चाची की चुत में उंगली की और निकाला पानी

मेरी चाची को तो शायद आप अब जान ही गए होंगे की वह कितनी हवसी और सेक्सी थी। चाची को अपनी चुत में उंगली करने की आदत भी लगी हुई थी जिसके चलते मेने चाची की चुदाई भी करि। चलिए पढ़िए कैसे।

चाची के घर मेरा रोज का ही आना जाना था क्युकी मम्मी किसी ना किसी काम से मुझे वह भेज ही देती थी। चाची भी मुझ से बहुत प्यार करती थी और मुझे किसी भी चीज के लिए मन नहीं करती थी।

हलाकि मै चाची के ऊपर पूरा फ़िदा था क्युकी चाची के मोटे बूब्स और उनकी मोटी गांड का मै दीवाना पहले ही हो चूका था। चाची की गांड के बारे में सोच के ही मेरा लंड खुद खड़ा हो जाता था।

पर अब चाची को देख बहुत समय हो गया था और मै आज बिना किसी काम से चाची के घर जाने लगा। मै जैसे ही चाची के घर गया मेने सीधा दरवाजा खोला और मै अंदर चला गया।

अंदर जाकर मनी देखा की चाची बिस्तर पर लेटी अपनी चूत में जोर जोर से उंगली कर रही है और मजे ले रही है। चाची मुझे देख कर बहुत ही ज्यादा डर गयी और अपने आप को एक कोने कर के अपने बूब्स छुपाने लगी।

मेने चाची को वैसे पहले कभी नहीं देखा था पर आज चाची का यह रूप देख मै भी बहुत कामुक हो गया था। चाची ने अब मुझे देखा और कहा की मै बहार चला जायु। मेने चाची को रोका और कहा की कोई बात नहीं यह तो आम बात है।

मेने चाची से कहा की आज के ज़माने में सब खुद के लिए कुछ ना कुछ करते है जिससे वह खुश रह सके। चाची अब थोड़ा ठीक हो गयी और उन्होंने मुझे कहा की वह उनका आदत बन चुकी है जो अब नहीं छूट रही है।

भाभी की भीगी जवानी को रख के चोदा

चाची की चुत मसली और दिआ मजा

मेने चाची से कहा की यह बात मै किसी को भी नहीं बातयूंगा इसलिए वह एकदम नार्मल हो जाये और बिलकुल भी ना डरे। अब चाची से मेने कहा की अगर वह चाहे तो मै उनकी मदद भी कर सकता हु जिससे वह भी खुश हो जाएगी।

चाची ने कुछ देर सोचा और कहा की किसी मदद। चाची से मेने कहा की उनके लिए मै उनका काम कर दूंगा जो वह खुद कर रही थी और अब चाची मेरी बात समझ गयी।

चाची ने मुझे कहा की ठीक है ऐसा ही है तो मै उनके पास ऊपर ही आ जायु। ऐसा कहने के बाद मै चाची के पास चला गया और चाची के बूब्स को दबाने लगा। चाची कुछ ही देर में फिर से गरम हो गयी और मेने उनके होठो को अपने होठो से मिला दिआ।

अब चाची भी मेरे होठो को चूसने लगी और मने दूसरे हाथ से चाची की टांगो को फैला दिआ। अब मेने अपनी हाथ से चाची की चुत को मसलना शुरू किआ और चाची को बहुत ही जल्दी मजा भी आपने लगा।

चाची अब कामुक हो चुकी थी और आहे भर रही थी। अब चाची ने मुझे रोका और कहा की मै भी लेट जाऊ और चाची ने अब मेरे कपडे निकाल दिए। चाची ने सीधा अपना हाथ मेरे लंड पे रखा और उसे हाथ से खड़ा कर दिआ।

चाची ने अब मेरे लंड को अच्छे से मुह्ह से चूसना भी शुरू कर दिआ और चाची ने काफी देर तक मेरे लंड को चूस कर ही मजा लिआ। कुछ देर बाद मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था और मोटा भी हो गया था।

पढिये सबसे जादा हवस की कहानिया:  Antasvasna Stories

चाची ने कराइ खुद चुत की चुदाई

अब चाची खड़ी हुई और अपनी टाँगे खोल कर मेरे लंड पर बैठ गयी और उसे अपनी चुत में ले लिआ। अब चाची ने ऊपर निचे होते हुए मेरे लंड से अपनी चुत मरानी शुरू कर दी।

अब चाची को मजा आ रहा था और वह अपनी चुत को मसलते हुए मेरे लंड पर चढ़कर मुझसे चुद रही थी। मै भी निचे से अब अपने लंड को उनकी चुत में जोर जर देते हुए चुदाई पर जोर डालते जा रहा था।

अब चाची काफी थक गयी थी पर फिर भी वह मेरे लंड से अपनी चुत अलग नहीं कर रही थी और अपनी चुत को अंदर तक चुदवा रही थी। अब चाची की चुत से पानी भी आने लगा था और वह हाफने भी लगी।

चाची जोर जोर से मेरे लंड पर कूदने लगी और उनकी आहे बहुत ही ज्यादा तेज हो गयी और कुछ ही देर बाद चाची की चुत से सारा पानी निकल गया और वह मेरे ऊपर ही लेट गयी। 

Leave a Comment