भाई बेहेन का प्यार – गर्म सांसे और फिम्ल का रोमांस 

यह बात आज से कुछ 4 साल पहले की है। मेरी ताई की 2 लड़किआ थी जो दिखने में एक से एक थी। हालांकि वह मेरी बहने थी पर मन हमेशा उनकी चुदाई का करता रहता था। मै कैसे न कैसे बस यही सोच में रहता था की काश दोनों में से कोई एक मेरी हवस की प्यास को बुझा दे और चुदाई करवाने के लिए राजी हो जाये। 

मेरी दोनों बहने  हमारे घर आते रहती थी क्युकी मम्मी उन दोनों से ही बहुत प्यार किआ करती थी। मेरी बड़ी बेहेन का नाम रीना और छोटी वाली का नाम मिना था। मिना ज्यादातर अपने मोबाईल में ही खोयी रहती थी पर रीना बड़ी होने के कारण मम्मी के कामो में भी मदद कराती थी और घर के कई काम भी करती थी। 

अब यह बात शायद शुक्रवार की है क्यकि मम्मी को उस दिन बाजार से कोई सामान लेके आना था। मम्मी ने दोनों बहनो से साथ चलने के लिए कहा और यह भी कहा की तुम दोनों अपनी पसंद का एक एक सामान भी ले लेना। रीना बड़ी थी इसलिए उसे इन चीजों का कोई भी लालच नहीं था। इसलिए रीना ने मम्मी से जाने के लिए मना कर दिआ। पर मिना मम्मी के साथ बाजार जाने को राजी हो गयी और उनके साथ चली गयी। 

रीना और मै शांति से बैठ कर बाते कर रहे थे और हमारे सामने टीवी भी चल रहा था। उस दिन टीवी के साथ मेरी एक अलग ही दोस्ती सी हो गयी थी क्युकी मै जो भी चैनल बदल रहा था सभी जगह कोई ना कोई रोमांटिक सिन आ रहा था। पर यह सब रीना को अजीब लग रहा था पर मै उस उस समय कुछ कर भी नहीं सकता था। 

पढ़िए रिश्तो में चुदाई के किस्से : Family Sex Story

टीवी में देखते हुए किआ अपनी ही बेहेन को किस 

अब रीना ने मुझसे बड़े होने के नाते टीवी का रिमोट ले लिआ और अपने हिसाब से चैनल बदलने लगी। पर उसने जो भी चैनल लगाए उन सभी में लोग एक दूसरे को चुम रहे थे। अब यह देख मेरे मुह्ह से हसी निकल गयी। रीना भी मुझे देख थोड़ा सा हसने लगी। 

पर अब रीना ने एक चैनल लगाके टीवी का रिमोट हम दोनों से ही दूर रख दिआ और कुछ देर बाद उसी चैनल पर एक लड़का और लड़की किस करने लगे यह देख मेरा मूड भी अब रीना को किस करने का कर रहा था पर मुझे उसकी तरफ देखने में भी अजीब लग रहा था क्युकी थी तो मेरी वह बड़ी बेहेन ही। पर तभी अचानक रीना मुझे प्यार से देखने लगी और टीवी में भी अब रोमांस ज्यादा होने लगा था। 

रीना मुझे तिरछी निगाहो से देखे जा रही थी और मेने भी हिम्मत करते हुए रीना तरफ अपनी नजरे कर ली। हम दोनों की एक दूसरे को देख हसने लगे पर इस बार रीना मेरे करीब आने लगी। यह देख मेरी भी हवस जाग गयी और मेने भी उसे खुद को सौप दिआ। रीना ने बिना कुछ देखते हुए मेरे होठ से अपने होठ मिलाये और मुझे किस करना शुरू कर दिआ। 

मै उस समय बहुत चौक चूका था पर मेने बिना कुछ सोचते हुए रीना का साथ देना शुरू कर दिआ। रीना और में एक दूसरे के होठो पर प्यार से बारी बारी चुम्बन कर रहे थे और हमारे शरीर भी अब गरम हो गए थे। अब जैसे जैसे टीवी में हीरोइन रोमांस करि जा रही थी रीना ने भी वैसा ही करना शुरू कर दिआ। और मेरे जिस्म से खेलना शुरू कर दिआ। 

रीना अब यह भूल चुकी थी की मेरी वह बड़ी बेहेन है और हम दोनों को एक दूसरे से दूर रहना चाहिए। रीना ने अब बारी बारी  मेरी शर्ट के बटन खोलना शुरू कर दिए और मेने भी उसकी मदद करते हुए अपनी शर्ट उतार दी। अब रीना ने मेरे ऊपर बैठते हुए मेरे जिस्म पर अपने होठो से किस करना शुरू कर दिआ। रीना के चुंबन से मेरा पूरा जिस्म ढीला हो गया और लंड खड़ा हो गया। 

नए ज़माने की कहानी : ओयो तक का साथ – चुदाई, दोस्ती, प्यार और धोखा

बेहेन की चूत की सील तोड़ी और करी जोरदार चुदाई 

अबतक मै और रीना दोनों ही बहुत गरम हो चुके थे और हम दोनों के लिए ही रुकना बहुत मुश्किल हो गया था। पर मेरे मन में अब एक ही बात चल रही थी की रीना की चुदाई मुझे मम्मी के आने से पहले ही करनी थी। इसलिए मेने अब रीना को पकड़ा और मै उसके ऊपर आ गया। 

