भाई बेहेन का अनोखा प्यार और हवस के दिन

मै अपनी बेहेन से 2 साल ही छोटा था इसलिए हम दोनों एक दूसरे से खुल कर बाते कर लिआ करते थे।  मुझे मेरी बेहेन के हर बॉयफ्रेंड के बारे में भी पता रहता था और वह मुझसे अपनी साड़ी बाते साझा किआ करती थी। 

ऐसे ही हम दोनों साथ में बड़े होते जा रहे थे और साथ ही साथ हम दोनों का रिश्ता भी अच्छा होता जा रहा था। हम लोग साथ में खेलते पढ़ते और बाहर भी घूमने जाया करते थे। 

पर अब दीदी मुझ से कुछ काम बाते करने लगी और वह थोड़ी उदास भी रहने लगी थी। दीदी का ऐसा बर्ताव देख मेने दीदी से पूछा की क्या उन्हें कोई बात परेशान कर रही है जो वह मुझे नहीं बता रही है। 

दीदी ने रट हुए मुझे कहा की उनका उनके बॉयफ्रेंड से झगड़ा हो गया है और अब वह दोनों साथ नहीं है। दीदी काफी देर तक मेरे सामने रोई और कुछ देर बाद मुझे गले लगाकर भी रोती रही। 

अब कुछ देर बाद मेने उन्हें चुप कराया और कहा की बॉयफ्रेंड चला गया तो क्या हुआ हम दोनों तो अभी भी साथ है जो खुल कर बाते और मजे भी कर सकते है। दीदी ने कहा की मै उनका भाई हु और भाई कभी बॉयफ्रेंड की जगह नहीं ले सकता। 

मेने कहा की हम दोनों शुरू से साथ में बड़े हुए हैऔर हम दोनों में प्यार भी बहुत है तो मै उनके बॉयफ्रेंड के जैसा ही हु जिससे वह सब कुछ कह सकती है और बता बह सकती है। 

दीदी ने कहा की बॉयफ्रेंड वाले भाव वह मेरे साथ साझा नहीं कर सकती।  भाई होने की वजह से वह मेरे साथ कई चीजे भी नहीं कर सकती है क्युकी मम्मी और पापा को यह सब पता चला और वह बहुत गुस्सा होंगे। 

मेने अपनी बेहेन से कहा की मम्मी और पापा को आजतक हम दोनों ने कोई भी बात नहीं बताई है तो यह बात भी हम क्यों बताएंगे। अब दीदी मुझे समझने लगी और मेरी हाँ में हाँ मिलाने लगी। 

चाची की चुत से निकाल दिआ चोद चोद के पानी

दीदी और मै आ गए हवस में 

अब मेने दीदी को उठाया और कहा की वह मुझे गए लगा सकती है जिससे उन्हें भी थोड़ा अच्छा लगेगा। मेरी बेहेन अभी रोकर चुप ही हुई थी और वह उठी और सीधा मेरे जिस्म से लिपट गयी। 

मेरी बेहेन के चुचे मेरे शरीर पर लगते ही मेरे लंड में तनाव सा आ गया जिसे मेरी बेहेन ने भी महसूस कर लिआ। मेरी बेहेन काफी देर तक मेरे जिस्म से लिपटी रही और मेने भी उसे कसकर पकड़ रखा था। 

अब मेरी बेहेन थोड़ी बाद मुझसे अलग हुई और मेने उससे पूछा की अब वह केसा महसूस कर रही है। मेरी बेहेन मुस्कुराई और कहा की उसे अब थोड़ा सा अच्छा लग रहा है। 

मेने कहा की वह अब देख सकती है की एक भाई भी बॉयफ्रेंड की जगह ले सकता है अगर बेहेन चाहे तो। मेरी बेहेन हसी और कहा की ऐसी बात है तो वह मुझे फिर से गले लगाना चाहती है। 

मेने फिर से अपनी बाहे खोली और वह सीधा मुझ में समां गयी।  इस बार मेरी बेहेन ने मुझे पिछली बार से भी ज्यादा टाइट गले लगा रखा था और उसके बूब्स मेरे सीने पर धस गए थे। 

अब मेरी बेहेन ने मेरी आँखों में देखा और थोड़ा सा मुस्काई और कहा की क्या वह मुझे अपने बॉयफ्रेंड की तरह चुम भी सकती है। मेने थोड़ा सोचा और अपनी बेहेन से हां कहा और कहा की वह कमरे का दरवाजा भी बंद कर आये जिससे मम्मी पापा अंदर ना जाए। 

अब मेरी बेहेन जल्दी से गयी और कमरे का दरवाजा लगा आयी और मुझे अपनी बाहो में ले लिआ। दीदी का चेहरा मेरे सामने था और उनकी गरम साँसे मै महसूस कर रहा था। अब दीदी ने अपनी आंखे बंद करि और सीधा अपने होठ मेरे होठो से लगा दिए। 

यह एहसास बहुत ही अलग था और दीदी मेरे होठो को चूसना शुरू हो गयी। मै भी दीदी के होठो का रसपान करे जा रहा था जिसके बाद हम दोनों ही हवस से भर चुकी थे। अब हम दोनों भाई बेहेन के रिश्ते से ऊपर आ गए थे और दीदी मेरे होठो को हवस के साथ चूमे जा रही थी। 

हॉट किरायेदार की मस्त चुदाई का किस्सा

बेहेन की चुत मारी और दिआ बॉयफ्रेंड वाला प्यार

दीदी मुझे अब बिस्तर पर ले गयी और मेरे होठो को लगातार चूसते हुए मुझे लिटा दिआ। अब दीदी ने मेरी शर्ट के बटन खोलते हुए मेरे जिस्म पर चुम्बन की बारिश कर दी जिससे मेरा लंड एकदम साख हो चूका था। 

अब दीदी ने अपनी टीशर्ट भी निकाल दी और दीदी ने अपने बूब्स ब्रा से आजाद कर दिए। मेने दीदी के बूब्स हाथ में लेते हुए उन्हें अच्छे से दबाया और अब दीदी ने मेरी पेंट में हाथ डालते हुए मेरे लंड को बाहर निकाल लिआ। 

मुझे यह सब ठीक नहीं लग रहा था। पर इससे पहले की मै कुछ भी कहता दीदी ने मेरा लंड दीदी ने अपने मुह्ह में लेके जोर जोर से चूसना शुरू कर दिआ। मेरा लंड बहुत टाइट हो गया था और अब दीदी ने अपने सरे कपडे निकाल दिए और पूरी नंगी हो गयी। 

दीदी ने मेरा लंड अपनी चुत के छेद पर रखा और दर्द सहते हुए उसे धीरे धीरे अपनी चुत में सरका लिआ। अब दीदी ने मेरा हाथ अपने बूब्स पर रखवाए और मेरे लंड पर कूदते हुए अपनी चुदाई करवाना शुरू कर लिआ। 

दीदी जोर जोर से मेरा लंड अपनी चुत में लिए जा रही थी और मै भी निचे से हफ्ते हुए दीदी की चुत में लंड घुसाए जा रहा था। अब मेरे लंड से भी पानी आने वाला था और मेने दीदी को यह बात बता दी। 

मेरी बेहेन झटके से लंड से निचे उतरी और उसे जोर जोर से मुह्ह में लेके चूसने लगी। बेहेन की तेज चुसाई से मेरे लंड ने जोर की धार के साथ सारा वीर्य सीसी के मुह्ह में निकाल दिआ और हम दोनों ने कपडे कुछ देर बाद पेहेन लिए। 

Leave a Comment