पड़ोस की लड़की ने दी चुत बजाने को – 3 

फिर वो खड़ी हो गई और उसने अपने पर्स से एक कागज का लिफाफा सोफे पर रख दिया। मैंने नोटिस किया पर कुछ पूछा नहीं। फिर हमने केक खोला और उसमें रखा प्लास्टिक का चाकू निकाल कर केक काटा और मैंने एक बाइट मुस्कान को खिलाया। 

उसने थोड़ा सा खाया, फिर उसने मेरा हाथ पकड़ा और बचा हुआ मुझे खिलाया। अब उसने और केक उठाया और मेरे चेहरे पर लगा दिया। मैं चाहता तो उसको रोक सकता था पर मुझे अच्छा लगा। फिर उसने बोला- अब बताओ क्या गिफ्ट लोगे? 

मैं कुछ बोल नहीं सका और मेरा ध्यान सोफे पर रखे कागज के लिफाफे पर गया। उसने मेरी नजरों का पीछा किया और बोली- अच्छा ये चाहिए? मैं बोला- क्या है इसमें? मुस्कान- तुम्हारा गिफ्ट। मैं- तो दो मुझे। 

मुस्कान- उससे पहले एक सवाल का जवाब दो। मैं- बोलो क्या? मुस्कान- तुम मुझे पसंद करते हो क्या? मैं- हां … करता हूं। मुस्कान- प्यार भी करते हो? अब मैंने खुद को रोक नहीं सका और मुस्कान को गले से लगा लिया। 

मैं बोला- आई लव यू सो मच मुस्कान! मुस्कान- मुझे पहले क्यों नहीं बोला तुमने? मैं- तुम फोन पर बात करती थीं, तो मुझे लगा तुम्हारा ब्वॉयफ्रेंड होगा। मुस्कान- यार वो मेरी कॉलेज फ्रेंड है … चाहो तो फोन चैक कर लो। 

छुपन छुपाई और चुत चुदाई का मजा

मुस्कान को भर लिए अपनी बाहो में

ये बोलती हुई मुस्कान मुझसे अलग हो गई और अपना फोन निकाल कर मेरी तरफ कर दिया। मैंने उसका फोन लेकर मेज पर रख दिया और उसे फिर से गले लगा कर बोला- आई ट्रस्ट यू मुस्कान। 

उसने बोला- तुम्हें याद है, मैंने रात एक हेल्प करने के लिए बोला था। मैंने कहा- हां बोलो क्या करना है। आग लगा दूंगा तुम बस बोलो। मुस्कान- आग लगानी नहीं है … बुझानी है। आज मेरा सेक्स करने का मन है। 

ये बोलते हुए उसने लिफाफे में से कंडोम का पैकेट निकाल कर मुझे दे दिया। मैंने वो पैकेट लिया और उसको खोला उसमें से एक कंडोम को बाहर निकाल लिया। इतने में उसने अपनी जींस उतार दी और ब्लैक पैंटी भी उतार दी। 

अब उसकी नंगी जांघ मुझे दिख रही थी पर उसकी चूत उसके शर्ट से ढकी हुई थी। मैंने भी देर नहीं की और अपनी शर्ट पैंट अंडरवियर सब उतार दिए। अब मेरा खडा लंड उसको दिखने लगा तो उसने कहा- बहुत बड़ा है तुम्हारा। 

वो मेरे पास आ गई और मेरा लंड पकड़ लिया। आह क्या नर्म हाथ थे उसके … जैसे लंड होंठों में पकड़ लिया हो। फिर उसने लंड पर केक लगाया और चूसने लगी। मुझे मजा आ रहा था।

जीजा साली और चुदाई का खेल

मुस्कान ने लंड चुत पर कर लिए सेट

फिर उसने बोला- अब तुम भी करो। वो सोफे पर बैठ गई और उसने अपनी दोनों टांगों को खोल दिया। उसकी चूत दिख रही थी। जिंदगी मैंने पहली बार जवान चूत को देखा था, बड़ा अच्छा लग रहा था। 

मैं कालीन पर घुटने मोड़ कर उसकी गोरी गोरी चूत पर केक लगा कर चूत को चाटने लगा। वो कामुक सिसकारी भरने लगी- अह्ह अह्ह विकास उह्ह्ह चाटो मेरी चूत को … आह मजा आ रहा है। ये कह कर वो मेरा सिर अपनी चूत में दबा रही थी और मादक सिसकियां निकाल रही थी। 

फिर उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया तो मैंने उसकी चूत का सारा पानी पी लिया। अब मेरा मन उसको चोदने को हुआ, मैंने कहा- अब करें? मुस्कान बोली- यहीं करोगे? मैंने जमीन पर पड़े कालीन को देखा और बोला- हां यहीं कर लो। 

वो मान गई और मुस्कान नीचे जमीन पर पड़े कालीन पर लेट गई। मैंने बोला- शर्ट भी उतार दो, मुझे ब्रा में कसे हुए बूब्स देखने हैं। तो वो स्माइल करते हुआ बोली- अरे ब्रा तो तुम स्कूटी पर देख चुके हो। 

ये कह कर उसने बैठ कर शर्ट भी उतार दी और ब्लैक ब्रा की स्ट्रिप पर उंगली रख कर दिखाने लगी। मैंने मुस्कान के एक चूचे को दबाया और ब्रा उतार दी। उसने बोला- पहले कंडोम लगा लो, फिर करना। 

मैंने कंडोम अपने लंड पर लगाया। वो मेरे सामने अपनी टांग फैला कर लेट गई। मैं उसके पैरों के बीच में आ गया और उसकी क्लीन चूत को देखा। जितनी सुंदर मुस्कान थी, उससे भी सुंदर उसकी चूत लग रही थी। 

मैंने अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रखा तो वो बोली- मेरा फर्स्ट टाइम है … धीरे धीरे करना। तब मैंने उसके दोनों पैरों को अपने हाथों में पकड़ा और धक्का लगाया पर लंड चूत से रगड़ कर ऊपर निकल गया। अब मुस्कान ने अपने हाथ में मेरा लंड पकड़ा और छेद पर सैट किया। वो बोली- धीरे से अन्दर करो। मैंने एक और धक्का लगाया तो लंड थोड़ा सा अन्दर घुस गया। 

Leave a Comment