भाई के साथ सो गयी एक रात – चुदाई का मौसम

मेरा नाम कविता है और यह बात  पिछले बारिश के मौसम की ही है।  सभी को यह बात तो पता ही होगी की बारिश का मौसम कितना रोमेंटिक होता है और इस समय सभी को सेक्स करने की इच्छा भी करती है। मेरी कहानी कुछ इसी तरह से शुरू होती है। 

कॉलेज ख़तम होने के बाद मेरा और मेरे बॉयफ्रेंड के मिलने के दिन भी ख़तम हो गए थे और मेरी चूत की गर्मी भी दिन पर दिन बढ़ती जा रही थी। कॉलेज की दोनों  में मेरे बॉयफ्रेंड से मेने कई बार अपनी चूत चुदवायी थी इसलिए अब मुझसे लंड के बिना रहा नहीं जा रहा था। 

मेरा छोटा भाई भी दिखने में काफी अच्छा था पर वह बहुत ही ज्यादा शरीफ और नाजुक किसम का था जिससे मुझे अपनी चुदाई करवाने के लिए कोई न कोई प्लान बनाना ही था। कई बार मेने अपने भाई के बारे में सोचकर अपनी चूत में उंगली भी की जिससे मुझे काफी अच्छा लगा था। 

मौसम अब दिन पर दिन ठंडा होता जा रहा था।  मै और मेरा भाई एक ही कमरे में रहते थे और हमारे माँ बाप निचे वाले कमरे में रहते थे। हम दोनों साथ में पढ़ते और सोते खाते भी थे। अब बारिश के दिन आ गए थे और रोजाना तेज बारिश होती ही रहती थी। 

एक दिन की बात है पूरे दिन काफी तेज बारिश हुई और मौसम कुछ इस तरह बिगड़ गया की मम्मी की तबियत भी खराब हो गयी। उस दिन मेने ही घर का सारा काम किआ और रात को थक कर सोने के लिए बिना कम्बल के ही ऊपर चली गयी। 

यह भी पढ़िए: Hindi Sex Stories

भाई के साथ किआ कम्बल गरम 

रात के कुछ 1 बजे मुझे बहुत तेज से ठंडी  लगने लग गयी और नींद भी नहीं आ रही थी। मै निचे जाकर भी मम्मी को नहीं उठा सकती थी क्युकी उनकी तबियत पहले से ही खराब थी। अब मेने अपने भाई को आवाज देते हुए उठाया। 

मेने अपने भाई से कम्बल देने के लिए कहा। भाई ने मुझे नींद भरी आँखों से देखा और साथ में ही सो जाने को कह दिआ। ठंडी के कारण मेने कुछ भी न सोचा और तुरंत भाई के साथ कम्बल में लिपट कर सो गयी। 

अब कुछ ही देर हुई थी की मुझे अपनी गांड पर कुछ महसूस हुआ। मुझे अब समझ आ गया की यह मेरे भाई का लंड है जो की अब खड़ा हो गया है। मेरा जिस्म भी अब गरम होना शुरू हो गया और मौसम की ठंडी में सांसे भी लम्बी हो रही थी। 

मेरा भाई भी शायद उठा हुआ था और मेरे बदन से अपना लंड चिपकाये जा रहा था। मेने अब एकदम से अपना हाथ पीछे किआ और भाई का लंड पकड़ कर भ को गुस्से से पूछा की यह क्या है। 

मेरा भाई घबरा गया और मुझसे माफ़ी मांगने लगा। वह मुझसे बहुत देर तक माफ़ी मांगता रहा और फिर मेने बात को ख़तम कर वापस से उसे सोने के लिए कह दिआ। अब जैसे ही लेटा मेने उसका लंड अपने हाथ में ले लिआ। 

मेरे भाई का लंड मेरे बॉयफ्रेंड से भी मोटा था जिसको में अपनी चूत में लिए बिना नहीं रह सकती थी। मेरा भाई चौक गया और मुझसे माफ़ी मांगने लगा। मेने उसे चुप होने को कहा और उसका लंड उसके पजामे से बाहर निकल लिआ। 

लंड को मेने अपने मुह्ह में लेते हुए अपने भाई का लंड मजे से चूसने लगी। अपनी जीभ से में लंड को कुरेद रही थी जिससे वह और भी बड़ा हो रहा था। मेरा छोटा भाई भी बदहोश हो गया था और आंखे बंद करके मजे ले रहा था। 

पड़ोस की भाभी का नया सूट – भाभी को कर दिआ कामुक 

छोटे भाई का मोटा लंड लेकर मिटाई अपनी चूत की गर्मी 

अब मेने अपनी टीशर्ट उतार दी और कम्बल से बाहर फेक दी। मेने अपने भाई से ब्रा का हुक खोलने को कहा और ऊपर से पूरी नंगी हो गयी। मेने अपने भाई का मुह्ह अपने बूब्स पे लगाया और निप्पलों को चुसवाने लगी। 

मेरे भाई की चुसाई से मुझे भी बहुत मजा आ रहा था और निचे में अपने भाई का लंड लगातार अपने हाथ से रगड़े जा रही थी। अब मेने कम्बल में ही अपना पजामा खोल दिआ और बिस्तर पर पूरी नंगी हो गयी। अपनी चूत में उंगली करते हुए मै अपने भाई को किस करे जा रही थी। 

मेरी चूत में बुरी तरह से खुजली हो रही थी जिसपे मै अपने हाथ से रगड़ाई कर रही थी। अब मेने अपना भाई का लंड खड़ा कर उसपर बैठ गयी और लंड को अपनी चूत में ले लिआ। 

मेरे भाई का लंड मोटा होने के कारण मेरी चूत में थोड़ा सा दर्द हुआ पर अभी बाद मुझपर कामवासना सवार थी। एक ही बार में मेने अपने भ का लंड अपनी चूत में लेकर उसपर बैठ गयी। ऊपर निचे होते हुए तेजी से मेने अपनी चूत पिलवानी शुरू कर दी। 

मुझे बहुत मजा आ रहा था और मेरा जिस्म पूरा गरम हो गया था। मेरे भाई से मेने अपने बूब्स दबवाते हुए उसके लंड पर सवारी कर रही थी। मेरी चूत में एक अलग से चुभन हो रही थी जिससे मुझे चर्मसुख का आनद आ रहा था। 

इतने में मेरे भाई ने निचे से अपना लंड मेरी चूत में घुसना शुरू कर दिआ और मेरी जोर  चुदाई करने लगा।  मुझे भी सही चुदाई मिल रही थी और इतने में मेरे भाई का लंड अकड़न खाने लगा। मै एकदम से उसके लंड से उतरी और उसका लंड बिस्तर पर ही झड़ गया। 

मेरा जिस्म भी अब कुछ शांत हो गया था और उस रात मेने अपने भाई के लंड से 2 बार चुदाई करवाई और भाई ने भी मेरी चूत से पानी निकाल दिआ। 

Leave a Comment