नंगी आंटी ने खींच लिआ बाथरूम में 

यह बात से आज से कुछ 2 साल पहले की है जब मै और मेरा परिवार किराये के मकान में ही रेहते थे। हम लोग घर में 6 लोग थे जिसमे हम 2 भाभी २ बहने और मम्मी पापा थे। 

छोटे से कमरे में रहते हुए हम लोग अपनी जिंदगी गुजार रहे थे। पर अब कुछ दिन बाद हमारे ही इलाके में एक आंटी आयी जो की दिखने में बहुत ही ज्यादा हरानी लग रही थी। 

आंटी को देख कर कोई भी नहीं कह सकता था की वह शादी शुदा है और जब भी वह कही से गुजरती  थी वह जगह खुसबू से भर जाती थी और उनकी यह बात मुझे बहुत ही ज्यादा पसंद भी थी। 

आंटी के बारे में सोच कर मै कई बार मुठ भी मार चूका था क्युकी आंटी बहुत ज्यादा गोरी  थी और उनकी चुत के गुलाबी रंग के बार में सोच कर ही मेरे लंड  तनाव आने लगता था। 

अब कुछ दिन तक यु ही चलता रहा  पर आज करवा चौथ था और सभी आंटी तैयार होकर पूजा करने के लिए जा रही थी। अब मेरी मम्मी ने मुझे कहा की मै उन आंटी को भी पूजा के बारे में बता दू जो की कुछ ही दिन पहले यहाँ आयी है। 

मै अब जल्दी से आंटी के घर गया और उनके दरवाजे पे खड़ा होकर आवाज देने लगा। अंदर से आंटी ने पूछा की मै कोण हु और मेने बताया की मुझे मम्मी ने उन्हें बुलाने के लिए भेजा है। 

अब आंटी ने कहा की मै अंदर बैठ जायु क्युकी वह अभी नाहा कर आने ही वाली है। मै अंदर जाकर बेथ गया और अब कुछ ही देर बाद आंटी ने मुझे आवाज दी और कहा की बिस्तर पर कोई टोलिया है तो मै उन्हें दे दू। 

ऑफिस की लड़की ने दिआ चुदाई का मौका

आंटी ने खींच लिआ बाथरूम में 

मेने अब तौलिया उठाया और बाथरूम के जाके आंटी से कहा की वह तौलिए ले ले। अब आंटी ने अपने हाथ दरवाजे से  बाहर निकला और मेरे हाथ को पकड़ कर मुझे  भी बाथरूम में खींच लिआ। 

बाथरूम के अंदर आंटी एकदम ही नंगी कड़ी हुई थी और उनका जिस्म पानी से भीगा हुआ था। आंटी को देख कर मेरे लंड में एकदम ही आग लग गयी और उसमे बहुत ज्यादा तनाव आ गया था। 

अब आंटी से मेरी आंखे मिली और आंटी मुझे देख कर हसने लग गयी। आंटी ने मुझे कहा की वह तो मुझे छोटा समझ रही थी पर मेरे चुनु को देख कर वह बहुत खुश हुई है। 

अब ऐसा कहते हुए आंटी ने मेरे लंड की तरफ इशारा किआ और मुझे अब बहुत शर्म सी आ गयी।  आंटी ने मुझे कहा की आज करवा चौथ है पर उनके पति घर पर उनका साथ देने के लिए नहीं है इसलिए 2 घंटे के लिए वह मुझे अपना पति बनाना चाहती हो। 

ऐसा बोलने के बाद आंटी ने मेरे लंन्ड को सहलाना शुरू कर दिआ और मै भी अब चुपचाप आंटी को नंगा निहार रहा था। आंटी की जवानी से मेरे होश उसउड़ चुके थे और मै उनकी चुदाई अब करना ही चाहता था। 

मेने अब अगले पल अपनी टीशर्ट को ऊपर करके निकाल दिआ और आंटी को अपनी बाहो में लेके उनके गीले जिस्म को खुद से लपेट लिआ। आंटी भी मेरे जिस्म से चिपक कर मुझे सेहला रही थी और मेरे शरीर को चुम रही थी। 

भाभी ने दिया अपनी चुत की चुदाई का ऑफर

आंटी की बाथरूम के करि चुदाई 

अब आंटी ने मेरी पैंटी को भी निकाल कर बाथरूम में कोने में फेक दिआ और मेरे लड़ को बैठ ककर चूसने लग गयी। मै भी उनके सर को पकड़ते हुए उन्हें लंड चूसने में मदद कर रहा था जिससे मेरे लंड ने  अपना पूरा आकर ले लिआ था। 

अब आंटी ने मुझे कहा की क्या मैंने पहले किसी की चुदाई करि है जिसका जवाब मेने ना में दिआ और आंटी ने मुझे कहा की में अपना लंड हाथ में पकड़ लू और चुत पर रखु। 

मेरा ऐसा करने के बाद आंटी ने अपनी चुत के छेद पर मेरे लंड को सेट कर दिआ और मेने धक्का देते हुए लंड को अब आंटी की चुत में घुसा दिआ। अब आगे पीछे करते हुए मै अपने लंड से आंटी की चुत मारे जा रहा था और आंटी भी बाथरूम में आहे भर रही थी। 

मेरी यह बाथरूम में पहली चुदाई थी और आंटी की चुत मरते हुए मुझे काफी समय होने के बाद मेरे लंड  से एक ही बार में जोर का झटका आया और मेने सारा माल बाथरूम के कोने में निकाल दिआ। 

Leave a Comment