दूर की बुआ चुदने आयी घर – 1

मेरा नाम नितिन है। घर में प्यार से सभी नीत बुलाते हैं। मेरा घर दिल्ली में है। यह हॉट वर्जिन पोर्न स्टोरी उन दिनों की है, जब मैं कॉलेज की पढ़ाई कर रहा था, जिसमें मेरा फाइनल इयर चल रहा था। 

मेरे चाचा की शादी थी, जिसमें एक लड़की आयी थी। उसका नाम जया था। जया मेरे चाचा की मौसी की बेटी थी। इस रिश्ते से वो मेरी फुआ लगती थी। जया के बारे में आपको बता देता हूं। उस समय उसकी उम्र लगभग 21 साल हो रही होगी।

वह देखने में काफी सुंदर थी। उसका रंग साफ, एकदम गदराया सा सुडौल जिस्म, उसकी चूचियों का बड़ा साइज देखकर किसी के भी मुँह में पानी आ जाए। उसके सेक्सी चूतड़ भी बड़े मादक थे। वो एकदम आकर्षित कर लेने वाले शरीर की मालकिन थी। 

चूँकि वो मेरे रिश्ते में फुआ लगती थी, इस वजह से मैं उस पर ज्यादा ध्यान नहीं देता था। शादी के बाद कुछ दिनों में धीरे धीरे सभी लोग चले गए लेकिन जया नहीं गई। मुझे पता चला कि अब वो यहीं हमारे साथ रहेगी। 

मैंने घर में मां से पूछा, तो मां ने बताया कि जया दो बार से लगातार बारहवीं की परीक्षा में फेल हो रही है, जिस वजह से उसकी शादी करने में दिक्कत आ रही है। अब वो तुम्हारे साथ रहकर पढ़ेगी। 

मकानमालिकिन की बेटी को दिआ मेरा मोटा लंड – 1

रात को पढ़ाने लगा मम्मी को

मैंने कहा- मां, मुझे तो दिन में कॉलेज और कोचिंग से बिल्कुल भी समय नहीं मिल पाता है। मां बोलीं- कोई बात नहीं, तू उसे रात में पढ़ा दिया कर। मेरा कमरा घर के एकदम से आखिर में था, इस वजह से मेरे कमरे के तरफ घरवालों का कम आना-जाना रहता था। 

उसी रात को मैं अपना पढ़ाई कर रहा था। जया मेरे कमरे आई और मेरे बिस्तर पर अपनी किताब और कॉपी लेकर बैठ गई। उसको इतने करीब से देखने पर मुझे मजा आने लगा। सच में वो क्या माल लग रही थी। 

मैंने जया से पूछा- आप कैसे फेल हो जा रही हो बार बार? उसने बताया कि मैथ्स में कमजोर होने की वजह से। फिर मैंने पूछा- तो मैथ्स क्यों लिया? वो बोली- मेरे साथ की सहेलियों ने मैथ्स सब्जेक्ट लिया था, इसलिए मैंने भी ले लिया। 

मैंने कहा- कोई बात नहीं, इस बार अच्छे से मेहनत करना, तो पास हो जाओगी। हम दोनों साथ साथ पढ़ने लगे। एक दिन वो नाइटी पहन कर आई पढ़ने के लिए। उसने नाइटी को ऐसे पहना था कि जिसमें नाइटी के ऊपर से उसके चूचियों के अंगूर साफ उभरे हुए दिख रहे थे। 

शायद उसने अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी। हम दोनों बिस्तर पर बैठ कर पढ़ाई करते थे। आज जब वो लिखने के लिए नीचे झुकती, तो मुझे उसके रसीले चूचे दिखाई देने लगते। मुझे न जाने क्यों ऐसा लगने लगा था कि जैसे वो अपनी चूचियों को खुद दिखाना चाह रही हो। 

उसके गोल रसदार चूचों को देखकर मेरा लंड एकदम से खड़ा हो जा रहा था जिसे छिपाने के लिए पानी पीने का बहाना मारकर बाहर आ गया था। अब मैं और जया दोनों दोस्त की तरह पढ़ाई करने लगे। 

इलाके की रंडी की चुत चुदाई – 2 

जया को देखते ही करने लगा चुदाई का मन

धीरे-धीरे मैं उसकी तरफ आकर्षित होने लगा था। पढ़ाई के बीच, मैं उसके शरीर को किसी न किसी बहाने से छूने की कोशिश करता। पेन या किताब के बहाने से उसके हाथ को, तो कभी पीठ को छू लेता था। 

उसके शरीर को छूते ही मेरे शरीर में एकदम से हलचल सी हो जाती थी। मजे की बात ये थी कि वो भी मेरे छूने से कुछ भी ऐसी प्रतिक्रिया नहीं करती थी जिससे ये लगे कि उसको बुरा लगा हो। 

एक दिन पढ़ाई के वक्त उसकी चूचियों को देखकर मेरे मन में ऐसा लगा जैसे अभी उसके नाइटी को फाड़कर उसकी रसीली चूचियों को चूस लूं। यही सोचते सोचते मेरा लंड भी एकदम से तन कर खड़ा हो गया। 

मैं तुरंत उठकर बाथरूम में गया और मुझसे रहा न गया तो मैं अपना लंड निकलकर मुठ मारने लगा। आंखें बंद करके मन में जया की चूचियों को याद करके मैं अपने लंड को हिला रहा था। 

थोड़ी देर बाद एकदम से मेरा वीर्य तेजी से बाहर आ गया और बाथरूम के दीवार पर मेरा वीर्य चिपक गया। इसके बाद मैं शांत हो गया। फिर चेहरा और हाथ धोकर वापस कमरे में आ गया। 

जया पूछने लगी- कहां गए थे? इतनी देर कैसे लग गई? मैंने कहा- कुछ नहीं, बस बाथरूम गया था। उस रात को सोने से पहले दुबारा जया के नाम मुठ मारी। उसके चूचों और उसका शरीर मेरे नजरों के सामने घूमता रहता था। 

कुछ दिनों बाद पढ़ाई के दौरान हंसी मजाक की बातें हो रही थीं। तभी जया ने मुझसे पूछा- तुमने कोई गर्लफ्रेंड बनाई है या नहीं? मैं उसके इस सवाल से एकदम से चौंक गया। मैंने कभी इसकी उम्मीद भी नहीं की थी कि ये मुझसे ऐसा कुछ कहेगी।

Leave a Comment