बुआ की चुदाई की प्यास – 2

अब मैं अब झड़ने वाला था मैंने अपनी रफ़्तार बढ़ा दी और तेज़ी से झटके मारने लगा. मेरे लौड़े से वीर्य की धार निकल पड़ी और उसकी चूत को भर दिया। हम दोनों बुआ भतीजा पसीने से लथपथ हो गये. मैं उसके ऊपर लेट गया। 

थोड़ी देर बाद दोनों अलग-अलग हुए उसने लंड को चूस कर साफ़ कर दिया। हम दोनों चुदाई से बहुत खुश थे। तभी मेरे दोस्त का फोन आया, बोला- तुम कहां हो राज़? मैंने बोला- बुआ को कुछ काम था तो बुआ के घर आया था। 

वो बोला- भाई मुझे भी तुमसे एक काम है. करोगे क्या? मैंने कहा- भाई तूने मेरा काम किया है. बोल क्या काम है? वो बोला- जाने दे भाई … टू बुरा मान जाएगा। मैंने कहा- नहीं, तू मेरा भाई है. तेरे लिए तो जान हाजिर है। वो

 बोला- पहले वादा करो कि तुम मेरा काम करोगे और गुस्सा नहीं होगा। मैंने कहा- हां वादा रहा। बोल क्या काम है। वो बोला- भाई, मैं तेरी बुआ को कंपनी में जब देखता हूं तो मेरा लौड़ा खड़ा हो जाता है। 

उसकी आंखें, होंठ, गांड, भरी भरी चूचियां देखकर मैं रोज मुट्ठी मारता हूं. मुझसे एक बार उसकी चुदाई करवा दे. तेरा जिंदगी भर अहसान रहेगा। मैंने कहा- भाई, मैं बात करूंगा. वो बोला- तूने वादा किया है. याद रखना। 

मैं चुप हो गया फोन काट दिया. बुआ बोली- राज क्या हुआ? मैं बोला- कुछ नहीं। वो बोली- राज, तुम मुझसे कुछ मत छिपाओ. बोलो क्या बात है? मैंने कहा- एक परेशानी है. बुआ बोली- राज, तुमने मेरी हैल्प की है. बोलो मैं तुम्हारे काम आ सकती हूं क्या? मैंने कहा- ठीक है. तो वादा करो कि तुम मेरी हैल्प करोगी. वो बोली- हां वादा रहा।

जयपुर में दोस्त की चुदाई – 1 

बुआ हो गयी जल्दी गर्म

मैंने उसे गले लगा लिया और उसकी पीठ सहलाने लगा और उसके कान में बोला- मेरा दोस्त तुम्हें चोदना चाहता है. मैंने उससे वादा किया है। वो बोली- राज उसने अगर किसी को बता दिया तो मैं बदनाम हो जाऊँगी। 

मैंने कहा- मुझ पर भरोसा है तो बोलो? वो बोली- राज, तुम जो कहोगे, मैं करूंगी। मैंने दोस्त को फोन किया और पता बताया बोला- जल्दी आ जा! बुआ को मैंने ब्रा पैन्टी पहना दी। बुआ ने चादर ओढ़ ली. दस मिनट में मेरा दोस्त आ गया। 

उसे अंदर करके मैंने गेट बंद कर दिया। बुआ उसे देखकर शरमा गई. मैंने उससे बोला- भाई वादा कर कि ये बात हम तीनों तक ही रहेगी? उसने वादा किया। मैंने बुआ को इशारा किया. वो बोली- सर, बिस्तर पर आ जाओ। 

मेरा दोस्त बोला- मुझे सर मत बोलो, सुनील बोलो। सुनील ने बुआ के होंठों को चूसना शुरु कर दिया और बुआ ने उसकी पैन्ट खोल दी। उसने मेरी बुआ की ब्रा उतार दी और चूचियों को मसलने लगा. बुआ ने मेरे दोस्त का लंड बाहर निकाल लिया और हिलाने लगी। 

