भाभी को प्यार से मनाके किआ सेक्स के लिए राजी

मै अभी 21 साल का ही था और मेरा भाई मुझसे 2 साल यानी 23 का हो चूका था। भाई की शादी हुए अब 1 महीना करीब हो चला था और भाभी भी हम सभी लोगो से घुल मिल गयी थी। 

भाभी दिखने में खूबसूरत तो नहीं थी पर उनका बदन किसी अप्सरा से कम नहीं था। भाभी के चूतड़ एकदम पीछे से गोल और मोटे थे और भाभी की छाती पर भी 2 बड़े ही मुलायम और मोटे बूब्स थे। 

भाभी को देख मेरा दिल कई बार उनकी चुदाई का करने लग जाता और इसलिए मै कई भाभी के नाम की मुठ भी मार लिआ करता था। भाभी और मै हमेशा मजाकिए अंदाज में एक दूसरे से बाते किआ करते थे जिससे हम दोनों को ही अछा लगता था। 

अब एक दिन यु हुआ की मै बाथरूम में भाभी के नाम की मुठ मार ही रहा था और मै दरवाजा अंदर से बंद करना भूल गया। भाभी का जैसे ही नहाने का समय हुआ भाभी भी जल्दी करती हुई आयी और उन्होंने बाथरूम का गेट खोल दिआ। 

जैसे ही भाभी ने गेट खोला मेरा लंड मेरे हाथ में था और मेरा नागा बदन भाभी साफ़ साफ़ देख रही थी। भाभी ने मुझे देखते ही एकदम दरवाज बंद कर दिआ और मुझे जल्दी से नहाने के लिए आवाज लगाई। 

अब मै बिना मुठ मारे ही भाभी के सामने से बाथरूम से निकल गया। अब कुछ देर बाद भाभी ने मुझे बड़े ही आराम से अपने पास बुलाया और बिठा लिआ। भाभी ने मुझे कहा की जो मै कर रहा था वह इस उम्र में सह नहीं है। 

अब जैसे ही भाभी ने मुझे ऐसी बाते कहना शुरू करि मेरा गुस्सा और भी ज्यादा बढ़ गया। भाभी से बात करते ही मर एकदम गुस्से में आ गया और भाभी से बोल दिहा की यह चीजे उन्ही की वजह से मुझे करनी पड़ती है।

जीजा जी को दे दी अपनी चुत और चुदाई हुई जमके

भाभी को चुदाई के लिए मनाया

भाभी को कुछ समझ नहीं आया और भाभी ने अब मुझसे पूछा की उनकी वजह से यह सब कैसे हो सकता है। अब मौका देखते हुए मेने भाभी की तारीफ करना शुरू कर दी की कैसे उनको देख मै गरम होने लगता हु और वह कितनी सुन्दर है। 

अब भाभी थोड़ी सी पिघल गयी थी पर भाभी ने  मुझे कहा की मै यह सब आगे से उनकी वजह से ना करू। अब मेने भाभी से बोला की यह सब रोकने में सिर्फ वही मेरी मदद कर सकती है। 

भाभी ने मुझसे पूछा की उन्ही मेरी क्या मदद करनी होगी। मेने अब भाभी से कहा की बीएस एक दिन क लिए उन्हें मेरी बीवी बनके रहना होगा। भाभी अब बहुत देर तक मुझसे कुछ भी ना बोली और सोचती रही। 

अब  मेने भाभी को मनाया की उनके सिवा मेरी कोई और मदद नहीं कर सकता इसलिए उन्हें अगर यह मंजूर है तो वह मेरी मदद कर सकती है। अब भाभी ने थोड़ी देर सोच कर बोलै की उन्हें यह बात मंजूर है। 

अब जैसे ही अगला दिन शुरू हुआ भाभी मेरी बीवी बन गयी और अब भाभी के शरीर और मन दोनों पर मेरा हुकुम लागू होता था। अब भाभी के पास जाते हुए भाभी से कुछ रोमेंटिक बाते  करना शुरू हो गया। 

भभ भी मुझे उनके पति के जैसे ही समान दे रही थी और बाते भी कर रही थी। अब भाभी से मेने कहा के मुझे उन्हें अपने गए लगाना और एक बीवी होने के नाते यह उनका फ़र्ज़ है। 

भाभी को गले लगाते ही भाभी के दोनों बूब्स मेरी छाती से छू गए जुस्से मेरा लंड खुद ही खड़ा हो गया। भाभी को शयद मेरा लंड अब महसूस भी हो गया हो पर मेरा लंड उन्हें सलामी दिए जा रहा था। 

स्कूल की मैडम की करवाई घर बुलाकर चुदाई

भाभी को गरम करके मारी भाभी की चुत

भाभी अब मेरी बात में आने लगी थी और मै उन्हें अपने और भी ज्यादा करीब ले आया। अब भाभी के होठ मेरे सामने थे जिनपर मेने अपने हॉट भी छुवा दिए और मै और भाभी अब एक दूसरे में खो गए। 

अब भाभी और मै एक दूसरे के होठो को बुरी तरह से चूसे जा रहे थे और भाभी अब पूरी गर्म हो गयी थी। कुछ ही देर बाद भाभी को मेने अपने हाथो स नंगा कर दिआ और अब भाभी मेरे लिए खुला मौका थी। 

अब मेने भाभी की चुत पर जाते हए उनकी चुत को कुछ देर तक सहलाया और भाभी को गर्म ही रखा। भाभी की चुत मै अपनी जीभ से चूसे जा रहा था जिससे वह बहुत ही ज्यादा कामुक होने लगी थी। 

अब भाभी ने मेरे कपडे भी जल्दी से निकलवा लिए और मेरा लंड  देख भाभी खुश दिखाई दे रही थी। भाभी ने इतना बड़ा लंड शयद ही कभी देखा था इसलिए वह इसे अपनी चुत  में लेने के लिए पागल सी हो गयी थी। 

अब मेने अपना लंड बाहर निकला और भाभी की चुत में घुसाना शुरू कर दिआ। एक ही धक्के में भाभी की चुत में मेरा लंड घुस गया था और अब मेने तेजी से भाभी की चुदाई करना शुरू कर दिआ। 

भाभी मुह्ह से आह्ह्ह्ह अहह जैसी आवाजे निकाल जा रही थी जिसके बाद मेरा हौसला और बढ़ गया और मेने भाभी की चुत गहराई में लंड देते हुए चुदाई करनी  चालू कर दी। 

कुछ ही देर बाद मेरा लंड भी अब अकड़ने लगा था। भाभी की चुदाई तेजी से करते हुए एकदम मेरा वीर्य निकल गया जो मेने भाभी की चुत में ही घुसा दिआ 

Leave a Comment