आंटी की ढीली चुत की भुजाइ लंड की प्यास 

यह आंटी मेरे घर के सामने वाले ही घर में कुछ सालो से रह रही थी पर हमें यहाँ आये यहाँ आये अभी एक ही साल हुआ था।  आंटी मुझे अच्छे से जानती भी नहीं थी पर आंटी कभी कभी मेरे बारे में मम्मी से तारीफ़ करती थी। 

मम्मी ने भी मुझ से कई बार कहा था  की सामने वाली  आंटी मेरे बारे में कई सवाल पूछती है। शुरू में मुझे यह सब कुछ झूट लग रहा था पर अब धीरे धीरे सुनती मेरे  करीब आने की कोशिश करने लगी थी। 

आंटी मुझे देख कर हस्ती और कई बार मुझे अपने पास बुलाके मुझ से बाते करती की मै केसा हु या मुझे क्या क्या काम आता है। आंटी से मेरी भी ठीक ठाक सी बनने लग गयी थी और आंटी से मुझे भी दिक्कत नहीं थी। 

पर आज कुछ अजीब हुआ। आंटी का बाथरूम हमारे घर से दीखता था जिसकी खिड़की हमेशा से बंद रहती थी। पर आज वह खुली हुई थी और आंटी अंदर नहाते हुए गाना भी गए जा रही थी।

आंटी को देखने के लिए मेरा मन भी लालची सा हो गया और जैसे ही मै आंटी को देखने के लिए गया आंटी ने मुझे देख लिए और उन्होंने जल्दी से खिड़की बंद कर ली और अब मेरी गांड फटने लगी की यह बात मम्मी को ना पता लग जाए। 

मै अब बाहर बैठ आंटी के बाहर आने की इन्तजार  करने लगा की जैसे ही वह बाहर आएंगी मै उनसे माफ़ी मांग लूंगा और फिर सब ठीक हो जायेगा।  बाद आंटी नहाने के बाद बाहर आयी और मुझे देख के होने पास बुलाया। 

आंटी ने मुझ से कहा की उन्हें मुझ से कुछ बात करनी है इसलिए मै अंदर आ जायु। मै भी बिना सोचे आंटी के घर में चला गया और आंटी ने मुझे बैठने को कहा। आंटी से मेने शुरू में ही माफ़ी मांग ली और आंटी को कहा की यह बात वह मम्मी को ना बताये। 

 और भी देसी कहानिया: Aunty Sex Story

आंटी ने दिखाया मुझे फिर से नंगापन 

आंटी ने मुझे देखा और जोर जोर से हसने लगी और  कहा की डरने की कोई भी बात नहीं है क्युकी वह ये बात किसी को भी नहीं बताएगी। पर आंटी ने मुझ से पूछा की मै खिड़की से क्यों देख रहा था। 

मेने मुह्ह निचे कर लिआ और आंटी ने मुझे कहा की क्या मै उनकी सुंदरता देखने के लिए खिड़की से झांक रहा था या और कोई बात है। मेने आंटी को हां बोल दिआ और आंटी ने शरमाते हुए कहा की इसमें छुपाने वाली कौन सी बात है। 

आंटी ने मुझे कहा अगर इतनी सी ही बात है तो वह मुहे अभी अपनी सुंदरता सीखा सकती है जो मै अतब देखना चाह रहा था। आंटी ने मुझे कहा की देखो मै कहा से ज्यादा अच्छी लगती हु। 

अभी आंटी ने तोलिआ ही बाँदा हुआ था और वह अभूत ही ज्यादा सेक्सी दिख रही थी। मै अब काफी देर चुप था और फिर आंटी ने कहा की अगर मुझे वह अच्छी लग रही तो वह बाथरूम में जैसी थी वैसी बन जाती है। 

अब आंटी जैसे ही ऐसा कहा आंटी ने अपना तोलिआ निकाल दिआ और मेरे सामने नंगी हो गयी। आंटी को नंगा देख मेरी आंखे बाहर आ गयी थी और आंटी नंगी होने के बाद बहुत ही ज्यादा सेक्सी दिख रही थी जिसकी मै चुदाई करना चाहता था। 

मौसी को पहुंचाया चुदाई के चरम तक

आंटी की ढीली चुत में दिआ लंड और करि चुदाई 

आंटी ने अब अपने बूब्स पकडे और मुझे कहा की देखो यह कितने सुन्दर है। मै भी अपने लंड के जैसे खड़ा हो गया और आंटी के बूब्स देखने लगा। और मेने अब अपना एक हाथ बूब्स की तरफ बढ़ाया और उन्हें दबाने लगा। 

आंटी के दोनों बूब्स मै अपने दोनों हाथो से दबाने लगा जिससे आंटी गरम हो गयी और आंटी ने भी अब मुझे आक्रोश में लिआ और किस करने लगी। आंटी की हवस बहुत ही ज्यादा हो गयी थी और वह मुझे अच्छे से चूस रही थी। 

मेने अगले ही पल आंटी को बिस्तर पर लिटा लिआ और उनकी टाँगे खोल ली। आंटी की चुत थोड़ी ढीली हो गयी थी। मेने बिना कुछ देखे और सुने आंटी की चुत पे लंड रखा और तेजी से चुत की चुदाई चालु कर दी। 

आंटी जोर जोर से आहे भरते हुए चुत मरने लगी और आंटी की सेक्स की आवाज से मेरा हौसला और भी बढ़ता जा रहा था और मै अपना लंड तेजी से अंदर बहार कर रहा था। 

ऐसे ही बहुत देर की चुदाई के बाद आंटी की चुत से भी सफ़ेद पानी आने लगा था और आंटी की लगातार चुदाई करने से मेरे लंड ने भी कुछ ही पल बाद अपना रस निकाल दिआ। 

Leave a Comment