पड़ोस की लड़की ने दी चुत बजाने को – 1

मैं विकास 20 साल का हूं। मेरी गर्लफ्रेंड पोर्न कहानी पढ़कर बताना कि कैसी लगी। कमेंट के साथ सीधे मेल करके बताना तो मुझे अच्छा लगेगा। मैं वादा करता हूँ कि आगे भी अपनी सेक्स कहानी आपको सुनाता रहूंगा। 

मैं अपनी फैमिली के साथ दिल्ली में ही रहता हूं। हमारे पड़ोस में एक फैमिली रहने आई थी, उसमें एक आंटी, उनका बेटा और उनकी बेटी थी। बेटी का नाम मुस्कान था। मुस्कान कॉलेज में पढ़ती थी और उसका भाई दुबई में जॉब करता था। 

मैं शाम को छत पर जाता तो मुस्कान को पटाने की कोशिश करता। वो मोबाइल पर किसी से बात करती रहती थी। मैं भी उस पर लाइन मारता रहता था पर दो महीने कोशिश करने के बाद भी मैं उसको पटा नहीं सका। 

दूसरी तरफ मुस्कान कॉलेज में जाती थी वहां उसकी दोस्ती होना शुरू हुई तो वो साथ में पढ़ने वाले लड़के लड़कियों से बात करने लगी थी। उसने अपनी एक सहेली से मेरे बारे में बात की कि कैसे मैं रोज छत पर जाकर उसको पटाने की कोशिश करता हूं। 

फिर उसकी सहेली ने उसे बताया- शायद वो तेरे साथ दोस्ती करना चाहता है। उस पर मुस्कान बोली- मम्मी को पता चला तो दिक्कत हो जाएगी। उसकी सहेली ने उसे समझाया- तू उससे अकेले में बात करना या फिर अपना नंबर उसको दे दे और फोन पर बात किया करना। 

सेक्स की एक लम्बी कहानी और वासना – 1

मुस्कान का लिआ फोन नंबर

मुस्कान सोचती रही कि कैसे बात करे, पर उसकी हिम्मत नहीं हुई। एक सुबह उसने अपनी सहेली को बोला- मुझसे बात नहीं हो पाई, अब क्या करूं। उसकी सहेली बोली- मैंने तो कल अपने ब्वॉयफ्रेंड से चुदाई करवाई थी और तू उससे बात भी नहीं कर पा रही है। 

यह सुनकर मुस्कान के मन में चुदाई की बात को लेकर बहुत सारे ख्याल आने लगे। उसने अपनी सहेली से पूछा कि तूने कैसे चुदाई करवाई? उसकी सहेली ने उसे बताया- मेरे ब्वॉयफ्रेंड का बर्थडे था, तो उसने मेरी चुदाई करके अपना बर्थडे मनाया था। 

अब मुस्कान के मन में पूरा दिन अपनी सहेली की बात चलती रही। ये सब मुस्कान ने मुझे बाद में बताया था। शाम को मैं मम्मी पापा को रेलवे स्टेशन छोड़ कर आया था तो मुस्कान अपनी छत पर खड़ी थी। 

मैं भी उसे देखने के लिए अपने मेनगेट पर रुक गया। उसने मेरी तरफ देख कर थोड़ी स्माइल पास की तो मेरी हिम्मत बढ़ गई। फिर मुस्कान ने अपना मोबाइल दिखा कर इशारा किया तो मैंने उंगली से अपना नंबर बताया। 

सेक्स की एक लम्बी कहानी और वासना – 2

मुस्कान चली गयी स्कूटी पर बहार 

उसने वो नंबर लिखा और मोबाइल पर दिखा कर मुझे बताने लगी। उसने मेरा नंबर सही लिखा था। मैंने थम्ब कर इशारा किया तो उसने मेरा नंबर डायल कर दिया और मेरे फोन पर घंटी बज उठी। 

मोबाइल निकाल कर मैंने देखा तो ट्रू कॉलर पर एंजल मुस्कान लिखा हुआ था। मैंने कॉल रिसीव की। मुस्कान- हैलो। मैं- हाय मुस्कान। मुस्कान- क्या कर रहे हो? मैं- मम्मी पापा को स्टेशन छोड़ कर आया … वो गांव में गए हैं। 

मुस्कान- तो आज तुम अकेले हो! मैं- हां घर में कोई नहीं है तो अकेला ही हूँ। मुस्कान- मेरी एक हेल्प करोगे! मैं- बोलो क्या करना है? मुस्कान- अभी नहीं, रात को बताऊंगी। मैं- ओके। 

फिर उसने बाय बोला और कॉल कट कर दी। मुझे विश्वास नहीं हुआ कि मेरे साथ उस मुस्कान ने बात की जिससे मैं बात करने को तड़प रहा था। उसने खुद बात की। मैं फिर से उसको देखने लगा तो वो नहीं दिखी। 

मैं छत पर गया तो वो किसी से फोन पर बात कर रही थी। उसे मैं ऐसे देख रहा था जैसे वो कोई परी हो जो ज़मीन पर पहली बार उतर कर आई हो। वैसे वो सुंदर तो थी पर अब मुझे मुस्कान दुनिया की सबसे सुंदर लड़की लग रही थी। 

फिर वो छत से नीचे गई, मैं भी छत पर खड़ा होकर उसके आने का इंतजार करने लगा कि कब वो फिर से छत पर आएगी और मैं फिर से उसको देखूंगा। मगर मैंने देखा कि उसके घर का गेट खुला और वो स्कूटी लेकर बाहर निकल गई। 

मेरा तो जैसे दिल टूट गया। अभी वो फोन पर बात कर रही थी और अभी चली गई। शायद अपने ब्वॉयफ्रेंड से मिलने गई होगी। मैं बस बुरा महसूस करते हुए नीचे आ गया। दिल में खराब खराब ख्याल आए, तो मैंने मोबाइल पर सेड सॉन्ग सुनने शुरू कर दिए। मैं सेड सॉन्ग सुनता रहा।

Leave a Comment