बुआ के घर जाके बेटी को चोदा 

हम लोग आज गांव जाने वाले थे और गांव की मुझे एक बात बहुत ही पसंद थी की गांव की लड़किआ मुझ पर मोहित रहती थी। शुरू से ही मै दिखने में बहुत सुन्दर था इसलिए वह सब मुझसे अच्छे से बाते करती थी। 

उन्ही लड़कीओ में से एक लड़की थी मेरी बुआ की बेटी। उसका नाम नीलम था और उसके नाम की तरह ही वह भी बहुत ज्यादा सुन्दर और सेक्सी भी थी। सभी लड़कीओ में मुझे यह सब से ज्यादा पसंद थी और उसे देख मेरा दिल बहुत बार उसे प्यार करने को भी करता था। 

नीलम भी मुझे शसयद पसंद करती थी इसलिए वह मुझ से हमेशा खुश रहती थी और चाहे मै कोई भी बात कह दू वह मुझ पर कभी भी गुस्सा नहीं करती थी। धीरे धीरे मुझे भी नीलम अब पसंद आने लगी थी पर मेरी हवस भी मुझ पर अब सवार होने लगी थी। 

नीलम को देख मेरा लंड एकदम ही खड़ा हो जाता था और जब भी मै उसे अपने सामने बैठा देखता था मेरी नजर बस उसके बूब्स पर ही जाया करती थी। नीलम को भी शयद यह सब पता था पर वह मुझे कभी कुछ नहीं बोलती थी। 

एक दिन ऐसे ही घर में कोई भी नहीं था और बुआ भी खेतो में काम करने के लिए गयी हुई थी। नीलम को घर में अकेला देख मै उसके पास चला गया और बाहर ही बैठ गया। कुछ देर ही बाद नीलम ने मुझे घर के अंदर आने को कहा और मै भी चला गया। 

आज नीलम ने सूट पहना हुआ था और नीलम उस में कुछ ज्यादा ही सुन्दर दिख रही थी। नीलम की नीली आँखे मुझे पर जादू सा कर रही थी और जब मुझसे रहा ना गया तो मेने नीलम को पीछे से अपनी बाहो में भर लिआ। 

नीलम तभी  एकदम से चौक गयी और जैसे ही उसने मुझे पीछे मुड़कर देखा वह शांत हो गयी। नीलम बहुत शर्मा रही थी और मेने अब नीलम को सीधा कर लिआ और उसे अपनी बाहो में समा लिआ। 

भाभी की भीगी जवानी को रख के चोदा

नीलम को कर दिआ गरम और किआ पूरा नंगा

 नीलम का मुँह पूरा लाल हो गया था और वह वह मेरी आँखों में ही देखे जा रही थी। नीलम को ऐसे देख मै भी उसकी ही आँखों में खो गया था और नीलम के होठो से अपने होठ मिला दिए। 

नीलम भी अब कुछ ही देर बाद मेरे होठो का रसपान करने लग गयी और नीलम मेरे प्यार में खो सी गयी थी। नीलम को ऐसे देख एक पल को मै भी हैरान हो गया था क्युकी वह बहुत ही शर्म वाली लड़की थी। 

अब मेने अपना हाथ नीलम के बूब्स की तरफ बढ़ाये और निकल के एक बूब्स को अच्छे से दबाने लगा। नीलम की सांसे अब लम्बी हो गयी थी और नीलम भी शयद हवस से भर गयी थी। 

नीलम ख़ुशी से अपने बूब्स डब्वाये जा रही थी और मेने नीलम को अब बिस्तर पर लिटा दिआ और खुद भी उसके ऊपर लेट गया। नीलम को होठो को मेने वापस से अपने होठो से मिलाया और अब दुबारा से उसे चूमने लगा। 

चाची की चुत में उंगली की और निकाला पानी

नीलम को किआ नंगा और करि चुत चुदाई 

अब मेने धीरे धीरे नीलम के कपड़ो को निकालना शुरू कर दिआ और नीलम ने मुझे कुछ भी नहीं कहा। कुछ ही देर में नीलम ऊपर से नंगी हो चुकी थी और मेने नीलम के दोनों बूब्स को अपने होठो से चूसना शुरू कर दिआ। 

नीलम भी अब गरम हो चुकी थी और उसे किस करते हुए मेने अपना हाथ उसकी चुत पे रख दिआ। नीलम इससे बहुत ही ज्यादा कामुक हो गयी और जैसे ही मेने अपनी उंगली उसकी चुत में घुसाई वह पागल हो गयी। 

अब मेने नीलम को पूरा नंगा कर दिआ और अपना लंड भी बाहर निकाल लिआ। लंड को छेद पर रखते हुए मेने एक जोर का धक्का मारा और एक ही बार में मेरा लंड चुत के अंदर चला गया। 

अब मेने तेजी से नीलम की चुत चोदनी शुरू कर दी और नीलम आह अहह करते हुए अपनी चुत की चुदाई का मजा लेने लग गयी। नीलम को इससे बहुत मजा आ रहा था और वह भी अपनी चुत उठा उठा के चुदाई करवा रही थी। 

मेने अब नीलम को उल्टा किआ और पीछे से उसकी चूत मे लंड फसा दिआ जिससे नीलम को थोड़ा दर्द होने लगा। पर अब मेने बिना कुछ और देखते हुए चुदाई करना शुरू कर दिआ और ऐसे ही हमारी चुदाई काफी देर तक चलती रही। 

कुछ ही देर बाद मेरे लंड से भी पानी निकल गया और आज नीलम को भी चुदाई का मजा मिल गया था।  

Leave a Comment