चुत की प्यास और लंड की दीवानगी – 3

फिर चाहे वो पैसों की दिक्कत हो या चूत की प्यास बुझाने के लिए एक अदद मस्त लंड की जरूरत हो। माही सर मेरे फीस के पैसे तो जमा करने लगे थे। मगर मेरे पास रहने खाने के लिए कुछ नहीं था क्योंकि मैंने घर पर कह दिया था कि मैं जॉब करने लगी हूँ, तो मुझे पैसे की जरूरत नहीं है। 

अब घर से भी पैसे आने बंद हो गए थे। मैंने माही सर से जब इस बात की चर्चा की और उनसे बोली- रूम का किराया देना था और टिफिन का भी देना होता है। माही सर ने लंड खोल कर दिखा दिया और बोले- यार मीना, मैं उतना नहीं कर पाऊंगा। 

मैंने कहा- तो अब मैं क्या करूं? माही सर बोले- मेरा एक फ्रेंड तुम्हारी मदद कर सकता है, अगर बोलो तो उससे बात करूं! मैं बोली- आप जो चाहे करो, लेकिन करो। माही सर ने ओके कहा और बोले- तुम्हें फोन आएगा। 

उसी रात एक कॉल आया। उसने अपना नाम अविनाश (अवि) बताया और कहा- माही ने मुझे आपके बारे में बताया है कि आपको मदद की जरूरत है। मैं बोली- हां मुझे पैसों की जरूरत है। 

अवि मुझे पचास हजार की ऑफर देकर बोला- आपको मेरे साथ तीन दिन तक रहना होगा। मैं समझ गयी कि ये साला मेरी चूत की कीमत बता रहा है। लेकिन मैंने इसलिए हां कर दी क्योंकि कहीं न कहीं मुझे विभिन्न किस्म के लंड से चुदने में मजा आने लगा था। 

कुवारी दीदी की बुर का मिला स्वाद – 1

दूसरे लंड से चुदने के लिए हो गयी तैयार 

दूसरे दिन अवि मुझे पिकअप करके अपने घर ले गया। रास्ते भर वो मेरे जिस्म की तारीफ करता रहा। घर आकर वो मुझे सीधे बेडरूम में ले गया। कमरे में आकर मैं मस्त हो गई और मेरी चूत में लंड का कीड़ा काटने लगा। 

उधर अवि ने भी देर न करते हुए मुझे अपनी तरफ खींच लिया और लिपकिस करना चालू कर दिया। मैं पहले से ही चुदासी थी, उसके चूमने से मैं झट से गर्म हो गयी। अवि की बॉडी भी किसी हीरो जैसी थी। 

बिना देरी किए अवि ने मुझे नंगी कर दिया। मेरे जिस्म में कामरस की धारा बहने लगी। वो भी मेरे मम्मों की मालिश करते हुए मेरी चूत को सहलाने लगा। जल्द ही खुद नंगा होकर मुझसे लिपट मेरे रोम रोम को चाटने लगा, मेरे मम्मों को होंठों में लेकर चूसने लगा। 

मैं कराह उठी- आह्हह … आह्हह। वो जल्द ही मेरी चूत पर जीभ लगा कर मुझको भभकाने लगा। उसने मेरी चूत चाट कर उसे मक्खन की तरह पिघला दी और लाल कर दी। फिर अवि ने अपने लंड में शहद लगाया और मुझे लंड चाटने को दे दिया। 

मैंने पूरी शिद्दत से लंड चाटना शुरू कर दिया। जल्द ही अवि भी गर्म हो गया। अब अवि ने मुझे चित लेटाकर अपने लंड में कोई रिंग जैसी चीज लगाई और चोदने को तैयार हो गया।

पहली चुदाई का अनोखा मजा दिआ – 1  

कुतिया बनके गांड में भी दे दिआ लंड 

पहले तो उसने मेरी चूत पर लंड टिका कर सहलाया और फिर एक ही झटके में अपना 7 इंच का लौडा चूत में पेल दिया। लंड के घुसते ही चूत में झटके लगने लगे और मैं अकबका गई। 

उसके लंड में रिंग लगे होने के कारण वाइब्रेशन होने लगा था। मेरी पहली बार ऐसी चुदाई हो रही थी और मैं बस सिसकारियां लिए जा रही थी। मुझे बेहद सनसनी हो रही थी ‘ओह्हह अवि … आह्ह हहह … फाड़ दो मेरी चूत मेरी जान … आहह।’ 

ये सुनते ही अवि का लंड मानो स्टेनगन की तरह फायर करने लगा। वो मेरे मम्मों को भींचते हुए पिल पड़ा। कुछ ही देर में उसके लंड ने भी जवाब दे दिया और उसने लंड का पूरा पानी मेरी चूत में गिरा दिया। 

कुछ देर बाद अवि गोली खाकर मेरी गांड में लग गया। उसने मेरी गांड को डायलेटर से चौड़ा करके गांड की अच्छे से ऑयलिंग की और मुझे कुतिया बनाकर मेरी गांड में लंड पेलने लगा। 

वो मस्त गांड मार रहा था मगर उसके दवा खाकर गांड मारने से उसने मेरी सुजा दी। वह किसी मशीन के पिस्टन की तरह मेरी गांड चोदने में लगा था। गांड मारने के बाद उसने एक बार फिर से अपने लंड का सारा पानी मेरी गांड में छोड़ दिया। 

चूंकि मैं उसके पास तीन दिनों के लिए आई थी। उसने इन तीन दिनों में 16 बार मेरी चूत और गांड की भरपूर चुदाई की। उसके बाद अवि ने मेरे अकांउट में पैसे डालकर मुझे वापस छोड़ दिया। 

Leave a Comment