मैने रीना के होठो को चूसा और कुछ देर तक उसे खूब दबाके किस किआ। कुछ देर तक मैने अपनी बेहेन के गले पर भी चुम्बन किये जिससे वह पूरी तरह पागल हो गयी। अब मेने अपनी बेहेन का सूट ऊपर किआ और उसे उतारने को बोला। रीना ने झट से अपना सूट उतरा और मेरे सामने लेट गयी। 

मैने अपने दोनों हाथो से रिया की ब्रा उतारी और उसके बूब्स पर अपने हाथ रख दिए। रिया की चुचिओ की निप्पल पहले ही कड़ी हो गयी थी जिन्हे मेने अपने हाथो से रगड़ना भी शुरू कर दिआ। अब जैसे ही मेने अपने होठो से रीना के बूब्स चूसे, रीना तेज तेज आहे भरने लगी और मुझे अपनी तरफ खींचने लगी। 

 रीना मेरे जिस्म पर अपने हाथ फेरे जा रही थी और में उसके बूब्स चूसता हुआ उसे कामवासना की सैर करा रहा था। अब मेने अपने होठ थोड़े निचे की और फिराए और रीना के पेट पर किस करते हुए उसकी सलवार पर आ गया। जैसे ही मेने रीना की सलवार का नाडा खोला, रीना ने मुझे “नहीं भाई ” कहते हुए रोक दिआ। 

पर मेने रीना की एक ना सुनी और ऊपर जाकर उसके होठो को जोरदार तरीके से चूसा और निचे आकर उसकी सलवार भी उससे अलग कर दी। रीना ने बहुत ही शानदार पैंटी पहनी हुई थी जिसे मेने अपने हाथो से उतरा और उसकी चूत पर होठ रख दिए। रीना की चूत पर घने बाल थे जिन्हे शायद उसने आजतक कभी साफ़ भी नहीं किआ था।

मेने कुछ देर रीना की चूत को अपनी जीभ से भिगोया और अब मै रीना की चुदाई की तैयारी करने लगा। मेने अपना पजामा भी उतार दिआ और अपना खड़ा लंड रिया की चूत के मुह्ह पर रख दिआ। रोना मुझे भैया भइया करते हुए रोक रही थी पर अब मुझ पर बस हवस का काबू था। मैने अपने लंड से रीना की चूत पर एक जोर का झटका मारा जिससे रीना के मुह्ह से “अह्ह्ह्ह भईया नहीं ” निकल गया। 

पर मेने रीना को नजरअंदाज किआ और अपना पूरा लोडा रीना की चूत में पार कर दिआ। रीना की आँखों में आंसू आ गए थे और मेरे लंड पर भी उसकी चूत से निकला हुआ खून लगा हुआ था। अब कुछ देर तक मेने जरा सा भी झटका नहीं मारा और रीना के शांत होने के बाद मेने रीना की चुदाई धीरे धीरे शुरू कर दी। 

अब रीना भी इस चुदाई का मजा लेने लगी थी और आह अहह करती हुई सांसे ले रही थी।  रीना की यह पहली चुदाई थी जिसमे उसने अपनी सील भी अपने ही भाई से तुड़वा ली थी। हम दोनों भाई बेहेन चुदाई का पूरा मजा ले रहे थे और रीना ओह्ह माँ भैया करती हुई बिस्तर पर नंगी मेरा लंड अपनी चूत में ले रही थी। 

अब रीना की चुदाई करते हुए मुझे काफी समय हो गया था और रीना भी बहुत गर्म हो गयी थी जिससे उसे दर्द भी नहीं हो रहा था। रीना अब मुझे अपनी तरफ खींचते हुए चुदाई का मजा ले रही थी। रीना की चूत से अब पानी भी आने लगा था, रीना की पहली चुदाई होने के कारण उसकी चूत की बुरी हालत हो गयी थी पर रीना को पूरा मजा भी आ रहा था।

अब जैसे ही मेरे लंड से पानी निकलने लगा मेने अपना लंड रीना के मुह्ह में दिआ और उसकी चूत पर अपने मुह्ह रखते हुए 69 की अवस्था में आ गया। रीना की चूत चाटते हुए मै उसके मुह्ह की चुदाई कर रहा था और एकदम ही मेरे लंड ने सारा वीर्य उसके मुह्ह में छोड़ दिआ जिको मेने उसे पिने के लिए कह दिआ। 

अब मेने अपनी जीभ रीना की चूत पर फिराई और थोड़ी चूत रगड़ने के बाद रीना की चूत ने भी पानी छोड़ दिआ और हम दोनों कुछ देर तक वही नंगे पड़े रहे। मम्मी का आने का समय भी हो गया था और अब टीवी पर भी कोई रोमेंटिक सिन नहीं आ रहा था। और उस दिन के बाद मेने अपनी बेहेन रीना की कई बार चुदाई करि और चरमसुख का आनंद लिआ। 

Leave a Comment