बस में पटाई लड़की और उसे गांव में चोदा – 2

तो जैसा की आप सभी ने पढ़ा कैसे एक नकचढ़ी लड़की को मै बस से पटाकर खुद उसके घर पर पहुंच चूका था और रात में उसके साथ रुकने के लिए मेने उसे मना भी लिआ था। 

अब आगे पढ़िए। हम दोनों अब बहुत ज्यादा करीब थे और एक दूसरे के होठो को बहुत ही आराम से  चूसे जा रहे थे। वह लड़की भी अब रुकने का नाम नहीं ले रही थी और मुझे चूमे ही जा रही थी। 

बिस्तर पर एक ही इंसान की जगह थी और हम दोनों बहुत ही जोर से चिपक कर लेते हुए थे। अब मेने अपना हाथ हम दोनों के बिच में डाला और उसके बूब्स को दबाना शुरू हो गया। 

अपने एक हाथ उसके बहुत ही ज्यादा गोल गोल बूब्स को मै दबाने लगा जिससे उसे भी मजा आ रहा था। सिसकिआ लेती हुई वह मेरे होठो पर चुम्बन किये जा रही थी और मेरे हाथ उसकी छाती पर चले जा रहे थे। 

अब मै बहुत ही ज्यादा हराम हो गया था और मेने उससे कहा की वह अपना सूट निकल दे। पहले तो उसने मुझे कोई भी जवाब नहीं दिया और अब मेरे दुबारा ऐसा कहने पर वह उठी और उसने खिड़किओं को पहले बंद कर दिआ। 

उसने दरवाजे के छेद से भी यह देखा की आस पास कोई नहीं था और अब अगले ही पल उसने अपना सूट ऊपर करते हुए निकाल दिआ। मेने अब उसे अपनी तरफ खींचा और उसके ब्रा के हुक को पीछे से खोल दिआ। 

उसके दोनों बूब्स बहुत ही ज्यादा गोल और मुलायम थे जिनपर किस करते हुए मेने उनकी निप्पलों को भी चूसना चालू कर दिआ। प्यारी सी आहो के साथ वह मेरे बालो को सहलाये जा  रही थी। 

 बुआ ने चुदाई करवाके पाया चरमसुख – 1

गांव में करि लड़की को फ़साके मस्त चुदाई

काफी देर तक चुचो की चुसाई करने के बाद मेने अब उसे बिस्तर पर लिटा लिआ और उसे वापस से चूमने लगा। निचे मेरे लंड में भी अब बहुत ज्यादा ही  जिसे मै काबू में करने की कोशिश कर रहा था। 

मेने अब अपने एक हाथ को निचे किआ और उसकी सालववार के ऊपर से ही उसकी चुत को सहलाना शुरू कर दिआ। अब मै उसकी चुत को ऊपर से मसलते हुए उसे और भी ज्यादा गरम करने लगा। 

और अब कुछ देर बाद मेने उसकी सलवार का नाडा खोलकर हाथ को अंदर घुसा दिआ। उसकी चुत अब बहुत ज्यादा गीली हो रखी थी। अब मेने उसकी चुत की फांको के बिच अपनी उंगली को घुसाते हुए उसकी चुत की उंगली से चुदाई शुरू कर दी। 

अब वह बहुत ज्यादा हवस से भर चुकी थी और वह मेरे होठो को भी जोर जोर से चूसे ही जा रही थी। मेने भी अब उसे रोका और उसकी सलवार को पूरा उतार दिआ और खुद भी जल्दी से नंगा हो गया। 

अब हम दोनों एक दम नंगे थे और मेने उसकी टांगो को बहुत ही  प्यार से खोला। अब मेने चुत के छेद को उंगली से टटोलते हुए अपने लंड को चुत पाए सेट कर दिआ और एक जोर का धक्का मारा। 

यह शायद उसकी पहली चुदाई थी इसलिए एक बारी में लंड अंदर नहीं गया और उसे दर्द भी होने लगा। पर मेने अब उसे काबू किआ और थोड़ा प्यार करने के बाद मेने वापस से एक जोर का धक्का मारा। 

चाची को पकड़ा चुत मसलते हुए

चुदाई कर चुत से निकाल दिआ पानी 

 इस बारी में मेरा लंड अंदर जा चूका था और मेने अब लंड को अंदर बाहर करना शुरू कर दिआ। वह मेरी पीठ को जोर से थामे हुए थी और मै तेजी से उसकी चुदाई करे जा रहा था। 

वह मेरे कान में आह आह करते हुए मुझे जोर से बहो में भरे हुए थे और मै अपने लंड को उसकी चुत को तेजी से आगे पीछे करते हुए रगड़ मार रहा था। अब चुदाई का बाहत ही ज्यादा मजा आ रहा था और मै उसकी टाइट चुत में जोर जोर की ठोकर पेल रहा था। 

पर अब काफी देर बाद मुझे महसूस हुआ की उसकी चुत काफी ज्यादा मुलायम हो चुकी है और मेने जब निचे देखा तो उसकी चुत से पानी रिसने लग गया था। मेने अब चुदाई की रफ़्तार बढ़ा दी और वह जोर जोर से आह आह करने लगी। 

पर अब चुदाई इतनी तेजी से हो रही थी की मै सब कुछ भूल चूका था और अगले ही पल अब वह इतनी कामुक हो गयी थी की उसकी चुत से तेज पानी की धार निकलने लग गयी। 

उसकी चुत से सारा पानी बिस्तर पर निकल गया और इसी बिच मेरे लंड से भी सारा वीर्य जमीन पर आ निकला था। 

Leave a Comment