अपनी हवास मिटने के लिए अपनी ही बेहेन की चूत मारी सोते हुए

तो नमस्कार दोस्तों जैसा की आप जानते है हम हर दिन नयी नयी सेक्सी कहानिआ लाते रहते है।  तो आज की कहानी मेरी और मेरी बेहेन की है।  रिंकी मुझसे 3 साल बड़ी थी जिससे वो मुझे प्यार से छोटू कहकर बुलाया करती थी।  रिंकी मेरी बड़ी ताई की बेटी थी जिसकी मुझसे बहुत अच्छी तरह।  उसका कद मुझसे थोड़ा कम था पर उसका जिस्म किसी अप्सरा से कम नहीं था। मै कई बार रिंकी के बारे में सोच कर मुठ भी मारा करता था पर रिंकी का हमारे घर आना जाना काम था जिससे मुझे उसे चोदने के मोके नहीं मिल पा रहे थे।  गर्मिओ की बात है जब हमारी बुआ की लड़की की शादी गांव से आया।  जिसमे हम सभी को बुलाया गया था। मेरे सभी भाई भेहेन भी शादी में आये थे जिसमे रिंकी भी एक थी। मेने रिंकी को 2 माह बाद देखा था और उसे देखते ही में दंग रह गया।  रिंकी के नितम्ब एकदम गोल बड़े व् उभरे हुए थे और जब भी रिंकी चलती थी तो ऊपर निचे हिला करते थे।  रिंकी को बहुत दिन बाद देखके मेरा लंड भी खड़ा होकर उसे सलामी देने लगा जिसे मेने किसी तरह रिंकी से छुपा लिआ।  

रिंकी की चूत मारी छत पर 

अब शादी का दिन था। हम दोनों के माता पिता कामो में लगे हुए थे और हम भी उनका हाथ बटवा रहे थे। उस दिन हम दोनों ही बहुत थक गए थे। रात का समय होते ही अब दोनों को बहुत नींद आने लगी थी। अब बुआ ने हम सभी भाई बहेनो को छत पर सोने के लिए बोल दिआ। हम सभी अपना अपना बिस्तर बिछाकर नींद आने का इन्तजार करने लगे। किसमत से आज रिंकी का बिस्तर मेरे ठीक बगल में लगा था। मै बहुत खुश था क्युकी मेरे एक तरफ दीवार और दूसरी तरफ मेरी बहन रिंकी थी जिसे चोदने के मै सपने देखा करता था। अब रात के दस बज गए थे और मेरे बाकी सभी भाई बेहेन सो गए थे। पर मुझे हवस के कारण नींद नहीं आ रही थी।

मैने मोका पाते हुए अपना एक हाथ रिकी के ऊपर रखने की कोशिश करी जिसका मेरी बेहेन रिंकी ने कोई विरोध नहीं किआ। अब मुझे यकीन हो गया था की रिंकी भी सो गयी थी। धीरे धीरे हिम्मत करते हुए मैने अपना हाथ बेहेन की नितम्बो पर रख दिआ। अब मेने रिंकी के बड़े बड़े नितम्बो को प्यार से सहलाना शुरू कर दिआ। कुछ देर बाद मैने रिंकी के टॉप में हाथ डालते हुए उसके नितम्बो को दबाना शुरू कर दिआ।

हवस में आकर आकर अब मै रिंकी के बूब्स बहुत तेजी से दबाने लगा पर कुछ देर बाद रिंकी ने सिसकिआ लेनी शुरू कर दी। अब रिंकी ने आँखे खोलते हुए मेरी तरफ देखा और मेने डरते हुए मेरा हाथ जल्दी से बहार निकाल कर माफ़ी मांगना शुरू कर दिआ। पर अब रिंकी भी शायद गरम हो गयी थी। रिंकी ने मेरा हाथ पकड़ते हए वापस अपने टॉप में डाला और सहलवाना शुरू कर दिआ।

Also Read: मौसी को मजाक मजाक में चोदा और पूरी रात उनकी चूत मारी

बेहेन ने लंड चूसा और चुदवाई अपनी चूत

अब मेरा डर ख़तम हो चूका था। रिंकी को अपनी और खींचते हुए मेने उसके गुलाबी होठो को चूसना शुरू कर दिआ। मेरी बेहेन रिंकी भी मेरा पूरा साथ दे रही थी और मेरे होठो को तेजी से चूस रही थी। रिंकी के टॉप से हाथ निकालकर मैने उसके पजामे में हाथ डाला और चूत को रगड़ना शुरू कर दिआ जो पूरी तरह गीली हो चुकी थी। अब मेरी बेहेन हवस में दीवानी हो चुकी थी और मेरा लंड पजामे के ऊपर से पकड़ कर हिलाने लगी। रिंकी बिस्तर से उठ मेरे पेरो की तरफ मुह्ह करके लेट गयी और मेरा लंड मुह्ह में लेकर गपागप चूसने लगी। मेने भी जवाब में उसका पजामा उतार कर उसकी गीली चूत का रसपान करना शुरू कर दिआ। हम दोनों भूल चुके थे की हम छत पर है और हवस में एक दूसरे को चूसे जा रहे थे। अब मेने रिंकी को दिवार की तरफ बुलाकर लेटने को कहा और रिंकी का पजामा निचे करते हुए उसकी चूत पर अपना सख्त लंड रख दिआ।
लंड रखते ही रिंकी सिस्किआ लेने लगी और मैने एक जोर के धक्के से बेहेन की चूत में अपना लैंड घुसा दिआ। अब मेने धीरे धीरे रिंकी को चोदना शुरू कर दिआ। रिंकी भी मेरे होठो को बहुत प्यार से चूसे जा रही थी अपनी चुदाई का मजा ले रही थी। रिंकी की बॉब्स में बहुत टाइट हाथो से दबाते हुए उसे चोदे जा रहा था और अब रिंकी हवस से करहाने लगी थी। मैने अपनी बेहेन के मुह्ह पे हाथ रखते हुए चुदाई की रफ़्तार तेज कर दी।

रिंकी अब ऊपर निचे होकर मेरा लंड अपनी चूत में और अंदर लेना चाह रही थी। मैने अपने धक्के बहुत जोर से लगाने शुरू कर दिए जिससे अब मेरा लंड झड़ने वाला था। रिंकी के नितम्ब जोर से दबाते हुए मेने अपना सारा माल उसकी चूत में ही निकाल दिआ। पर अभी रिंकी की चूत की गर्मी शांत नहीं हुई थी। रिंक बिना कुछ देखे मेरे मुह्ह पर आकर बेथ गयी और मुझे चूत चाटने को कहने लगी। 10 मिनट की चूत चटाई के बाद रिंकी भी मेरे मुह्ह में ही झड़ गयी और ऐसे हमने उस रात 3 बार घंटो सेक्स किआ और अपनी जिसम की गर्मी को ठंडा किआ।
तो दोस्तों किसी लगी आपको यह स्टोरी हमें कमेंट करके जरूर बताये और रोज नयी व् हवसी कहानिआ पढ़ते रहने के लिए इस वेबसइट पर आते रहे।

Also Read: दोस्त की छोटी बेहेन को गरम करके बुरी तरह चोदा

Leave a Comment