खूबदार आंटी की मिली चुत ठुकाई – 1

यह बात आज से 3 साल पहले की है जो की मुझे आजतक याद है। तो बात कुछ यु है की मेरे इलाके में एक बहुत ही सुन्दर औरत रहती थी जो की ुमार में ज्यादा बड़ी भी नहीं थी। 

उस समय मै ज्यादा बड़ा नहीं था इसलिए उस औरत को आंटी कहकर ही बुलाया करता था। आंटी को देख कर मै उस समय काफी खुश होता था क्युकी वह आंटी जब भी किसी जगह से निकलती थी वह जगह खुसबू से भर जाती थी। 

कुछ दिनों बाद अब मुझे आंटी को देख कर हवस भी चढ़ने लगी थी और मेरे दिल में अब आंटी की चुदाई के ख्याल आने लगे थे। मेरे साथ साथ मेरे दोस्तों के दिलो का भी यही ख्याल था और हम सभी आंटी को सोच सोच कर अपने लंड को हिलाया भी करते थे। 

सिलसिला कुछ यु चल पड़ा था की आंटी को चोदने के लिए अब हर एक लड़का तैयार था पर आंटी की चुदाई शायद किसी के नसीब में नहीं थी और मेरी किस्मत इस समय चमकी हुई थी। 

बात ये हुई की आंटी हमारे घर पर आयी हुई थी और आंटी को खुशबु से ही मुझे पता लग गया की आंटी घर पर आयी हुई है और मै जल्दी से निचे वाले कमरे में आ गया जिससे मै आंटी को देख कर मजे ले सकू। 

अब आंटी ने मम्मी से कुछ देर तक बात करि जिस दौरान मेने आंटी को खूब जी भरकर देखा और आंटी ने बिच बिच में मुझे भी कई बार देखा। अब कुछ देर बाद आंटी चली गयी और मै भी अपने कामो में लग गया। 

मौसी ने पकड़ा मेरा लंड और हिलाने लगी

आंटी ने बुला लिआ अपने घर में 

अब अगले दिन मै बाहर गली में ऐसे ही घूम रहा था और आंटी ने मुझे बुलाते हुए आवाज लगाई। मै आंटी के पास गया और आंटी ने  मुझे कहा की मेरा नाम क्या है। 

आंटी ने मुझे अब कहा की अजब वह मेरे घर आयी थी मै उन्हें इतना कीयू देख रहा था ? मै अब चुप हो गया और मेने आंटी से कुछ भी नहीं कहा। आंटी मुझे देखे जा रही थी और आंटी ने अब मुझे पूछा की क्या मै उन्हें पसंद करने लगा हु ?

आंटी के पास खड़ा हुआए मै मदहोश हो गया था और अब आंटी से मेने कहा की हां वह मुझे बहुत ही ज्यादा पसंद है और मै उनसे शादी भी करना चाहता हु। आंटी मेरी बात सुनने के बाद हसने लग गयी। 

आंटी को देख मै भी हसने लगा और अब आंटी ने मुझे कहा की आज ठंडी बहुत ज्यादा है इसलिए मै उनके घर में आ जायु और बाकी की बायत हम उनके घर में ही करेंगे। 

में आंटी के साथ साथ उनके घर में चला गया पर अब आंटी ने अंदर जाकर मुझे कहा की वह पहले से ही शादीशुदा है इसलिए मुझसे शादी नहीं कर सकती है पर वह मुझे अपना एक दिन के लिए पति बना सकती है अगर मै चाहु तो। 

मेने अब आंटी की इस बात में हां भर दी और आंटी ने मुझे कहा की आज के लिए वह मेरी बीवी है और मै उनका पति हु। इतना कहते ही अब आंटी ने मुझे अपनी बआहो में लिआ और कहा की मै उन्हें बतायु की मै अपनी बीवी यानि उनसे कितने प्यार करता हु। 

बुआ की मालिश करि तेल के साथ और ली चुदाई 

आंटी और मेने किआ रोमॅन्स

आंटी की बाहो में खड़ा हुआ मै बहुत ही ज्यादा चुका हुआ था पर अब मेने भी आंटी को अपनी बआहो में भरा और आंटी से कहा की मै अपनी बीवी से बहुत ही ज्यादा प्यार करता हु। 

हम दोनों के जिस्म अभी एक दूसरे से बहुत ही ज्यादा चिपके हुए थे और आंटी की सांसे ओर दिल की धड़कन में बहुत ही  आराम से सुन सक्ता था। आंटी अब मुझसे कुछ दूर हुई ओर मुझसे देख कर मुस्काई। 

मेने भी आंटी को एक स्माइल दी और आंटी ने मुझे वापस से अपनी बाहो में लेके मेरे गाल पर चुम्बन कर दिआ। मै बहुत ही खुश था की आंटी धीरे धीरे मुझे प्यार कर रही थी। 

कुछ देर बाद मेने भी आंटी के एक गाल पर चुम्बन कर दिआ और आंटी अब शर्म से थोड़ी सी लाल हो गयी थी। निचे अब मेरे लंड में तनाव आना शुरू हो गया था जो की आंटी के पेट से चिपका हुआ था। 

आंटी अब शमझ गयी थी की मेरे लंड में तनाव  आना शुरू हो गया है और आंटी ने अब अपना हाथ मेरे लंड पर रखा और मुझे कहा की मै तो उनकी उम्म्मीद से भी ज्यादा जवान हो गया हु। 

आगे पढ़िए अगले भाग में। …….. 

Leave a Comment