बुआ की दवाई और नशे में चुदाई

सभी दोस्तों को मेरा नमस्कार, हम आपका फिर से खुले दी से स्वागत करते है एक और हवस से भरी हुई नंगी कहानी में। इस किस्से में आप पढ़ सकेंगे की कैसे नशे की हालत में मेरी बुआ को चुदाई के रस्ते पर पंहुचा दिआ। 

यह बात रक्षाबंधन के त्यौहार से कुछ दिन पहले की है। हमारी सभी बुआ हमारे पापा और मुझे राखी बांधने हर साल आया करती थी। पर पापा ने हमारी सगी बुआओँ के आलावा भी कई मुह्ह बोली बहने बना राखी जिन्हे हम भी बुआ कहते थे और उनसे राखी बंधवाते थे। 

सभी बुआओँ में हमारी एक जवान और हसीन बुआ भी थी जिनका नाम दीपा था। दीपा बुआ अभी भी जवान थी और उनकी अभी शादी भी नहीं हुई थी। दीपा बुआ ज्यादातर टॉप और जींस की पेंट ही पहना करती थी जीने उनके बूब्स बहुत ही मस्त दीखते थे। 

अब राखी में कुछ ही दिन बाकी रह गए थे, और हर साल की तरह दीपा बुआ हमारे घर रुकने के लिए 2 दिन पहले ही आ गयी। दीपा बुआ दूसरे शहर से हमारे घर आती थी जिस वजह से वह राखी से कुछ दिन पहले हमारे घर आती थी और  भी जाती थी। राखी से 2 दिन पहले दीपा बुआ हमारे घर आ गयी और हम सभी ने खाना खाकर उन्हें आराम करने की जगह दिखा दी। 

अगले दिन बुआ ने मम्मी के साथ घर के काम में हाथ बटाया और शाम के समय काम से घर वापस आ गए। हमारे पापा रोज रात को एक दारू का पेग पीके ही सोया करते थे जिनसे शायद उन्हें अछि नींद आती थी। उस रात भी पापा ने अपना एक पेग बनाया और पीकर बिस्तर की तरफ चले गए। मै भी खाना खाने के बाद अपने कमरे में सोने के लिए ऊपर चला गया। 

भाभी की देसी कहानिआ यहाँ से पढ़े : Bhabhi Sex Stories

दीपा बुआ को हुआ नशा और हवस में खोयी 

कुछ समय बाद दीपा बुआ भी खाना खाने के बाद मेरे कमरे में आयी और मुझसे पूछने लगी की पापा वह रोज रोज कोनसी दवाई पीते है। मैने उन्हें बताया की वह पापा रोज की आदत है जिससे पापा को शायद अछि नींद आती है। अब बुआ ने मुझे कहा की उन्हें भी उस दवाई की जरूरत है क्युकी उन्हें भी रात को अछि नींद नहीं आती। 

मैने बहुत देर इस बात को उनका एक मजाक समझा पर कुछ देर बाद बुआ ने मुझे फिर से दारू की बोतल निचे से लाने को कहा। मै चुपचाप निचे जाता हुआ बोतल कपड़ो में छुपाकर बुआ के पास ले आया। बोतल मिलते ही बुआ ने बोतल का ढक्कन हटाया और सासे भर भर के दारू गले से उतरने लगी। 

कुछ ही देर बाद बुआ ने साडी दारू ख़तम कर दी और मै इस सब से सब से बहुत चौक भी गया था। दारू पिने के बाद बुआ पूरी तरह नशे में गुम हो गयी थी और मुझसे अजीब अजीब गली देते हुए बाते कर रही थी। 

बुआ मुझे अपने बॉयफ्रेंड के बारे में बता रही थी जो उन्हें बिलकुल प्यार नहीं करता और बस लड़ाई करता रहता है। में बिस्तर पर बैठा बुआ की यह सब बाते सुन रहा था और ऐसे ही देखते देखते रात के 1 बज गए। बुआ नशे में सोने का नाम नहीं लड़ रही थी और ना ही मेरे कमरे से बहार जा रही थी। 

अब बुआ ने मुझसे लड़ना शुरू कर दिआ और मुझे बिना किसी बात से मारने लगी। बुआ कभी मुझे तकिये से मारती तो कभी मुझे गालिआ देती। बुआ को कुछ भी होश नहीं था की वह उस समय क्या कर रही है। अब बुआ को पूछा नशा हो चूका था और बुआ मुझे मारते हुए मेरे ऊपर गिर गई। 

बुआ के बूब्स मेरे कोहनिओ पर छू रहे थे और उनके होठ मेरे गले पर धस रहे थे। मैने बुआ को सँभालने की कोशिश करि की तभी बुआ ने मुझे नशे में गले से लगा लिआ और मुझपर झूल गयी। इससे पहले में बुआ को संभालता बुआ मुझे लेती हुई बिस्तर पर गिर गयी और उनके होठ मेरे होठो पर सट गए। 

बुआ की सांसे बहुत ही गरम हो रखी थी और उनके मुह्ह से दारू की बदबू भी आ रही थी। अब बुआ ने मेरा चेहरा गुस्से से पकड़ते हुए अपने होठ मेरे होठ पास धसा दिए और किस करना शुरू कर दिआ। मुझे कुछ भी समझ नहीं आ रहा था और बुआ मेरे होठो को दारू के बाद के निम्बू की तरह चूसे जा रही थी। 

