बारिश और भाभी की अनोखी चुदाई – 2

इसी जल्दबाजी में भाभी का पैर फिसल गया और वो गिर जाती अगर मैं उनको हाथ का सहारा ना देता। दीपिका मेरी बाँहों में गिरती गिरती बची और उसी तरह मेरी आँखों में देखने लगीं। 

इधर बारिश तेज हो गयी थी और हम दोनों भीग गए थे। भाभी गीले कपड़ों में और भी सुन्दर लग रही थी। मैंने मौके का फायदा उठाते हुए दीपिका की पीठ सहलानी शुरू कर दी और उनकी आंखें बंद हों गयी। 

मैं समझ गया कि दीपिका आज सब कुछ करना चाहती है। मैंने उनको वहीं छत पर कपड़ों पर लिटा दिया और उनके गुलाबी पंखुड़ियों जैसे होंठों का रसपान करने लगा। ऐसा लग रहा था जैसे मैं शहद को चख रहा हूँ। 

बारिश से भीगी दीपिका बहुत ही हॉट और सेक्सी लग रही थी। बारिश की बूंदे उस पर गिरकर उसे और मादक बना रही थी। भाभी ने साड़ी पहनी थी जो बिलकुल भीग गयी थी। 

मैंने देर ना करते हुए साड़ी को उतार फेंका और भाभी को ब्रा पैंटी में कर दिया. तब मैं भाभी का जिस्म चूमने चाटने लगा। भाभी आँखें बंद किये मेरे चुम्बन का मजे ले रही थी. हर जगह उनको किस करते हुए मैंने उनकी ब्रा को उतार फेंका और 36 के दोनों दूध को बेतहाशा चूमने लगा।

मम्मी की सहेली और चुदाई की पहेली – 2

बूब्स को दबाते हुए करने लगा गर्म

Xxx भाभी अब काबू के बाहर होने लगीं और तड़फने लगी। मैं दीपिका के दूधों को बारी बारी से पीने लगा और उसको और तड़फाने लगा। भाभी बारिश में भी पूरी गर्म हो चुकी थी और आआ आह ह्ह्ह हहा आआ उम्म की आवाजें निकाल के मुझे और उकसा रही थी। 

दीपिका ने मेरा लण्ड पकड़ लिया और मेरे शॉर्ट्स में से बाहर निकाल कर उसे सहलाने लगी। मैंने भी देर ना करते हुए दीपिका कि पैंटी उतार कर उसको पूरी नंगी कर दिया। 

दीपिका मेरा लंड पकड़ कर सहला रही थी तो मैं उसकी चूत को सहलाने लगा। अब हम दोनों नंगे एक दूसरे को चूम चाट रहे थे और बारिश का मजा ले रहे थे। मैंने दीपिका को 69 में आने को कहा तो वो झट से मेरा लंड चूसने लगीं और मैं उसकी चूत चाटने लगा। 

दीपिका बड़े प्यार से मेरा 7 इंच लम्बा लंड चूस रही थी और मैं उसकी चूत को जीभ से चोद रहा था। लगभग 5 मिनट की चुसाई में ही दीपिका ने अपना पानी छोड़ दिया और मैं इसका सारा नमकीन पानी पी गया।

 बहुत स्वाद था दीपिका की चूत का पानी। अब मैं हॉट भाभी दीपिका के ऊपर आ गया और उसको पैर खोलने को कहा। भाभी ने अपने पैर खोले और मैंने अपना सख्त लंड उसकी चूत पर रख दिया। 

धीरे धीरे रगड़ लगाते हुए मैंने दीपिका के होंठ चूसने चालू रखे। जब दीपिका भी नीचे से चूत उठाने लगी तो मैंने जोर के झटके के साथ पूरा लंड अंदर डाल दिया। दीपिका की चीख निकल गयी लेकिन मैंने उसके होठों को अपने होठों की गिरफ्त में ले लिया और जोरदार चुदाई करने लगा।

सेल की बीवी की हवस और मै – 1

चुदाई से होने लगा दर्द

अब दीपिका की आँखों से आंसू निकलने लगे और मैंने उसे जोर जोर से चोदना शुरू कर दिया। मैं दीपिका को चोदते हुए उसके होंठ और दूध को किस करके उसको और कामुक बना रहा था। 

बारिश में दीपिका मेरे लंड से चुद रही थी और मैं उसको फुल स्पीड से चुदाई का मजा दे रहा था। पूरे 20 मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद मेरा झड़ने वाला था तो मैंने अपने लंड बाहर निकाला और भाभी के मुंह में डाल दिया। 

मैंने दीपिका के मुंह में सारा माल छोड़ दिया और वो पूरा माल मजे से पी गयी। दीपिका ने मेरा लंड चूस चूस के साफ़ कर दिया और एक बार फिर खड़ा कर दिया। 

इस तरह उस तेज बारिश में मैंने Xxx भाभी दीपिका को तीन बार चोदा और उसे अपने लंड की दीवानी बना दिया। लेकिन हमें दुबारा कभी चुदाई का मौका नहीं मिला। आज भी जब कभी मुझे दीपिका की याद आती है तो उसके नाम की मुठ मार लेता हूँ। काश फिर कभी दीपिका की चुदाई का मौका मिले!