आंटी ने जबरदस्ती चुदवायी अपनी चुत 

आप सभी ने बहुत ही तरह ही आटीओ की चुदाई के किस्से सुने होंगे पर आज यह मेरा किस्सा जो मै आप सभी को सुनाने जा रहा हु बाकि सभी से अलग होने वाला है। आप देखंगे की कैसे एक आंटी ने जबरदस्ती मेरे लंड से अपनी चुत मरवाई। 

यह आंटी मेरे घर से ज्यादा दूर नहीं रहती थी। मै अभी कॉलेज की पढाई कर रहा था और जब भी मै पढाई के लिए टूशन जाता था यह आंटी मुझे देखा करती थी। कई बार  भी मिल जाती थी जिसके बाद मै अपने कदम तेज कर लेता था। 

आज भी मै यु ही टूशन जा रहा था और मेरी नजर आंटी की तरफ गयी जो मुझे ही देख रही थी और इस बार शायद वह मुझे अपनी तरफ बुला भी रही थी। मेने फिर भी उन्हें ऐसा दिखाया की मेने उन्हें नहीं देखा है और मै सीधा अपने टूशन चला गया। 

मै आपको बता दू की यह आंटी दिखने में ज्यादा अच्छी नहीं थी पर जैसी भी थी उनकी चुदाई करने के लिए कोई भी 2000 रुपए आराम से दे सकता था। अब जब मै टूशन से वापस आ रहा था मेरी नजर खुद ह आंटी की तरफ चली गयी। 

मुझे उन्होंने अपने पास बुलाया। आंटी ने मुझे कहा की मै  अच्छा बचा लगता हु जो की रोज पढाई के लिए अपने टूशन अत जाता है और वह मुझे रोज ऐसे देख बहुत खुश होती है क्यूक उनका भी एक लड़का जो अब नहीं रहा आज मेरे जितना बड़ा होता। 

मुझे खुद पर शर्म आने लगी की मै उनके बारे में केसा केसा सोच रहा था और वह कितनी अछि है। अब आंटी ने मुझे कहा की अगर मै बुरा ना मनु तो क्या वह मेरी एक मदद मांग सकती है। 

मेने बिना कुछ सोचे आंटी को हां कर दी और आंटी ने मुझे कहा की उनकी अलमारी थोड़ी सी पीछे करनी है जो वह अकेले नहीं कर सकती है उन्हें मेरी मदद इस काम के लिए चाहिए होगी। 

स्कूल के टीचर ने मारी मेरी चुत क्लासरूम में

आंटी ने मुझे लिटा दिआ बिस्तर पर और करने लगी गरम 

अब जैसे ही मै अंदर गया आंटी ने पीछे से चुपके से अपना दरवाजा बंद कर दिआ और मुझे यह बात पता भी ना चली। अब आंटी ने मुझे कहा की वह अलमारी अंदर वाले कमरे में है। 

अब मै आंटी के पीछे पीछे उनके कमरे में चला गया जहा कोई भी अलमारी नहीं थी और मेने आंटी से कहा की कहा है आपकी अलमारी जो उन्हें पीछे करवानी थी। 

आंटी ने मुझे एक नजर देखा और कहा की वह मुझे दूसरे काम के लिए अंदर लायी है जो की अलमारी से भी ज्यादा ख़ास है। आंटी ने मुझे कहा की मेरा लंड कितना बड़ा है मै यह उन्हें बतायु। 

यह सुन मेरी गांड फटने लगी और मेने आंटी से कहा की मुझे बाद बाहर जाना और मै अंदर नहीं रहना चाहता। आंटी ने कहा की अंदर से दरवाजा बंद है तो जबतक वह नहीं चाहती मै यहाँ से नहीं जा सकता। 

आंटी ने मुझे अब जोर का धक्का दिआ और बिस्तर पर गिरा दिआ और मेरे ऊपर आ गई। आंटी ने कहा की वह मुझे रोज देखती है और उन्हें मुझसे बहुत प्यार हो गया है जिसे वह आज पूरा करना चाहती है। 

मुझे कुछ भी समझ नहीं आ रहा था और मेरी डर के मारे गांड फट रही थी। आंटी ने मुझे कहा की डरने की कोई भी बात नहीं है क्युकी वह मुझे कुछ भी नहीं करेंगी और उन्हें बस मेरा प्यार चाहिए। 

बुआ की चुत मारी और बुआ को दिआ चरमसुख का मजा

आंटी ने मरवाई अपनी चुत मेरे लंड से 

इतना कहते ही आंटी ने अपनी मैक्सी निकाल दी जिसके निचे वह एकदम नंगी थी और वह मेरे ऊपर लेट गयी। उन्होंने मेरे कपडे भी खोलते हए मेरे ऊपर के कपडे निकाल दिए और मेरे जिस्म को चूमना शुरू कर दिआ। 

मै  भी कुछ देर बाद अब हवस से भर गया था और निचे मेरा  हो चूका था। आंटी निचे जाकर अब मेरा लंड अपने मुह्ह में लेके जोर जोर से चूसने लगी और मुझे बहुत ज्यादा मजा आने लगा। 

अब आंटी ने मुझे पूरा नंगा कर दिआ और मुझे निचे लिटाकर मेरा लंड पर चढ़ गयी और उसे अपनी चुत में ले लिआ। अब आंटी ऊपर निचे होते हुए मेरे लंड से अपनी छुटमरवा रही थी और जोर जोर से आहे भर रही थी। 

मुझे भी निचे बहुत मजा आ रहा था और मै भी आज घर नहीं जाना चाहता था और आंटी की चुत की चुदाई और भी ज्यादा देर तक करना चाहता था।  आंटी हस्ते हुए अपनी चूत मे मेरा लंड अंदर तक ले रही थी। 

ऐसे ही यह चुदाई काफी देर तक चलती रही और उच्च ही समय बाद मेरे लंड से वीर्य निकलने लगा जिसके बाद आंटी मेरे लंड से उतरी और अपने कपडे पेहेन कर मुझे घर जाने के लिए कहा। 

उस दिन के बाद मेने खुद आंटी के घर जा जा कर आंटी की चुत मारी और उनकी हवस शांत करने का ठेका ले लिआ ,

Leave a Comment