बुआ के साथ चुदाई का मजा आया – 1

रंजन बुआ- हेलो बेटा। में- हेलो बुआजी।  कैसे हो?रंजन बुआ- में ठीक हु और आज तू मेरे पास आ जाएगा तो बढ़िया हो जाउंगी। में- अच्छा।  ठीक हे तो आ जाता हु। रंजन बुआ- घर पे में अकेली हु और तुम्हारा इंतज़ार कर रही हु। 

में- जल्द से जल्द पहुँचता हु। रंजन बुआ- ओके बेटा। पहले में आप सब को मेरी रंजन बुआ क बारेमे बता दू और उनकी आगे ४२ साल हे लेकिन वो सिर्फ ३० साल की लगती हे।  बुआ ने अपने आपको काफी अच्छी तरह से मेन्टेन किया हुआ हे। 

बुआ दिखने में खूबसूरत हे और उनकी बॉडी का रंग गोरा हे।  मेरी बुआ की बॉडी स्लिम हे और उनका फिगर ३२-३०-३२ होगा।  बुआ की हिघ्त करीब ५ फ़ीट होगी और उनका वेट करीब ५० कग होगा। 

मेरी बुआ का एक लड़का हे और वो सोल्लगे क २ण्ड ईयर में हे लेकिन लगता नहीं की बुआ का लड़का इतना बड़ा होगा।  बुआ का पेट थोड़ा स्लिम और पतली कमर देख क किसी का भी दिल बुआ पे आ जाए। 

बुआ की गोल और गहरी नाभि का मेटो दीवाना हु।  बुआ क बूब्स इतने बड़े नहीं हे लेकिन मस्त निचे की और झुके हुए हे एकदम नरम हे।  बुआ क बूब्स क निप्पल ब्राउन रंग क हे और वो पैरो में हमेशा पायल पहनती हे।

मेरी बुआ घरेलु गुजराती औरत हे और वो घर में भी हमेशा साड़ी पहनती हे।  आप सब मेरे बारे में तो जानते ही हे।  मेरी आगे २५ हे।  मेरी बॉडी स्लिम और बॉडी का रंग सावला हे।  मेरा लुंड करीब ७ इंच का हे। 

मेरे लुंड का रंग काला और लुंड का टोपा लाल रंग का हे। में मेरे लुंड और बॉडी पे काफी बाल रखता हु।  मेरी हिघ्त ५। ७ और वेट ५२ कग हे।  अब में करीब १०:३० बजे ही अपनी कार में बुआ क घर आनंद जाने क लिए निकल गया और करीब १:०० बजे तक बुआ क घर पहुँच गया।

बीवी के साथ भाभियो को भी चोदा – 1

बुआ लग रही थी तगड़ा माल

आनंद में तब बारिश हो रही थी और में बुआ क घर का दूर खोल क सीधा अंदर चला गया।  बुआ ने ब्राउन और ब्लैक रंग की साड़ी और ब्लैक कलर की ब्लाउज पहनी हुई थी। 

बुआ ने अपने सर क बाल खुले रखे हुए थे और गले में मंगलसूत्र क साथ मांग में सिन्दूर भी लगाया हुआ था। रंजन बुआ- आज अकेला आया। में- हां बुआजी।  आज मुझे अकेले ही मेरी बुआ क साथ मज़े करने हे। 

में हॉल में हु बुआ को खड़े खड़े होठो पे किश करने लगा और बुआ मेरे मुँह में अपनी जीभ दाल क मुझे होठो पे किश कर रही थी।  मेने बुआ को होठो पे किश करते हुए उनकी साड़ी क अंदर हाथ दाल क उनके बूब्स को ब्लाउज क ऊपर से अपने हाथो से दबाने लगा और बुआ मुँह में अपनी जीभ दाल क होठो पे किश कर रहा था। 

में और बुआ एक दूसरे की जीभ को अपनी अपनी जीभ से चाट रहे थे और करीब ३-४ मिनट्स तक हम ऐसे ही एक दूसरे को होठो पे किश करते रहे।  अब मेने बुआ क होठो पे से अपने होठ हटाए।

खेल के साथ चुदाई का मजा – 1

बारिश में बुआ ने मांगी चुदाई

रंजन बुआ- बारिश क मौसम में हमेशा चुदाई का मूड बन जाता हे। में- हां सही कहा।  चलो फिर आज टेरेस पे बारिश में भीगते हुए चुदाई क मज़े लेते हे। रंजन बुआ- लेकिन किसी ने देख लिया तो? में- अरे बुआ बारिश में कोण देखेगा। 

रंजन बुआ- ठीक हे चलो। अब में और बुआ सीढ़ियों से टेरेस पे जाने लगे और साथ में एक चटाई मात भी ले गए।  अब मेने अपने टी-शर्ट और जीन्स निकल क सीढ़ियों पे रख दिए और में अब सिर्फ अंडरवियर में था। 

बुआ साड़ी पहने हुए ही चटाई लेके बारिश में भीगती हुई टेरेस पे चली गयी और चटाई मत निचे बिछा दी।  बुआ की मांग का सिन्दूर बारिश की वजह से बहने लगा था।  

में भी अब बुआ क पास बारिश में भीगते हुए टेरेस पे चला गया और बुआ भीगी हुई साड़ी में और भी ज्यादा खूबसूरत दिख रही थी।  अब मेने बुआ की साड़ी का पल्लू अपने हाथ से पकड़ क उनके कंधे पे से हटा दिया और बुआ की साड़ी को अपने हाथों से खींचते हुए निकलने लगा। 

बुआ अब गोल गोल घूमने लगी और मेने बुआ की साड़ी निकल दी।  बुआ ने निचे ब्लैक कलर का पेटीकोट पहना हुआ था और अब में और बुआ फिरसे खड़े खरे एक दूसरे को होठो पे किश करने लगे।  हम दोनों एक दूसरे क मुँह में अपनी जीभ दाल क किश कर रहे थे और मेने बुआ को किश करते हुए उनकी ब्लाउज क सारे हुक खोल दिए।