सुहागन भाभी को दिआ बच्चा और मुझे मिली चुदाई

यह कहानी मेरे सामने वाले घर में रहने वाली भाभी की है जो कुछ एक साल पहले ही यहाँ रहने के लिए आयी थी। भाभी बहुत ही सुन्दर मीठी आवाज वाली और एक  मलिका थी। 

भाभी को देख  कोई भी मदहोश हो सकता था और  भाभी की  सुन मुझे भी उनसे प्यार हो ही गया था। पर भाभी एक बहुत ही अच्छी औरत थी जिसके बारे में बुरा सोचना मुझे भी सही नहीं लगा था। 

पर भाभी की शादी के 3 साल बाद भी उन्हें कोई बच्चा नहीं था और यह बात सभी को पता थी। पर यह बात अभी तक किसी को भी नहीं पता थी की कमी भाभी की कोक में है या भैया के जोश में। 

भाभी इस बात से हमेशा बहुत ही परेशान सी रहती थी पर भाभी यह बात किसी को भी पता नहीं लगने देती थी। भाभी बहुत ही हसमुख चेहरा रखती थी  ताकि उनके  दिल की मायूसी किसी को भी ना दिखाई दे। 

पर वह मेरे घर के सामने रहती थी इसलिए मुझे उनका उदास चेहरा भी कई बार दिख जाता था और आज मेने फैसला कर ही लिआ की मेंभभी से इस बारे में बात करके ही अपने घर में ायूँगा। 

अब भाभी अब घर के बाहर बैठी थी मेने भाभी से पूछा की वह हमेशा इतनी उदास ही क्यों रहती है।  शुरू में तो भाभी ने मेरी बात नहीं मानी पर बाद में भाभी ने मुझे खुद कह दिआ की वह बच्चे ना होने की वजह से बहुत परेशान रहती है। 

उन्होंने अपने पति से भी यह कहा था की वह दोनों अपना इलाज कराते है जिससे कमी किसके अंदर है पता लग जायेगा पर भाभी के पति इस बात से भी नहीं माने थे। 

भाभी ने नहाते हुए कराई अपने जिस्म की चुदाई 

भाभी को संभाला और भाभी ने माँगा मुझसे कर्ज 

अब भाभी निचे मुह्ह करके रोने लगी और एकदम से उठ के घर के अंदर चली गयी।  मै भी जल्दी जल्दी भाभी के पीछे  गया और उनके  कमरे में पहुंच गया। भाभी बेथ रो रही थी और मेने भाभी को चुप होने के लिए कहा। 

मेने भाभी को पानी दिआ और भाभी अब शांत हो गयी थी। मेने भाभी से कहा की वह उदास ना हुआ करे और अगर वह अकेला महसूस करे तो मे उनसे बात करने के लिए हमेशा यही हु। 

अब भाभी ने मेरा हाथ पकड़ा और भाभी ने मुझ से कहा की उन्हें मेरा साथ चाहिए ताकि वह अपना एक सपना पूरा कर सके। मेने भाभी से कहा केसा सपना ?  भाभी ने मुझे कहा की उन्हें एक अपना बच्चा चाहिए। 

उन्होंने कहा की मै उन्हें एक बच्चा दे दू जिससे वह कभी अकेला महसूस ना करे। यह सुन मै चौक गया। पर भाभी ने कहा की वह यह बात किसी से नहीं कहेगी और सब कुछ खुद ही कर लेंगी। 

कुछ देर सोचने के बाद मै भाभी की बात मान गया और अब भाभी जल्दी से गयी और अपना गेट बंद कर लिआ। भाभी ने लाइट बंद कर दी जिससे थोड़ा ही उजाला कमरे में रह गया।   

अब भाभी मेरे ऊपर आयी और उनके बूब्स मेरे जिस्म पर  लगने लगे। मेरे होठो को चूमते हुए भाभी मेरे जिस्म को चूमे जा रही थी और मुझे गरम कर रही थी। अब भाभी ने रुकते हुए अपना ब्लूज खोला और ऊपर से नंगी होकर मुझपर लेट गयी। 

चाची की हॉट पिक्स और मेरा दीवाना लंड

भाभी ने बच्चे के लिए किआ सेक्स 

अब भाभी की पीठ पर मै अपने हाथ फेर रहा था और भाभी मेरे होठो को बारी बारी से चूसे जा रही थी। भाभी ने मुझे  भी ऊपर से नंगा कर दिआ और कुछ देर बाद वह मेरे लंड पर पहुंच गयी। 

उन्होंने मेरा लंड बाहर निकला और हिलाते हुए मुह्ह में लेके चूसने लगी। मेरा लंड कुछ ही देर में बहुत ज्यादा सख्त हो गया और अब भाभी ने अपनी साडी खोल दी और पूरी नंगी हो गयी। 

वह ऊपर चढ़ी और आह भरते हुए मेरे लंड को अपनी चुत में घुसाने लगी। कुछ देर बाद वह अपनी चुत में मेरा पूरा लंड ले चुकी थी और ऊपर निचे होते हुए वह मुझसे अपनी चुत चुदवाने लग गयी। 

मेरी छाती पर हाथ रखते हुए वह तेजी से  ऊपर निचे हो रही थी और मेरा लंड अपनी चुत में तेजी से अंदर तक ले रही थी। उनकी आहे मुझे और गरम कर रही थी और निचे से मै भी जोर जोर के धक्के भाभी की चुत में देने लगा। 

चुदाई बहुत जोर जोर से चल रही थी और अचानक मेरे लंड से पानी आने लगा था। मेने यह बात भाभी को बताई और वह अब जोर जोर से सीधी होकर मेरे लंड को अपनी चुत में लेने लग गयी। 

तेजी से चुदाई करने से मेरे लंड से वीर्य की एक जोर की पिचकारी निकली और भाभी की चुत में मेरा सारा वीर्य निकल गया और उसकी चुत से मेरा माल टपकने लगा। 

भाभी आज बहुत खुश थी और उस दिन के कुछ ही महीने बाद भाभी के पेट में मेरा बच्चा आ गया और भाभी अब अकेली नहीं थी। आज मेरा और भाभी का बच्चा 2 साल का हो गया है और यह बात हम दोनों के आलावा किसी को भी नहीं पता है। 

Leave a Comment