटी रह गईं। भाभी दिखने में एकदम खूबसूरत थीं और उनका बदन भी पूरा सुगठित था। मैं भाभी को देखता ही रह गया। उन्होंने मुझे अन्दर बुलाया। 

उनके कहने पर मैंने उनके घर में कदम रखा। मैं उनके घर के ड्राइंगरूम में पड़े सोफे पर बैठ गया। भाभी ने मुझे पानी लाकर दिया और मेरे बगल में बैठ गईं। मैं बहुत शर्मा रहा था लेकिन फिर भी मैंने भाभी से बात करना शुरू की। 

चुत की प्यास और लंड की दीवानगी – 1

भाभी ने चिपका दिए होठ से होठ 

मैंने उनसे पूछा- आप क्यों रो रही थीं अब बताइए। इस बात पर भाभी ने अपना सर झुका लिया और कुछ नहीं बोलीं। मैंने उनसे कहा- भाभी आप ऐसे रोया मत करो।।! मेरी इस बात पर वो अचानक मुझसे चिपक गईं और रोने लगीं। 

मैंने उनके बालों के ऊपर से उनके सर को सहलाया और उन्हें चुप कराया। वो मुझे बहुत टाइटली हग करके चिपक गई थीं और मुझे छोड़ ही नहीं रही थीं। मैंने उनसे छोड़ने के लिए कहा, तो उन्होंने मना कर दिया। 

मैं आपको बता दूँ कि मैंने पहले कभी भी सेक्स नहीं किया था। इसलिए मुझे भाभी के जिस्म से वासना भड़कने लगी थी। अभी मैं भाभी से आगे कुछ बोलता, उससे पहले उन्होंने अपने होंठों मेरे होंठों से चिपका दिए। 

उनकी इस पहल से मैं सकते में आ गया था, लेकिन कुछ कर नहीं पाया। वो लगातार मेरे होंठों को चूमे जा रही थीं। कुछ पल बाद मेरा भी आपा खो रहा था। वो कभी मेरे ऊपर के होंठों को चूस रही थीं … तो कभी नीचे वाले होंठ को काट रही थीं। 

कुछ पल बाद मुझे समझ आ गया कि भाभी सेक्स करना चाह रही हैं, तो मैंने भी मौके का फायदा उठाया और उनके नीचे वाले होंठों को जोर से काट लिया। इससे वो एकदम से सिसक गईं और मुझसे एक पल के लिए अलग हुईं। 

लेकिन अगले ही पल वो फिर मुझसे चिपक गईं। उन्हें मेरे काटने से बहुत मजा आया था। अब वो मेरे मुँह में अपनी पूरी जुबान डाल रही थीं और मैं भी उनकी जीभ को चूसे जा रहा था। ‌फिर धीरे से उन्होंने मेरे कपड़े निकालने शुरू किए। उन्होंने पहले मेरी शर्ट को निकाल दिया और मुझे छाती पर काटने लगीं। 

Leave a Comment