भाभी की मस्त जवानी और भीगा मौसम

मेरी भाभी का नाम सरिता था जो की मेरे बगल वाले घर में ही रहती थी। यु तो वह मेरी सगी भाभी नहीं थी पर वह मुझसे बाहत ही ज्यादा लाड किआ करती थी। भाभी दिखने में बहुत ही सुन्दर और बात करने में बहुत ही प्यारी थी। भाभी जब भी चला करती थी उसकी गांड ऐसे मटका करती थी जैसे वह कोई लड़की हो। भाभी की उम्र भी मुझसे बस 3 साल ज्यादा थी इसलिए शायद उनकी और मेरी अछि बनती भी थी। 

अब बारिश का मौसम आ चूका था जो मुझे है साल की तरह बहुत ही रोमांटिक मौसम लगता था। जब भी बारिश आया करती थी मै अपनी गली में नहाने निकल जाया करता था। एक दिन की बात है सुबह के 4 बज रहे थे और बहुत तेज बारिश हो रही थी।  मेरी आंख बारिश के शोर से खुल गयी और मै पहले ही जैसा आपको बता चूका हु की बारिश मुझे कितनी पसंद है। 

अब बारिश का मजा लेने के लिए 5 बजे करीब अपनी घर की छत पर चला गया। बारिश बहुत ही तेज हो रही जिसमे नहाना मुझे बहुत ही अच्छा भी लगता है। मै अपने कपडे उतरके सीधा बारिश में चला गया और नहाते हुए मजे लेने लगा। पर कुछ देर बाद मुझे किसी की चुडिओ की आवाज आयी जो की हमारे बगल वाली छत से आ रही थी। 

नयी कहानी : मामी के आम और हवस का रस | मामी की चुदाई, बूब्स और रसपान

भाभी को गिरने से बचाया और लिआ अपनी बाहो में

जैसे ही मैने उधर झाका की तभी मेने देखा की सविता भाभी लाल कलर के सूट में बारिश में नहाते हुए मजे ले रही है और बहुत सुन्दर भी लग रही है। भाभी को मै एक पल के लिए देखता ही रह गया था। और कुछ समय बाद भाभी ने भी मुझ पर गौर किआ और मुझसे बात करने के लिए किनारी पर आ गई। 

भाभी ने मुझे बताया की उन्हें भी बारिश बहुत पसंद है और जब वह कुवारी थी तो बारिश में खूब नहाया करती थी। भाभी से बाते करता हुआ मै उनकी छत पर चला गया और बाते करने लगा और हम दोनों साथ में एन्जॉय करने लगे। भाभी बारिश में जोर जोर से उछलते हुए मजे ले रही थी जिनसे उनकी चूचिया ऊपर निचे हो रही थी। 

पर जैसे ही भाभी  इस बार उछली उनका पैर बारिश की काई पर फिसल गया और वह मेरी बहो में आ गयी। भाभी मेरी गोदी में कुछ इस तरह फांसी थी की उनका हाथ मेरे लंड पर लग रहा था और वह मेरी बाहो में लेटी हुई थी। हम दोनों पर पानी की बुँदे गिरे जा रही थी और यह बहुत ही रोमेंटिक मूवमेंट हो गया था। 

हम दोनों ही एकदम से रुक गए थे और इतने में भाभी ने अपनी आंखे किस करने के लिए बंद करते हुए अपने होठ मेरी तरफ बढ़ाये। मैने भी बिना कुछ सोचे अपने होठ भाभी के होठ से मिला दिए और उन्हें किस करने लगा। मैने भाभी को वापस उनके पेरो पर खड़ा किआ और भाभी के अपने भीगे बदन से मुझे अपनी बाहो में भर लिआ। 

सरिता भाभी और मै दोनों ही गरम और रोमेंटिक मूड में आ गये थे और भाभी ने मुझे देखते हुए वापस अपने होठ मुझसे मिलाये और मेरे होठ चूसने लगी। यह सब किसी हिंदी मूवी की तरह हो रहा था और अब मेने भी भाभी की गांड पर हाथ फेरने शुरू कर दिए। भाभी का सूट पूरी तरह उनके जिस्म से गिला होने के बाद चिपक चूका था और मै अपने दोनों हाथ भाभी की गांड से लेकर उनकी नंगी पीठ पर फेरे जा रहा था। 

