हवसी लड़की और उसकी चुदाई की कहानी – 1

दोस्तो, मेरा नाम राकेश है। मेरी हाइट 5।8 फीट है। मेरा शरीर एथलेटिक है। मेरे लिंग का साइज भी ठीक है जो एक चूत को संतुष्ट करने के लिए काफी है। जहां मैं काम करता हूं वहां पर एक रजनीश नाम का लड़का था। 

वो काफी अच्छा था और उसने ही पहली बार मुझे एक लड़की से मिलवाया। उस लड़की का नाम था मीनाक्षी। उसके शरीर की बनावट एकदम किसी हीरोइन की तरह थी। जब मैंने पहली बार उसको देखा तो देखता ही रह गया। 

उसका फिगर 36-28-36 का था। मेरे दोस्त ने जब उसको मेरे से मिलवाया तो मुझे यकीन ही नहीं हुआ कि ये लड़की मेरे साथ सेक्स करने वाली है। उसको देखते ही मेरा तो लंड खड़ा होने लगा था। उसकी हंसी भी बहुत मादक सी थी। 

उस वक्त तो हमने नॉर्मल बातचीत ही की। इस दौरान वह काफी खुल गयी। मुझे पता चला कि वह काफी खुले विचारों वाली लड़की है। उसके दो बच्चे भी थे। ऐसे ही उससे बात होने लगी। हम कई महीनों तक तो बातें ही करते रहे। 

इस दौरान हम सेक्स चैट और फोन सेक्स भी करने लगे थे। अब दोनों तरफ ही पूरी आग लगी हुई थी। हम दोनों सेक्स करना चाहते थे। इसके लिए हमने अपना प्रोग्राम सेट किया। मैंने फैसला किया कि दोस्त के रूम पर चुदाई करेंगे। 

मैंने दोस्त को बोल दिया कि एक दिन के लिए मुझे उसका रूम चाहिए है। दोस्त ने पूछा कि क्यों चाहिए तो मैंने बहाना बना दिया। मैंने उसको ये नहीं बताया कि मैं उसी भाभी को उसके रूम पर चोदने वाला हूं।

आंटी ने सिखाई चुदाई चुत की – 1

भाभी की चुदाई का होने लगा इन्तजार

अब मैं इंतजार करने लगा कि कब मेरा दोस्त एक दिन के लिए कहीं बाहर जायेगा और मुझे भाभी की चुदाई का मौका मिलेगा। फिर एक दिन दोस्त का फोन आया कि रूम अगले दिन फ्री रहेगा। ये सुनकर मेरा तो लंड ही खड़ा हो गया। 

भाभी की चुदाई के सीन अपने आप ही ख्यालों में आने लगे। मैंने तुरंत मीनाक्षी को फोन किया और कहा कि कल किसी भी तरह से तुम्हें दिन में फ्री रहना है। वो चुदने के लिए तरस सी रही थी इसलिए उसने तुरंत हां कर दी। 

अगले दिन फिर मैं उसे लेने के लिए बताई हुई जगह पर गया। प्लान के मुताबिक हमने ऐसा समय तय किया था जब उसके बच्चे स्कूल चले जाते थे और उसका पति काम पर चला जाता था। उस वक्त वो घर को लॉक करके कहीं भी आ सकती थी। 

उसने हल्के गुलाबी रंग की एक साड़ी पहनी हुई थी। उसमें वो ऐसी लग रही थी जैसे बगीचे में कोई गुलाब खिला हो। उसके होंठों पर गहरी लाली थी और चेहरे पर कमाल की चमक थी। लग रहा था जैसे दूध में नहाकर आई हो। 

फिर मैं उसे लेकर दोस्त के रूम पर गया। जाते ही दरवाजा बंद किया और हमने एक दूसरे को बांहों में भर लिया। वह मुझे मेरे होंठों पर किस करने लगी और अपना हाथ नीचे ले जाकर मेरे लन्ड पर फेरने लगी। 

ऐसा करने से मुझे काफी मजा आ रहा था। थोड़ी देर तक हम दोनों एक दूसरे को चूसते रहे। वो भी मेरा साथ देती रही। उसके होंठों की सारी लाली मेरे मुंह में जा चुकी थी। दोनों के होंठ लाल हो गये थे। उसके बाद मैंने उसे अपने से अलग किया। 

फिर मैंने रूम में देखा और सोचा कि थोड़ी बियर और पी लेते हैं। मैंने अपने दोस्त के फ्रिज से बियर की बोतल निकाली। मुझे पता था कि वो कमीना हर वक्त बियर तो फ्रिज में जरूर रखता है। 

मैंने उससे पूछा- तुम लोगी? उसने कहा- हां, क्यों नहीं! मैं तो कई बार पीती हूं अपनी सहेली के साथ। इस पर मैं मुस्करा दिया। मीनाक्षी भी पूरी ऐश करने वाली लड़की थी। फिर हमने साथ में बियर पी।

नौकरी करने वाली को चोदा – 1

नशे में करने लगे दोनों किस

उसके बाद जब हमें नशा होने लगा तो हमने फिर से किस करना शुरू कर दिया। वह मुझे पागलों की तरह चूमे जा रही थी। चूमते हुए वो मेरे होंठों को काटने लगी थी। मुझे दर्द हुआ तो मैंने उसको रोका। 

मैं तो हैरान था कि उसके अंदर कितनी आग थी मर्द के लिए। एक तो चुदक्कड़ रंडी होती है जिसको केवल चूत में लंड चाहिए होता है। मगर मीनाक्षी को लंड के साथ साथ रोमांस करने का भी बहुत शौक था। 

उसे रोकते हुए मैंने कहा- बहुत टाइम है हमारे पास! आराम से कर लो। वो बोली- बहुत टाइम कहां है, 2 बजे तो मेरे बच्चे स्कूल से आ जाते हैं। मुझे दोपहर एक बजे तक घर पहुंचना ही होगा। मैं बोला- कोई बात नहीं, अभी 10।30 का समय हुआ है। 

अगर लेट हुआ तो मैं छोड़कर आ जाऊंगा। वो बोली- नहीं, तुम वहां मत आना। किसी ने देख लिया तो मुसीबत हो जायेगी। फिर मैंने उसको अपनी बांहों में कसते हुए कहा- ठीक है मेरी जान, तो चलो फिर पूरा मजा लेते हैं। 

इतना बोलकर हम दोनों एक दूसरे को फिर से किस करने लगे। अब मेरे हाथ उसके चूचों पर पहुंच गये थे। मैं उसके स्तनों को दोनों हाथों में लेकर भींचने लगा और वो मेरे लंड पर हाथ फिराती हुई मेरे होंठों को चूस रही थी। 

उसके हाथ कभी मेरी कमर तो कभी मेरे चूतड़ों पर जा रहे थे। मैंने उसे बोला कि तुम सबसे पहले मेरा लन्ड चूसो। उसने तुरंत ही मेरी पैंट को खोला और चड्डी समेत उसे नीचे उतारा। मेरा लौड़ा एकदम से उछल कर उसकी नाक के सामने आ गया। वो मेरे लन्ड को हाथ में लेकर आगे पीछे करने लगी। फिर बोली- यह तो काफी अच्छा है।

Leave a Comment