जन्मदिन पर दी लड़की ने चुत की ठुकाई – 1

स्कूल ख़तम हुए आज पूरा एक साल हो गया था और मेरी एक दोस्त जिसका जन्मदिन आने वाला था उसका आज मुझपे फोन आया। उसने मुझे पहले तो कहा की क्या मै उसे याद भी हु। 

मेने उससे अब काफी देर तक बात करि और अंत में उसने मुझे कहा की उसका जन्मदिन आने वाला है जिसमे मुझे आना है और वह पार्टी बहुत ही कम लोगो के साथ कर रही है इसलिए मै मना ना करू। 

अब मेने भी उसे हां कर दी की मै उसके जन्मदिन पर आ जायूँगा। कुछ  ही दिन बाद उसका जन्मदिन आ गया और थोड़े सही से कपडे पेहेन कर मै उससे मिलने के लिए निकल गया। 

उसकी बताई हुई जगह पर मै पहुंच गया और मै जैसे ही अंदर गया मेने देखा की वह कोई भी नहीं है और वह बस वही लड़की खड़ी हुई है। मै अब अंदर गया और मेने उससे पूछा की क्या मै बहुत जल्दी आ गया हु या यह कोई दूसरी जगह है। 

उसने मुझे कहा की ना ही यह कोई गलत जगह है और ना ही मेबहुत जल्दी आया क्यों क्युकी उसने अपने जन्मदिन पर किसी और को बुलाया ही नहीं है। अब यह सुन कर मै थोड़ा चौक गया था क्युकी वह मुझसे स्कूल में भी इतने ाचे से बर्ताव नहीं करती थी। 

और आज इस अनोखे दिन पर उसने सिर्फ मुझसे मिलने के लिए बाकी सभी लोगो को छोड़ दिआ था। उसने मुझे कहा की यह वह बहुत ही दिनों से कहना चाहती थी और मुझसे मिलने भी चाहती थी। 

मेने उसे पूछा की जो भी बात है वह मुझसे साफ़ साफ़ कहे। 

आंटी को दिआ लॉलीपॉप और आंटी ने करवाए मजे

लड़की ने करवा ली हां 

अब थोड़ा रुकते हुए उसने मुझसे कहा की वह मुझे काफी समय से पसंद करती है और आज इस जन्मदिन को वह ख़ास बनाना चाहती थी इसलिए वह मुझसे आज यह सब बोल रही है। 

अब मै थोड़ा सोच में पड़ गया क्युकी मेने कभी नहीं सोचा था की मेरे साथ ऐसा भी कुछ हो सकता है। अब उस लड़की ने मुझे कहा की आज उसका जन्मदिन है और आज के दिन किसी को भी ना नहीं बोलते है। 

अब मै कहता भी क्या क्युकी उसने मेरे लिए सभी को आज दूर किआ हुआ था। अब मेने उसे हां कह दी और अगले ही पल आकर वह मेरे गले से लग गयी। मेने भी उसे अपनी बाहो में ले लिआ और वह अब बहुत ही ज्यादा खुश थी। 

अब मेने और उसने एक केक भी काटा और कुछ देर के बाद हम दोनों दूसरे कमरे में चले गए जहा बिस्तर पर कुछ भी नहीं था तकिओ के आलावा। अब उसने मुझे कहा की मै जुटे उतार कर आराम इ बैठ जायु क्युकी उसे मुझसे काफी बाते करनी है। 

मै भी उसकी बाते मानता गया और कुछ देर के बाद मेरी गोदी में सर रखकर लेट गयी। वह काफी खुश दिख रही थी इसलिए आं बस उसकी बाट सुनता जा रहा था और बैठा हुआ था। 

मालकिन को दिआ किराये के बजाए अपना लंड चुदाई के लिए

लड़की ने शुरू किआ प्यार करना 

अब कुछ देर के बाद उसके बहुत ही प्यार से मेरा चेहरा पकड़ा और उसे अपनी तरफ किआ और मेरे होठो पर एक चुम्बन कर दिआ और खुश होने लगी। अब उसने फिर से वैसा ही किआ और हम दोनों एक दूसरे को चूमने लगे। 

उसके बूब्स भी काफी मोटे थे जिनपर मेने अपना एक हाथ रख दिआ था और उन्हें प्यार से दबाने लगा था। वह भी अब बहुत ही प्यार के साथ मेरे होठो को चूस रही थी और मै उसके बूब्स को दबाता जा रहा था। 

मेने अब अपना हाथ उसके कपड़ो में घुसा दिआ और उसकी निप्पल को अपनी ऊँगली से मसलते हुए बूब्स को दबाने लगा। अब वह पूरी तरह गरम हो गयी थी और मेरे ऊपर लेट कर मुझे प्यार कर रही थी। 

मेरे लंड में भी तनाव आ गया था और उसने भी यह महसूस कर लिआ था अब कुछ पल बाद उसका हाथ मेरे लंड पर चल रहा था और वह उसे आराम आराम से सहलाये जा रह थी। 

मै अब हवस से भर गया था और मेने उसे निचे किआ और उसकी ब्रा को निकलते हुए उसकी बूब्स की निपालो को चूसने लग गया वह आहे लेते हुए जोर जोर से सांस लेने लगी और कामुक होती चली गयी। 

मेने अब उसकी पेंट का बटन भी खोल दिआ और उसकी चुत पर अपना हाथ लेके सहलाने लगा। उसकी चुत पर एक भी बाल नहीं था और वह बहुत ही चिकनी महसूस हो रही थी। 

मेने उसकी चुत की पंखुडिओ को मसलते हुए उसके होठो को जोर जोर से चूसना शुरू कर दिआ जिससे वह इतनी कामुक हो गयी की अपने बूब्स को खुद ही दबाने लगी। 

आगे पढ़िए भाग 2 में…………….

Leave a Comment