बेहेन की दोस्त को सिखाया चुदाई का मजेदार खेल

मेरी उम्र अभी 21 साल की हो गयी थी थी और मेरी बेहेन मुझ से 2 साल निचे मतलब 19 की थी। यह कॉलेज में आ गयी थी और उसके कई नए दोस्त भी बन गए थे। उनमे से काफी साडी लड़कीअ थी जो की घर पर आती जाती रहती थी। 

बेहेन की दोस्त उसकी ही उम्र की थी पर एक दिन एक लड़की हमारे घर आयी जो की मेरी ही बेहेन की उम्र की थी पर उसका शरीर किसी औरत जैसा था। वह अभी उम्र से छोटी थी पर उसका बदन एकदम गदराया हुआ था।

मेरी बेहेन की दोस्त का नाम मनु था जो की बहुत ही सुन्दर और गोरी थी। उसे देख मेर दिल उसपर आ गया था और एक पल को तो ऐसा लग रहा था की मै सीधा मनु से अब शादी कर लू। 

मनु को पहले दिन ही देख मेरा अंदर का इंसान पागल सा हो गया था और मुझे किसी भी तरह से मनु को प्यार करना था। अब मेने धीरे धीरे मनु से बाते करना शुरू किआ और जैसे ही वह घर आती मै उसके पीछे लग जाता। 

मनु मुझे भी नाम से बुलाने लगी थी जिसका मतलब वह भी प्यार से देखने लगी थी। एक दिन की बात है मेरी बेहेन और मनु ऊपर कमरे में बैठ बाते कर रहे थे और कुछ देर बाद अब मै भी उनके पास चला गया। 

मनु को देख मेरा लंड एकदम उछाल मारने लगा क्युकी आज उसके बूब्स कुछ ज्यादा ही उठे हुए और बड़े दिख रहे थे। जैसे ही मै बैठा मेरी बेहेन उठी और चाय बनाने के काम से निचे चली गयी। 

चाय बनाने के लिए दूध नहीं था इसलिए मेरी बेहेन ने मुझे दूकान जाने के लिए भी बोला पर मनु के यहाँ होते हुए मेने अपनी बेहेन को दूध लाने से मन कर दिआ। अब मेरी बेहेन गुस्से में दूध लेने के लिए चली गयी। 

और भी नंगे किस्से: Hindi Sex Story

बेहेन की दोस्त को पढ़ाया हवस का पाठ

मै और मनु बहुत देर तक चुपचाप बैठे रहे और अब मेने ही मनु से कहा की क्यों ना हम दोनों कुछ खेले जिससे हमारा समय भी कट जाए। मनु ने भी मुझे अब हां में जवाब दिआ और मेने मनु से पूछा की उसे कोनसा खेल खेलना है 

मनु के पास कुछ भी जवाब नहीं था पर मेने अब मनु से कहा की क्या उसने कभी बड़ो वाला खेल खेला है ? मनु ने मुझे ना में जवाब दिआ और कहा की वह कोसा खेल होता है ?

मेने मनु से कहा की उस खेल मै एक लड़का और एक लड़की प्यार से एक दूसरे के ऊपर बैठते है और मजे करते है। मनु को कुछ भी समझ नहीं आया पर अब मनु ने कहा की उसे भी यह खेल खेलना है। 

मेने अब मनु को अपने ऊपर बैठने के लिए कहा। मनु को मेने अपने पेट पर बिठाया और अब मनु ने मुझसे पूछा की उसे अब क्या करना है। मेने मनु से थोड़ा पीछे होने के लिए कहा और मनु को अपने लंड पर बिठा लिआ। 

अब कुछ ही देर बाद मेरा लंड भी खड़ा हो गया जिसे मनु ने महसूस कर लिआ था। अब मनु को मेने कहा की उसे धीरे धीरे मुझ पर कूदना है और अगर मेरे मुह्ह से आवाज आयी तो मै हार जायूँगा। 

मनु ने ऐसा ही किआ और अब मनु की गांड मेरे लंड पर उछाल खा रही थी और शायद अब मनु को भी मजा आ रहा था। मनु मेरे लंड पर कूदे जा रही थी जिससे मेरा लंड बहुत मोटा और खड़ा हो गया था। 

मनु भी अब गरम होने लगी थी और चुत पर लंड की रगड़ खाने से उसकी चुत भी शायद गीली हो गयी थी। अब मनु थक गयी और मनु ने मुझे कहा की अब उसकी बारी है। 

गैर औरत की चुदाई से गुस्सा बीवी को भी अच्छे से चोदा और मनाया

मनु को किआ नंगा और चुत में लंड देके खूब पेला

अब में मनु की चुत के ऊपर बैठ गया और मनु ने मुझे कूदने के लिए कहा अब कूदते हुए मेने अपना लंड निचे की तरफ कर लिआ और मनु की चुत पर ऊपर से रगड़ने लगा। मनु को भी मजा आने लगा और अब मेने मनु के बूब्स अपने हाथ में लेके दबाने शुरू कर दिए। 

मनु की साँसे लम्बी होने लगी और मनु भी हवस से भर गयी। मौका देखते हुए मेने मनु की सलवार निचे करि और उसकी पैंटी को भी निकाल दिआ। चुत पर जैसे ही मेने हाथ लगाया वह पूरी गीली हो चुकी थी। 

अब मनु के होठो को चूमते हुए मेने मनु के बूब्स को दबाना जारी रखा और कुछ ही देर बाद लंड बाहर निकाल लिआ। मनु की गीली चुत पर मेने अपना लंड रखा और जोर के धक्के के साथ मनु की चुत में पेल दिआ और चुदाई शुरू की। 

मनु इतनी गरम हो गयी थी की मनु को दर्द नहीं हुआ और वह भी चुदाई का मजा लेने लगी। मै जोर जोर से मनु की चूत मे लंड पेलते हुए चुदाई का मजा ले रहा था और मनु भी नंगी अपनी चुत अच्छे से मरवा रही थी। 

इतने में मेरी बेहेन दूध लेके घर आ गयी और चुदाई का यह काम मुझे रोकना पड़ गया। मेने जल्दी से मनु को कपडे पहनने को कहा और बाद में हम दोनों ने चाय पी और मनु घर चली गयी। 

Leave a Comment