भाई और बेहेन ने मनाया साथ में जन्मदिन – 1

मेरी बेहेन की उम्र मुझसे 2 साल ज्यादा थी पर वह दिखने में मुझसे जड़ा बड़ी नहीं लगती थी। मेरी बेहेन की शादी की बायत भी घर में चल रही थी पर उसकी उम्र को देखते हुए कोई भी उसे बड़ा नहीं मानता था। 

दीदी की शादी को लेकर अब किसी को भी चिंता नहीं थी क्युकी वह दिखने में बहुत ही ज्यादा छोटी सी लगती थी। पर अब मै भी बड़ा होता जा रहा था और मेरी उम्र के चलते मेरी जरूरते भी बढ़ रही थी। 

मुझे अब लड़कीओ को देख कर अजीब सा लगने लगा था और मेरे अंदर ही वासना बहुत ही ज्यादा बढ़ जाती थी। पर दीदी को देख कर नहीं लगता था की वह मुझे देखकर थोड़ा सा भी उत्तेजित होती है इसलिए मै अपनी बेहेन से ज्यादा बाते नहीं करता था। 

आज मेरा जन्मदिन था और घर में सभी लोगो ने मुझे मेरे जन्मदिन की बधाई दी। दीदी भी अपने कमरे में से उठकर आयी और उसने बहुत ही प्यार के साथ मुझे जन्मदिन मुबारक बोला। 

मेने भी अपनी दीदी को हस्ते हुए शुक्रिआ कहा और मेरी बेहेन ने मुझे कहा की आज मेरे जन्मदिन पर वह मेरी मनपसंद चीज बनाएगी। मेने भी अब आपने पसंद के खाने के बारे में बता दिआ। 

दीदी ने ऐसा खाना पहले कभी भी नहीं बनाया था और ककुछ देर बाद दीदी ने मुझे कहा की वह यह खाना तो नहीं बना सकती है पर अगर मुझे कुछ और चाहिए तो मै उनसे माँगा सकता हु। 

और भी नंगी कहानिआ – Hindi sex story

दीदी ने दिए मुझे पैसे 

अब मेरा मूड बहुत ही ज्यादा खराब हो गया था क्युकी मुझे मेरे पसंद के खाने का इन्तजार था और दीदी वह नहीं बनाई पाआई थी। मै आपको बताना हु भूल गया की मेरी दीद जॉब भी करती थी इसलिए वह अपने पास पैसे रखती थी। 

दीदी ने अब मेरे हाथ में पैसे दिए और कहा की मै बाहर जाकर अपनी पसंद का कुछ भी खा लू। मेने अब दीदी से पैसे लेने से मना कर दिआ क्युकी मेरी उम्र भी अब कमाने की हो गयी थी और अपनी ही बेहेन से पैसे लेता हुआ मै अच्छा नहीं लग्गता। 

मेने अब दीदी से कहा की मुझे यह पैसे नहीं चाहिए और वह रोज के जैसा ही आज भी खाना बना दे। दीदी ने अब खाना बना कर मुझे दे दिआ और खाना खाने के बाद मै अपने दोस्तों के साथ बाहर घूमने के लिए निकल गया। 

शाम के कुछ अब 4 बज रहे होंगे जब मै घर पर वापस आ गया था। दोस्तों के साथ घूमने जाने की वजह से मेने थोड़ी सी शराब भी पी ली थी जिसकी वजह से मै थोड़ा चुलबुल हो गया था। 

मेने अब अपनी बेहेन से कहा की उसने रात के लिए खाने मै मेरी मनपसंद चीजे बनाई है या नहीं ? बेहेन ने कहा की वह मेरी पसंद का खाना तो नहीं बनाई पायी है पर उसने सबके लिए अच्छा खाना बनाया है। 

मोनिका आंटी की वासना का खेल 

बेहेन से माँगा रात में तोहफा 

अब मेने अपनी बेहेन से कहा की मै उससे गुस्सा हु क्युकी आज मेरे जन्मदिन पर उसने ना ही मुहे कोई तोहफा दिआ और ना ही मेरी पसंद का खाना बनाया है। दीदी ने मेरी इस बात को सुनकर मुझसे माफ़ी मांगी और थोड़ा सा हसने लगी। 

अब हम सभी ने साथ में खाना खाया और मै अपने कमरे में सोने के लिए चला गया। पूरा दिन घूमने के बाद भी मुझे अभी नींद नहीं आए रही थी और मेने अब सोचा की क्यों ना मै अपनी बेहेन से ही बाते कर लू। 

रात के 11 बजे अब मै अपनी बेहेन के कमरे में चला गया और वह भी अभी नहीं सोई थी। मेने उससे कहा की मुझे अपना तोहफा कब मिलेगा ? दीदी ने कहा की इतनी रात को वह तोहफा कहा से लेयेंगी ?

दीदी ने कहा की वह अभी बस मुझे पैसे ही दे सकती है और इसके आलावा अगर मुझे कोई चीज पता है जो मुझे अभी दे सके तो मै उन्हें बतायु। मेने दीदी से कहा की क्या मै कुछ भी माँगा सकता हु ?

दीदी ने मुझे कहा की हां मै जो भी आज मांगूंगा वह मुझे बिना सोचे दे देंगी और बिलकुल भी ना नहीं करेंगी। अब मेरा नशा मेरे सर चढ़ गया था और मेने अपना शैतानी दिमाग चलाते हुए दीदी से कहा ककी मुझे उनसे एक किस चाहिए। 

दीदी यह बात सुनकर एकदम चौक उठी और मेने अब दीदी से कहा की मेने कभी किसी सुन्दर लड़की को नहीं चूमा है और वह दिखने में इतनी सुन्दर है की मै यह ख्याल दिमाग से निकाल ही नहीं सकता हु। 

आगे पढ़िए अगले भाग में। ……. भाई और बेहेन ने मनाया साथ में जन्मदिन – 2

Leave a Comment