बुआ की चुत मारी और बुआ को दिआ चरमसुख का मजा

बुआ की शादी बस कुछ ही महीनो पहले हुई थी और बुआ अभी बहुत ख़ुशी से अपने पति के साथ रह रही थी। बुआ हमारे घर से कुछ ज्यादा दूर नहीं रहती थी इसलिए वह हमारे घर भी आया जाया करती थी। 

अब बुआ की शादी को एक महीना हो चला था और वह कुछ ज्यादा ख़ास खुश नहीं दिख रही थी। बुआ मम्मी से बाते करते हुए रो भी रही थी पर मुझे ऊपर से कुछ सुनाई नहीं दिआ की बात क्या है और वह क्यों रो रही है। 

काफी देर  मम्मी से बात होने के बाद बुआ ऊपर आयी और अपने मुह्ह हाथ धोने लग गयी। बुआ ने मुझे देखा और हस्ते हुए मेरा हाल पूछा। मेने भी बुआ को अच्छे से जवाब दिआ और बुआ निचे चली गयी। 

मम्मी ने मुझे निचे बुलाया और कहा की वह बुआ के साथ बजार जा रही है इसलिए मै निचे रह कर घर का ध्यान रखु। अब मम्मी और बुआ दोनों घर से निकल गए पर कुछ ही देर बाद बुआ वपस आ गयी और लेट् गयी। 

बुआ ने कहा की उन्हें रस्ते में चक्कर आ रहे थे इसलिए वह बजार नहीं गयी और वापस आ गयी। अब बुआ ने कुछ देर कुछ भी नहीं बोला और वैसे ही लेटी रही। अब कुछ देर बाद बुआ से मेने उनके रोने की वजह पूछी। 

शुरू में बुआ ने मुझे कुछ भी नहीं बताया पर कुछ देर बाद बुआ ने मुझे बताया की उनका पति उनसे अब प्यार नहीं करता है किसी और औरत के चक्कर में भी पड़ गया है। यह बोलकर बुआ फिर से रोने लगी मेने बुआ को चुप करना ठीक समझा। 

मौसी की गांड उठा उठा कर मारी – 1

बुआ और मै हो गए बिस्तर पर नंगे 

जैसे ही मै बुआ को चुप कराने के लिए उनके पास पंहुचा बुआ ने मेरे सीने पर सर रखकर रोना शुरू कर दिआ और मुझे अपने हाथो से कस के बाहो में भी ले लिआ। बुआ के बूब्स मेरे सीने पर छू रहे थे और बुआ रोये जाए रही थी। 

अब मेने बुआ को थोड़ा चुप करा दिआ पर बुआ अभी भी मुझे नहीं छोड़ रही थी। बुआ की साँसे गरम सी होती जा रही थी जो मेरे साइन पर में महसूस कर सकता था और अचानक अब बुआ ने मेरे गले पर एक किस कर दिआ। 

मेने बुआ को खुद से अलग किआ और बुआ से कहा की वह ये क्या कर रही है। बुआ ने रट हुए कहा की वह बहुत दिनों से प्यार की भुकी है और मुझे में  की झलक भी दिखाई दे रही है। 

बुआ को रोटा देख में भी पिघल गया और बुआ को गले से लगा लिआ। अब बुआ ने फिर से मेरे गले पर किस किआ पर मेने इस बार कुछ नहीं कहा और बुआ ने अब  अपना मुह्ह ऊपर किआ और मेरे होठो पर किस करने लगी। 

बुआ के होठ बहुत गरम थे जिन्हे में सेहेन ना कर स्का और हवस से भर मै भी बुआ को अच्छे से किस करने लगा। मै और बुआ एक दूसरे के होठो को अच्छे से चूसे जा रहे थे और अब बुआ ने मेरे कपडे खोलते हुए मेरी टीशर्ट निकाल दी। 

मौसी की गांड उठा उठा कर मारी – 2

बुआ ने मरवाई अपनी चुत और पाया चरमसुख

अब बुआ ने मेरे पुरे जिस्म पर अपने होठो से चुम्बन किआ जिससे मेरा लंड एकदम खड़ा हो गया जिसे बुआ ने देख लिआ। बुआ ने मेरे लंड को हाथ से हिलाते हुए मेरे होठो को चूसना जारी रखा और अब हम दोनों हवस में खो गए थे। 

बुआ एक हाथ से अपनी चुत सहलाते हुए मुझे चुम रही थी और निचे मेरा लंड भी सेहला रही थी। बुआ ने अब जल्दी से अपने कपडे भी खोल दिए। बुआ के दोनों बूब्स की निप्पलों को मेने हाथ से रगड़ना शुरू कर दिआ जिससे बुआ और गरम हो गयी। 

अब बुआ पूरी नंगी हो गयी और अपनी  दोनों टंगे खोल के बिस्तर पर ही लेट गयी। बुआ ने मुझे बुलाया और मेने अब अपना लंड बुआ की चुत में डालना शुरू किआ। एक ही बार में लड़ चुत में चला गया और मेने चुदाई शुरू कर दी। 

बुआ जोर होर से आहे भरते हुए अपनी चुत की चुदाई करवाने लगी और मै भी अपने लंड से बुआ की चूत तेजी से मारने लगा। ऐसे ही बुआ की चुत की चुदाई काफी देर तक चली और कुछ ही देर बाद बुआ की चुत से पानी आना शुरू हो गया। 

मेने चुदाई और भी ज्यादा रफ़्तार से करना शुरू कर दिआ और कुछ ही देर बाद बुआ की चुत से तेज पानी की धार आयी और बुआ ने चरमसुख का मजा लिआ। 

Leave a Comment