और भी भाभी की चुदाई की काहानिआ : Bhabhi Sex Stories

रोमेंटिक मौसम में सरिता भाभी की कर दी चुदाई

अब मैने अपने दोनों हाथ भाभी की चुचिओ पर रख दिए और उन्हें दबाना शुरू कर दिआ। भाभी इससे बहुत ही ज्यादा कामुक होने लगी और मेरे गीले होठो से चूसते हुए आहे भरने लगी। भाभी अब पूरी तरह से कामवासना में खो गयी थी जिसका मेने फायदा उठाते हुए उन्हें जमीन पर लिटा दिआ और चूमने लगा। 

मैने भाभी का सूट ऊपर करते हुए उनसे अलग कर दिआ और उनकी सफ़ेद ब्रा खोल दी। भाभी के बूब्स छोटे पर उभरे हुए थे जिनपर मेने अपने होठ लगाते हुए चुसाई शुरू कर दी। अपने एक हाथ से मै भाभी के एक चूची को दबाता व दूसरी चुचे को अपने होठो से बारी बारी चूस रहा था। 

भाभी इससे बड़ी बड़ी आहे भरने लगी थी और अब मेने भाभी  के होठ चूसते हुए भाभी की सलवार का नाडा खोल दिआ। भाभी ने मुझे कोई विरोध नहीं किआ जिसके बाद मेने अपना एक हाथ उनकी चूत पर भी रख दिआ। भाभी की चूत पर छोटे छोटे बाल थे जिनपर मेने ध्यान ना देते हुए अपनी उंगलिआ भाभी की चूत पर फिरानी शुरू कर दी। 

भाभी बारिश में नंगी लेटी हुई मेरी हरकतों का मजा ले रही थी और वही मै भाभी की चूत की फाको में अपनी उंगली फुराए जा रहा था। भाभी अब चुदाई के लिए तैयार सी दिख रही थी इसलिए मेने भाभी की सलवार को भी उतरना शुरू कर दिआ। शुरू में भाभी ने मुझे थोड़ा सा रोका पर कुछ देर बाद थोड़ी चुम्मा चाटी के बाद भाभी ने मुझे उनकी सलवार उतारने दी। 

अब भाभी मेरे सामने पूरी नंगी अवस्था में थी और मै पहले से ही बस अपने कच्छे में था जो मैने अब उतार दिआ। भाभी की चूत पूरी तरह बारिश के पानी से गीली हो राखी थी और भाभी बारिश में भीगी किसी  अप्सरा जैसी दिख रही थी। भाभी के पेट पर हाथ फेरता हुआ में उनके ऊपर आ गया। मैने अपना लोडा भाभी की चूत की फाको में सहलाना शुरू कर दिआ जिससे भाभी सिहरने लगी और भाभी ने अपने हाथ से मेरा लंड अपनी चूत के मुह्ह पर रख दिआ। 

एक ही झटके में मैने अपना लंड भाभी की चूत में घुसा दिआ और चुदाई करना शुरू कर दी। बारिश के पानी से मेरा लंड भाभी की चूत में आराम से अंदर बाहर हो रहा था जिससे भाभी को भी माजा आ रहा था। अब मैने अपनी चुदाई की रफ़्तार बड़ा दी और भाभी आह्हः अह्ह्ह करती हुई लम्बी सांसे लेने लगी। 

भाभी की कामुकता बढ़ती जा रही थी और भाभी चुदाई का पूरा मजा ले रही थी। चुदाई करता हुआ मै कभी भाभी के होठो पर अपने होठ रगड़ रहा था और कभी उनके बूब्स के निप्पल चूस रहा था। मेरी इन हरकतों से भाभी और मुझे दोनों को चुदाई में आनंद मिल रहा था। 

कुछ 20 मिनट तक और चुदाई करने के बाद मेरा लंड पूरा अकड़ गया और पानी छोड़ने लगा। मैने झटके से भाभी की चूत से अपना लंड निकला और उनके मुह्ह में फसा कर मुह्ह की ही चुदाई करने लगा और एकदम से मेरा सारा माल भाभी के मुह्ह में झड़ गया जिसे भाभी आम से पी गयी। और ऐसे ओर दिन हमने बारिश का पूरा मजा लिए और अपनी अपनी जवानी शांत करि। 

Leave a Comment