दोनों जाने पूरे नंगे हो गए और 69 की पोजीशन में आ गए। थोड़ी देर बाद बुआ के ऊपर आकर सुनील ने लंड को चूत में घुसा दिया और तेज़ तेज़ झटके मारने लगा. बुआ आह उम्मह हहह करके चिल्लाने लगी. मैं अपने लौड़े को मुंह में डाल कर चोदने लगा. अब बुआ को दोनों चोदने लगे। 

सुनील ऐसे चोद रहा था जैसे बुआ कहीं भागी जा रही थी। इधर मैं लन्ड को गले तक डाल रहा था। बुआ आज दो दो लंड एक साथ ले रही थी। मैंने अपना लंड बुआ के मुंह से निकाल लिया और सुनील ने बुआ को घोड़ी बना दिया. फिर बुआ की नंगी गान्ड पर हाथ से थप्पड़ मार मार के लाल कर दी।

फोन से मिला चुदाई का रास्ता – 1

दोस्त चोदने लगा बुआ को

और एक झटके में बुआ की चूत में लन्ड घुसा दिया. फिर तेज़ तेज़ झटके मारने लगा। मैं बुआ के सामने खड़ा हो गया. उसने लंड को मुंह में ले लिया और लोलीपॉप के जैसे चूसने लगी। सुनील ने लंड को चौथे गियर में डाल दिया और सटासट सटासट लंड अंदर बाहर करने लगा। 

बुआ मेरे लौड़े को जोश में आकर चूसने लगी और गांड आगे पीछे करने लगी। मैं भी उसकी चूचियों को दबाने लगा। थोड़ी देर बाद मेरे लौड़े ने पानी छोड़ दिया. बुआ गट गट करके सारी मलाई पी गई और मेरे लंड को चूस कर साफ़ कर दिया। 

मैं साइड में लेट गया और उन दोनों की चुदाई देखने लगा। सुनील ने बुआ को बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी टांगों को चौड़ा कर के लंड को अंदर तक घुसा दिया। 

मेरा दोस्त मेरी बुआ को चोद रहा था और बोला- मैंने पहले दिन से आपको चोदने का मन बना लिया था. पर मुट्ठी मार कर काम चला रहा था। राज़ थैंक्स यार! और उसने झटकों की रफ्तार बढ़ा दी। 

बुआ- सुनील आहह चोदो मुझे … आह हह उम्महह … आज अपनी प्यास बुझा लो। तुम कंपनी में मेरा ख्याल रखो. मैं तुम्हारा और तुम्हारे लौड़े का ख्याल रखूंगी। पर यह बात किसी को पता नहीं चलनी चाहिए. वो बोला- बबली जी, यह बात किसी को पता नहीं चलेगी। 

और वो मेरी बुआ की चूत में झटके पे झटके मारने लगा. अब वे दोनों ही चुदाई का पूरा मज़ा लेने लगे और चिल्ला चिल्ला कर चुदाई करने लगे। बुआ की चीख निकल पड़ी और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया। 

सुनील के लंड से फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च फच्च की आवाज आने लगी। उसने बुआ के पैर ऊपर करके चुदाई शुरू कर दी। अब उसका लौड़ा अन्दर तक जाने लगा और झटके से बुआ की चीखें तेज़ हो गई। 

थोड़ी देर बाद झटकों के साथ ही सुनील ने पानी छोड़ दिया और चूत में अंदर तक घुसा दिया और बुआ के ऊपर लेट गया। सुनील थोड़ी देर बाद उठा और लंड को साफ़ कर के कपड़े पहन कर बोला- कंपनी में काम है, मैं निकलता हूं. और वो चला गया. उसके बाद मैंने एक बार फिर बुआ को जमकर चोदा और शाम को अपने रूम आ गया।

Leave a Comment