अँधेरे का डर और बेहेन की चुदाई, रात के अँधेरे में मस्त चुदाई की

आप सभी को मेरा नमस्कार, मेरा नाम अंकित है और यह किस्सा मेरी और मेरी ताई की लड़की और बेहेन पूजा का है। यह बात गर्मिओ के मौसम की है, पूजा हमारे घर हफ्ते में कई बार आया जाया करती थी। वैसे तो पूजा मुझसे उम्र में 2 साल बड़ी थी पर हमारी बाते किसी दोस्त की तरह होती थी।  हम साथ में खेला करते, खाया करते और पिटाई भी खाते थे। मै और पूजा एक दूसरे से पूरी तरह घुले हुए थे और एक दूसरे से सभी बाते शेयर करते थे। वैसे पूजा हमारे घर ही ज्यादा रहा करती थी और शाम को वह अपने घर यानि मेरी ताई के चली जाया करती थी। अब कुछ दिनों के ताई को गावो जाना था इसीलिए पूजा हमारे घर रहने के लिए आ गयी। अब हम पूरा दिन बस बाते किआ करते और खेलते रहते थे। अब पूजा मम्मी के साथ निचे सोया करती थी और अपने कमरे में ऊपर।

एक रात लाइट के चले जाने से निचे बहुत घुटन हो गयी और मम्मी ने पूजा को छत पर जाकर सोने के लिए कह दिआ। धीरे धीरे पूजा ऊपर आ रही थी और मेरे कमरे के सामने आकर वह रुकी और मुझे उठाते हुए बोली : उठो अंकित और मुझे छत तक छोड़कर आओ।  मै उस समय बहुत ज्यादा नींद में थे और मैंने गुस्सा  पूजा को अपने पास ही सोने को बोल दिआ। थोड़ी समय वैसे ही खड़े रहने के बाद पूजा मेरे बगल में ही लेट गयी और सोने लगी।  मै आपको बता दू की मै शुरू से ही सिर्फ अंडरवियर और बनियान में सोता हु। पूजा मेरे पीछे ही दूसरी तरह मुह्ह करके सो रही थी और मेरे पैर गलती से पूजा के पेरो पर टकरा गए। 

ऐसा एक और किस्सा: बुआ ने बुझाई अपनी हवस की आग और चुदवाई चूत

पूजा ने वो किआ जो मैने कभी सोचा ना था 

पूजा  के पैर निचे से पूरी तरह ठन्डे थे जिनपे मेने अपने पैर भी रख लिए। अब मैने अपना पैर थोड़ा ऊपर करते हुए देखा की पूजा ने अपनी सलवार उतर कर साइड में रख दी है। मुझे लगा उसने ऐसा गर्मी से बचने के लिए किआ होगा। की तभी पूजा ने मेरी तरफ मुह्ह किआ और मेरे सीने पर एक हाथ रख दिआ। मै कुछ भी नहीं समझ पा रहा था और कुछ ही देर बाद पूजा ने मेरे ऊपर  अपना एक घुटना भी रख दिआ जो की पूरा नंगा था। मैने अपने एक हाथ से घुटना हटते हुए पूजा को दूर किआ की तभी पूजा ने मुझे रोका और कहा की उसे अँधेरे से डर लगता है इसलिए उसे मुझे पकड़कर सोना है। अब मैने भी पूजा की हां में हां मिलायी और सब भूल कर सो गया।  कुछ देर बाद जब मेरी आँख खुली तो पूजा मेरे सीने पर सोई हुई थी और उसने अब सिर्फ अपनी ब्रा पहनी हुई हुई थी।  यह देखकर मै बहुत ही असमंजस में था और पूजा के बड़े बड़े बूब्स भी मेरी छाती पर थे।  

मेरा लंड भी अब खड़ा सा होने लगा था और मेरे मन में भी पूजा को चोदने के ख्याल आने लगे थे। पूजा अपनी जाँघे लेकर मेरे ऊपर चढ़ी जा रही थी जिससे मेरी हवस उठने लगी थी। पर मै अब उसी अवस्था में पड़े रहते हुए पूजा पर सब कुछ छोड़ दिआ। और कुछ समय बाद पूजा मेरे पूरे बदन पर सोई हुई थी।  पूजा मेरे सीने पर अपना सर रखकर सिर्फ ब्रा और अपनी पैंटी में सोई हुई थी। पूरे कमरे में अँधेरा हो रखा था और में पूजा के पूरे जिसम की गर्मी को महसूस कर रहा था। अब मैने भी शर्म हटाते हुए अपने हाथ पूजा के शरीर पर फेरने शुरू कर दिए। 

Also Read :  पैसो के लालच में अपनी चूत चुदवाई

नंगी बेहेन को अँधेरे में ही चोदकर किआ दिन पूरा 

अब पूजा  सांसे तेज होने लगी थी जो की मै अपने शरीर पर महसूर कर सकता था।  मेरा लंड भी अब खड़ा होने लगा था जो पूजा को शयद पहले ही समझ आ गया था। मेने अपने हाथो से अब पूजा के ब्रा का हुक खोल दिए और पीठ सहलाने लगा। पूजा और तेज सांसे लेने लगी और सोने का नाटक अब बंद हो चूका था। मैने पूजा को देखते हुए उसके होठो पर किस करना शुरू कर दिआ।  पूजा किसी भूखी औरत की तरह मेरे होठो को चूस वा चूम रही थी। अब मेने पूजा की ब्रा उतार कर साइड में रख दी और बूब्स को चूसना शुरू किआ।  पूजा मदहोशी में खोने लगी और कामवासना में पूरी तरह डूब चुकी थी। मै उसके दोनों बूब्स दबाते हुए चूस रहा थे जिसमे मुझे भी मजा आ रहा था। अब मैने अपना एक हाथ पैंटी में भी डाल दिआ और उसकी चूत को सहलाने लगा। 

पूजा अब अपना काबू खो चुकी थी लम्बी लम्बी आहे भरने लगी थी।  कुछ समय बाद निचे सरकते हुए पूजा ने मेरा निक्कर उतारा और मेरा लंड सहलाना शुरू कर दिआ। मेरे बोलने पर अब पूजा ने मेरा लंड मुह्ह में लिआ और चूसना शुरू कर दिआ।  हम दोनों ही पसीने से पूरी तरह भीग चुके थे और एक दूसरे  में खोये हुए थे। मेरा लंड भी अब पूरा सख्त हो  गया था और पूजा उसपे बिना रेहेम करते हुए आम की तरह चूसे ही जा रही थी। पूरी तरह खड़ा हो जाने के बाद पूजा उठी और अपनी चूत में लंड घुसाते हुए मेरे ऊपर  बैठ गयी। अब ऊपर निचे होते हुए पूजा ने मुझसे चुदाई करवानी चालू कर ली। मैंने भी निचे से तेज तेज धक्के लगाने शुरू कर दिए जिससे हमारी चुदाई और गरम हो गयी थी। हम दोनों पसीने में भीग चुके थे एक दूसरे की महक में खोये हुए थे। मैने अब पूजा को उल्टा करते हुए घोड़ी बनाया  अपना लंड उसकी चूत में उतार दिआ।  यह चुदाई कम  से कम  20 मिनट तक चली जहा मेने उसके नितम्ब चूस चूस कर लाल कर दिए थे।  अब पूजा को सीधा लिटाते हुए मेने वापस अपना लंड उसकी चूत में घुसाया और चुना शुरू आकर दिआ।  ऐसे ही मेने उस एक रात में हम दोनों ने 4 बार चुदाई के मजे लिए और अपनी अपनी हवस बुझाई।  

Leave a Comment