आंटी की चुत का स्वाद बड़ा कड़वा

बिना बात घुमाये मै आपको कहानी सुनाना शुरू करता हु। मेरे घर से कुछ ही दूर एक आंटी रहती थी जो की दिखने में बहुत ही ज्यादा सुन्दर और सेक्सी भी थी। उन आंटी का नाम सुमन था और उनकी गांड भी बहुत मोटी थी जिसे देख मेरा लंड खड़ा हो जाता था। 

आंटी भी मुझे देख कई बार मजाक मजाक में मुझे चुने के बहाने ढूंढती थी और यह बात मै कई बार देख चूका था। आंटी को देख मेरे जिस्म में एक अलग ही आग सी लग जाती थी जिसे मै कही निकलना चाहता था। 

अब मेने सोच लिआ की आंटी को मै पटा कर ही मानूंगा। मेने अब आंटी के घर के चक्कर लगानां शुरू कर दिए और आंटी भी मुझे अब काफी भाव देने लगी। आंटी मुझसे काफी देर  बाते करती और मै भी आंटी की हां में बस हां मिलाता रहता था। 

अब आंटी से बाते करते हुए मुझे काफी दिन हो गए थे और अब मेने आंटी को पूरी लाइन मरना चालू कर दिआ। आंटी की मै अब हर बात पर तारीफ करने लगा और आंटी को देख ऐसा लगता था की वह मेरी गर्लफ्रेंड है। 

आंटी भी ऐसे मुझसे बात करती थी जैसे की  मुझसे प्यार करने लगी है और मुझसे खुद ही सेट होना चाहती है। अब मेने एक दिन हिमायत करते हुए आंटी से कहा की वह आज कुछ ज्यादा ही सुन्दर लग रही थी और मेरा मन कर रहा है और की मै उन्हें चुम लू। 

आंटी ने मेरी यह बात सुन कर कुछ देर तक तो चुप्पी रखी जिससे मै काफी डर गया पर अब आंटी ने मुझे कहा की डरने की कोई भी बात नहीं है और वह अब खूब हसने लग गयी। 

मेरा डर अब थोड़ा सा कम हो गया और मेने आंटी से कहा की वह तो बहुत ही तेज है। अब आंटी ने मुझे कहा की मै उनसे बाते ही ऐसी करता हूँ की  जिससे लगता है मै उनसे प्यार करता हु। 

गाडी से लड़की पटाके करि चुदाई 

आंटी ले गयी मुझे घर में 

अब आंटी ने मुझे कहा की बाहर बहुत ही ज्यादा ठंडी हो रही है इसलिए क्यों ना हम घर के अंदर जाके बात करे। मेने भी अब आंटी की है में हां कर दी और हम दोनों अंदर जाकर बेथ गए। 

अब आंटी ने मुझसे कहा की मेवहि बात फिर से कहु जो की मै अभी बाहर बोल रहा था और मेने आंटी से फिर से कहा की वह आज आईटीआई सुन्दर लग रही है की जी करता है मै उन्हें चुम लू। 

आंटी हसी और उन्होंने अब मुझे कहा की अगर मै उन्हें इतना ही प्यार दिखा रहा हु तो आकर उन्हें चुम ही लू। मुझे तो अब इसी बात का इंतजार था और मेने आंटी की तरफ अपने कदम बढ़ा दिए। 

मै आंटी के पास गया और अपने होठ आंटी से मिलाकर उन्हें चूमने लग गया। आंटी भी मेरे होठो को लगातार चूसे जा रही थी जिसके बाद हम दोनों एक दूसरे  एकदम खो गए और एक दूसरे को प्यार करने लगे। 

जन्मदिन पर दी लड़की ने चुत की ठुकाई – 2 

आंटी की चुत चुदाई और चटाई 

अब आंटी और मै अलग कमरे में चले गए और प्यार करते हुए हम दोनों ही नंगे हो चुके थे। आंटी की चुत पर हाथ फेरते हुए मुझे काफी देर हो गयी थी और मेने अब सोचा की चुदाई से पहले आंटी की चुत का स्वाद लिआ जाए। 

अब जैसे ही मेने अपने होठो से आंटी की चुत को चटाना शुरू किआ मेने पाया की आंटी की चुत से अलग से स्वाद आ रहा है जो की बहुत अजीब है। पर फिर भी मेने कुछ आंटी की चुटको चाट कर चिकना किआ और चुदाई के लिए तैयार कर दिआ। 

अब मेने अपना लंड आंटी की चुत में फसाया और बिना रुके चुदाई करने लगा। जोर जोर से चुत में लंड देते हुए मै काफी तेजी से चुदाई करने लगा। और आंटी के साथ मेरा लंड अपनी चुत में लेते हए चुदाई का मजा उठाने लगी। 

चुदाई काफी देर तक चलती रही और आंटी और मेरी दोनों की सांसे भी बहुत फूल चुकी थी। आंटी की चुदाई करने से मेरे जिस्म पर काफी पसीना आ गया था और अब मेरे लंड में भी तनाव आने लगा था। 

मेरे लंड से अब जैसे ही पानी आने लगा मेने आंटी से कहा की मै पानी कहा निकाल दू। आंटी ने अब मुझे कहा की चुत के अंदर ही पानी को छोड़ दू क्युकी वह मुझसे एक बच्चा चाहती है। 

मेने अब वैसा ही किआ और अपना वीर्य आंटी की चुत में फेक दिआ और आंटी की चुदाई का सुख पाया। 

Leave a Comment