माल बेहेन को चोदा मजे ले ले के – 2

उफ … उसके बड़े बड़े रसीले चूचे देखकर मेरे शरीर में करंट दौड़ गया। मैं उसके बड़े चूचों को रसीले आम की तरह मुंह में भरकर चूसने लगा और दबाने लगा। वो भी मदहोश हो चुकी थी, उसे भी मजा आने लगा था।

बीच बीच में मैं उसकी पैंटी के अंदर हाथ डालकर उसकी झांटों से भरी चूत को भी रगड़ देता था जो अब तक गीली हो चुकी थी और रस छोड़ रही थी। उफ … मैंने अपनी उंगली उसकी चूत में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा।

वो उफ्फ … अहह … अह … की मनमोहक आवाजें निकालने लगी जिससे मुझे और मजा आने लगा। मैंने अपनी उंगली उसके मुंह में डाल दी। फिर मैं उसके मुंह के पास आगया और फिर उसने मेरा पैंट उतार दी।

मेरा लौड़ा अब उसके मुंह के सामने फनफना कर बाहर निकल आया। वो मेरे लंड का साइज देखकर चौंक गयी। यह उसके अन्दाज से कुछ ज्यादा ही बड़ा था। उसने बोला- अहह राहुल, मैंने सोचा नहीं था कि तुम्हारा लंड इतना बड़ा होगा।

और फिर वह मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़कर हिलाने लगी। उसे मेरा लौड़ा पकड़कर हिलाने में काफी मजा आ रहा था। फिर मैंने लौड़ा उसे मुंह में लेने को बोला। उसने ज्यादा नखरे नहीं दिखाए और सीधा मेरा लौड़ा अपने मुख में भर लिया।

हवसी लड़की और उसकी चुदाई की कहानी – 1

चुत को चाटने से हो गयी सिस्टर पागल

‘अहह उफ्फ!’ मैं बोलने लगा- उफ्फ अर्चना … और जोर से चूसो! उफ्फ … बहुत मस्त चूसती हो तुम! वो भी गुप्प गुप्प करके लौड़ा मुख में लेकर चूसने लगी। उसके थूक से मेरा लौड़ा गीला होकर और भी टाइट हो गया।

मैंने 2-3 झटके मार कर पूरा लौड़ा उसके मुख में घुसेड़ा। तो वो खाँसने लगी। वो मेरा आधा लौड़ा ही लेकर चूस पा रही थी बस! फिर मैं उसकी चूत के पास अपना मुंह ले आया और उसकी चूत में फिर से उंगली डाल दी जो अब तक बहुत ज्यादा गीली हो चुकी थी।

मैं उसकी चूत में जीभ घुसेड़ कर चाटने लगा। वो पागल सी होने लगी, मेरा सर पकड़कर अपनी चूत में घुसेड़ने लगी। 5 मिनट तक चाटने के बाद उसने मेरे मुंह में ही अपनी चूत का सारा पानी छोड़ दिया।

उफ्फ … मैं उसकी चूत से निकल हुआ सारा गर्म पानी चाट गया। अब बारी थी कज़िन सिस पोर्न के असली खेल की! हम दोनों पूरे नंगे हो चुके थे। मैंने उसकी दोनों टांगे खोली और अपना लंड लगाया उसकी रसीली झांटों से भरी बुर पर … जो पहले से ही फटी थी।

जब मैंने लौड़ा अंदर डालने की कोशिश की, लौड़ा अंदर नहीं गया एक बार में! उसकी चूत टाइट लग रही थी या मेरा ही लंड बड़ा था। फिर मैंने चूत पर थोड़ा थूक लगाया और फिर से लंड चूत में डालने की कोशिश की।

चुत की खुजली ने दिआ प्यार का दर्द – 1

चुदाई के बाद बेहेन हो गयी बहुत खुश

मैंने उसको अपनी बांहों में भर लिया और एक स्तन अपने मुंह में ले लिया और फिर लंड चूत में पेल दिया। ‘उफ्फ’ निकल गयी उसके मुंह से! मेरा आधा लन्ड उसकी चूत में जा चुका था।

फिर मैंने धीरे धीरे झटके लगाने शुरु किये और उसके दूध चूसता रहा जिससे उसे मजा आने लगा। वो बोली- पूरा लंड अंदर डाल दो! मैंने वैसा ही किया। अब हम चुदाई करने लगे, पूरा कमरा ‘अहह उफ्फ चोदो … उफ्फ … क्या मस्त माल हो तुम अर्चना … उफ्फ तुम्हारा लौड़ा बहुत मस्त है … हाय रे!’

इन सब आवाजों से भर गया। मैंने उसको अपनी बांहों में जोर से जकड़ लिया था। वो छूटने की नाकाम कोशिश कर रही थी। फिर वो साथ देने लगी और गांड हिला हिला के चुदवाने लगी।

उसे भी मजा आने लगा था, वो चिल्ला रही थी- अहह उफ्फ्फ राहुल … पूरा डालकर चोदो। और उसे दर्द भी हो रहा था। वो अब तक 1 बार झड़ चुकी थी। हम दोनों पसीना पसीना हो चुके थे।

अब मैंने उसे उल्टा बैठा कर घोड़ी बनाया और चूत पर ढेर सारा थूक लगाया और पीछे से चढ़कर जोर जोरदार से झटके मारकर चोदने लगा। साथ साथ मैं उसके दूध दबाता जा रहा था जोर जोर से! फिर उसे मैंने 2 तरीके से फिर खड़े करके 20 मिनट तक चोदा।

मेरा लंड अब झड़ने वाला था। वो भी अब तक बहुत थक चुकी थी और वो अब दूर हट गई मुझसे! फिर मैंने उसके ऊपर अपना लंड हिलाक़र पानी निकाल दिया उसकी चूत के ऊपर ही! अहह! उसकी चूत लाल हो चुकी थी और मेरा लंड उसकी चूत के पानी से पूरा गीला हो चुका था।

फिर हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर 10 मिनट तक लेटे रहे। वो काफी खुश दिख रही थी। इस चुदाई के बाद यह बात उसने खुद बोली। थोड़ी देर बाद मैं अपने घर चला आया।