भाई और बेहेन का रात वाला प्यार 

मेरा नाम मनोज है और यह मेरी और मेरी बेहेन की कहानी है जो की दिखने में भी बहुत ही ज्यादा सुन्दर और सेक्सी थी। उसका नाम प्रीति थी और उसे हम सब बहुत ही प्यार से प्रिय कहते थे। 

घर में उसे सब लोग बहुत ही ज्यादा प्यार करते थे पर वह ज्यादा प्यार की वजह से काफी बिगड़ भी गई थी। वह ज्यादातर घर से बहार ही रहा करती थी और उसे कहने के लिए हमारे पास शब्द भी नहीं होते थे। 

अब मेरी भी बढ़ती उम्र के साथ मुझे भी जिस्मानी भूख होने लग गयी थी पर मुझे कभी अपनी बेहेन को देख कर बुरे ख्याल नहीं आये। पर एक दिन की बात है जब प्रिय मेरे कमरे में आयी और मेरे ऊपर आकर बैठ गयी। 

उसने आज बहुत ही टाइट सी टीशर्ट पहनी हुई थी जिसमे उसके बूब्स बहुत ही मोटे लग रहे थे और उसे ऐसे देखते ही मेरे लंड में उछाल आ गया और मेरे लंड ने एकदम ही जोर ले लिआ। यह शायद प्रिया ने भी महसूस कर लिआ था इसलिए वह जल्दी से मेरे लंड से उतर गयी थी। 

अपनी बेहेन का ऐसा रूप देख कर अब मेरे दिल में बेचैनी होने लगी थी और मेरे मन में बस उसकी चुदाई के ही ख्याल आये जाए रहे थे। अब रात हो चली थी और मेरी बेहेन वापस से मेरे कमरे में आयी। 

उसने मुझे कहा की उसके फोन में कुछ दिक्कत आ गयी है जो की मै देख लू। मेने उसका फोन लिआ और उसे सही करके दे भी दिआ। पर अब वह अपने कमरे में नहीं गयी और मेरे साथ ही लेट गयी। 

भाई ने मारी मेरी चुत और कर दिआ मुझे प्रेगनेंट – 1

बेहेन ने रात में दिआ साथ 

उसका मुह्ह मेरी ही तरफ था और उसके होठो की वजह से उसके बूब्स बिच में दब गए थे जिससे वह और भी ज्यादा मोटे दिखने लगे। उसे देख कर अब मेरे लंड ने वापस से तान ले ली थी। 

पर कुछ ही देर बाद प्रिया दूसरी तरफ मुह्ह करके सो गयी। अब मुझसे रुका नहीं जा रहा था और मेने अपने जिस्म को उसके जिस्म से चिपकने की सोची जिससे मेरा लंड उसकी गांड पर लग रहा था। 

मै बहुत ही धीरे धीरे आगे बढ़ रहा था पर एकदम से अब प्रिया पीछे हुई और मेरे लंड से उसकी गांड एकदम चिपक गयी। मुझे बहुत मजा आने लगा पर मेरी गांड भी फटने लगी थी। 

अब शायद प्रिया भी उठ गयी थी कुकी वह धीरे धीरे हिलते हुए अपनी गांड मेरे लंड से घिस रही थी। अब अचानक से मेने अपने लंड पर एक हाथ महसूस किआ जो की प्रिया का ही था। 

मेरी बैठें मेरे लंड को अपने हाथ से अब हिलाने लगी थी जिससे मेरा लंड पूरा टाइट हो गया था। निचे ही अब उसने अपने हाथ से मेरे लंड को बाहर निकाल लिए और अपनी पजामी निचे करते हुए चुत में लेने लगी।

पति के जाने पे की हवस पूरी – 3

जोशीली बेहेन को पीछे से चोदा 

मै भी अब जोश में था और मेने अपना लंड उसकी चुत के छेद से मिलते ही अंदर देना शुरू कर दिआ और जोर जोर से आहे पीछे होक चुदाई करने लग गया। प्रिया आह आह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्ह करते हुए मेरा लंड अंदर ले रही थी और जोर जोर से अपना लंड चुत में पेल रहा था। 

अब मेने अपना लंड कुछ देर के लिए बहार निकाल लिआ और प्रिया को घुमा लिआ। उसका मुह्ह अब मेरी तरफ था और उसने अपनी आंखे बंद कर ली। मेने अब अपने होठ उसके होठो से मिलाये और किस करने लगा। 

वह भी मेरी किस का पूरा मजा लेते हुए जवाब दे रही थी और अब मेने उसकी टांग ऊपर करती हुए अपने लंड को चुत में वापस से घुसा दिआ। होठो का रस चूसते हुए मै उसकी चुदाई करने लगा। 

और वह उम्म्म उम्मम्मम्म धीरे धीरे से करो ऐसा बोलते हुए मुझसे चुदने लग गयी। उसकी आहे तेज होती जा रही थी और मेरा लंड उसकी चुत में अंदर बाहर होने ककी वजह से पूरी तरह से गिला हो गया था। 

मै पूरी तेजी के साथ अपना लंड चुत में घिस रहा था जिससे उसकी चुत का दाना मसल रहा था और वह बहुत ही ज्यादा कामुक होती जा रही थी। साथ ही साथ मै उसके बूब्स की निप्पलों को चूसते हुए उसे और भी ज्यादा मादक कर रहा था। 

और ऐसे ही लगातार चुदाई के बाद अब मुझे लगने लगा था की मेरे लंड से वीर्य की पिचकारी जल्दी आने वाली है। और कुछ जोरदार धक्को के बाद अब मेरे लंड ने सारा माल उसकी चुत में छोड़ने की तैयारी कर ली। 

पर मेने अंत में अपना लंड जल्दी से चुत से अलग कर दिआ जिससे सारा माल उसकी चुत के मुह्ह पर ही गिर गया और वह नंगी मेरे साथ लेटी रह गयी। 

Leave a Comment