नयी कहानी : चुदासी किरायेदारनी और किराया देने का तरीका – पैसे के बदले चूत

बुआ की जाग गयी हवस और करवा ली बुआ ने मुझसे जोरो की चुदाई 

बुआ मुझे सांस भी लेने का वक्त नहीं दे रही थी और मुझे किस करे जा रही थी। बुआ ने अब मेरी टीशर्ट ऊपर करते हुए मेरे जिस्म पर अपने हाथ फेरने शुरू कर दिए जिससे मै भी उनकी धुन में खोने लगा। बुआ ने मेरे पूरे गले पर अपने होठो से किस करना शुरू कर दिआ। और हर मर्द की तरह अब मेरी भी हवस जाग गयी और मै भी बुआ का साथ देने लग गया। 

बुआ ने मेरी टीशर्ट पूरी उतर दी और मेने अपने दोनों हाथ बुआ के मोटे बूब्स पर रखते हुए दबाना शुरू कर दिए। दीपा बुआ के बूब्स बहुत ही ज्यादा नरम और मोटे थे जिन्हे दबाने से बुआ बहुत ही कामुक होती जा रही थी। अब बुआ ने अपना टॉप भी उतार दिए ब्रा भी साइड में निकालकर फेक दी। 

बुआ के नितम्ब पहाड़ जैसे दिख रहे थे जिनपे काले रंग के निप्पल खड़े हुए थे। मैने अपने होठो से बुआ के चुचो के निप्पलों को चूसना शुरू कर दिआ। बुआ हवस से पूरी तरह भर चुकी थी और नशे की हालत में बुरी तरह हाफ रही थी। अब मेने बुआ की नाभि पे आते हुए बहुत तेजी से किस करना शुरू कर दिआ और उनकी जींस पर जा पंहुचा। 

जींस का बटन खोलकर मैने बुआ की जींस को उनसे लगा कर दिआ। बुआ की काली रंग की पैंटी उनकी चूत के पानी से पूरी तरह भीगी हुई थी जिसको मेने साइड करते हुए अपना हाथ उनकी चूत पर फिरने लगा। बुआ की सांसे और भी गहरी होती जा रही थी और मैने अब बुआ की पैंटी उतारकर अपने होठो को बुआ की गीली चूत पर रख दिआ। 

बुआ कामुक होकर आहे भर रही थी और मेरा चेहरा अपनी चूत में घुसाए जा रही थी। बुआ की हालत बहुत ही ज्यादा खराब हो चुकी थी और बुआ अब लिए पूरी तैयार थी। मैने बुआ को अपनी पेंट उतारते हुए अपना लंड उनके हाथो में दे दिआ। बुआ ने किसी अच्छी लड़की की तरह मेरा लोड़ापने मुह्ह में भरा चूसना शुरू कर दिआ। 

बुआ मेरे लंड की बहुत ही अच्छी चुसाई कर रही थी जिससे मेरा लंड पूरी तरह तनाव में आ गया था। अब मैने बुआ के मुह्ह से अपना लंड निकला और उनकी कामुक चूत पर रख दिआ। बुआ मेरा लंड लेने के लिए बहुत ही उतावली हो गयी थी। और मैने बिना इन्तजार करते हुए बुआ की चूत में अपना लंड पेल दिआ। 

नशे में होने के कारण बुआ के मुह्ह से एक छोटी सी आह्ह्ह्ह निकली और वह मेरा पूरा लंड अपनी चूत में सह गयी। अब मैने बुआ की चूत को चोदना शुरू कर दिआ और बुआ अपना पूरा शरीर ढीला छोड़ते हुए बिस्तर पर चुदाई करवा रही थी। मेरी चुदाई के धक्को से बुआ के चुचे ऊपर निचे हिल रहे थे जिन्हे में धक्के देते हुए और ढीले कर रहा था। 

अब मैने बुआ की टंगे ऊपर कर दी और बुआ के हाथो में पकड़ा दी जिससे बुआ की चूत का छेद पूरी तरह मेरे सामने खुल गया। मैने अपना लंड सीधा करते हुए पूरा बुआ की चूत में घुसा दिए और चुदाई करना चालू कर दिआ। बुआ लम्बी और गहरी सांसे लिए जा रही थी जिससे उनके शरीर की गरमास मेरे चेहरे पर लग रही थी। 

मै भी पूरा पसीने से लतपत हो चूका था और बुआ की बुरी तरह चुदाई किये जा रहा था। बुआ के निप्पलों को हाथ से मसलते हुए में उनकी चूत पूरी तरह चोद रहा था और कुछ देर तक तेज चुदाई करने के बाद मेरे लंड ने जवाब दे दिआ और मेने बुआ की चूत से लंड निकालकर सारा वीर्य जमीन पर गिरा दिआ। अगले दिन सुबह बुआ को कुछ भी सही से याद नहीं आ रहा था और वह थोड़ा लंगड़ा कर भी चल रही थी। राखी भी बीत गयी और दीपा बुआ अपने घर चली गई पर यह चुदाई का किस्सा मुझसे हमेशा याद रहेगा क्युकी नशे में हुई लड़की की चुदाई किस्मत वालो को मिलती है। 

Leave a Comment