चाची के बूब्स की मसाज करके चोदा – चाची की हवस

हमारे पापा के कई दोस्त है उन्ही में पापा का एक ख़ास दोस्त भी है जिन्हे हम प्यार से चाचा बुलाते है। कुछ सालो से वह हमारे साथ ही रह रहे थे। अब चाचा भी जवान हो गए थे इसलिए उन्होंने शादी करने का सोचा। चाचा की शादी उनकी मम्मी की मर्जी से हुई और हमारी चाची गांव से दिल्ली आ गयी। 

चाची दिखने में बहुत ही ज्यादा सुन्दर थी और उन्हें बूब्स भी बहुत आकर्षक थे। चाची ज्यादातर लाल कलर के कपडे ही पहना करती थी जिससे उनका रूप और भी अच्छा दीखता था। शुरू में चाची घर से बहार नहीं निकला करती थी और सारा दिन मुझसे ही बाते किआ करती थी। 

चाची से बाते  करते हुए मुझे भी बहुत मजा आता था और वह भी मुझसे प्यार से बाते किआ करती थी। एक दिन की बात है जब मै और चाची बाते कर रहे थे और उस दिन भी चाची ने लाल कलर का सूट पहना हुआ था। 

चाची का वह सूट कुछ ज्यादा ही जेहरा था जिनमे से उनके बूब्स की लकीर साफ़ दिखाई दे रही थी। मेरी नजर बस उनके बूब्स पर ही रुक गयी थी और जैसे जैसे चाची हस्ती उनके मुलायम बूब्स उछल उछल कर मुझे अपनी तरफ बुला रहे थे। 

चाची को भी यह बात शायद मालूम पड़ गयी थी। चाची ने मुझसे कहा की पता नहीं पर क्यों कुछ दिन से उनका बदन बहुत दुःख रहा है। मैने चाची से कहा शायद यह दिल्ली के पानी का असर है जो आपको सूट नहीं हो रहा है। 

रजाई में साली की कर दी जोरदार चुदाई 

चाची के बूब्स को खूब दबाया 

चाची मुझे देखकर हसी की यह पानी का नहीं किसी और चीज का असर है। मै चाची की यह बात समझकर हसने लगा और कहने लगा की लाओ मै आपका दर्द फिर दूर कर देता हु। 

चाची ने मेरी इस बात को सच मान लिआ और मुझसे कहने लगी की तुम मेरी आज मसाज कर दो जिससे मुझे शायद थोड़ा आराम मिले। अब चाची का यौवन देख मै भी उन्हें मन नहीं कर पाया और उनकी इस बात पर राजी हो गया। 

अब मै तेल लेके चाची के पास बैठ गया। चाची का सारा बदन उनके सूट की वजह से ढका हुआ था जिसपर मसाज करने की कोई भी जगह नहीं थी। चाची से मुझे कुछ देर रुकने को कहा और चाचा की एक टीशर्ट पेहेन कर आ गयी। 

अब चाची ने अपनी टीशर्ट थोड़ी सी ऊपर करि और मुझे उनकी पीठ पर मसाज करने के लिए कहा। मेने अपने हाथो में तेल लेते हुए चाची की पीठ को मसलना शुरू कर दिआ। चाची की पीठ एकदम मुलायम और कोमल थी जिसपे मै अपने हाथ फिराए जा रहा था। 

अब चाची की पीठ की मसाज करते हुए मेरा हाथ उनके पेट पर भी जा रहा था जिससे चाची भी थोड़ी कामुक होने लगी थी। पर अब चाची ने मुझे रोका और पीठ के बल लेटकर मुझे मसाज करने के लिए कहा। मेने अपने हाथ में थोड़ा सा तेल लिआ और उनके पेट पर लगाया। 

तभी चाची ने मुझे रोका और कहा की पेट पर नहीं मुझे उनकी छाती पर मसाज करनी है। यह सुनकर मै चौक गया था पर मैने चाची को इस बात की भनक भी न लगने दी। अब मेने अपने हाथ ऊपर करते हुए चाची के बूब्स की तरफ बढ़ाये। 

चाची ने टीशर्ट के अंदर कुछ भी नहीं पहना हुआ था और उनके दोनों नितम्ब पूरी तरह से नंगे थे। मेने अपने दोनों हाथो से उनको दोनों चुच्चो को पकड़ा और मसाज करते हुए दबाना शुरू कर दिआ। 

कुछ ही देर में चाची पूरी तरह हवस से भर गयी और बिस्तर पर लेटी हुई बलखाने लगी। मै भी चाची के निप्पलों को अपनी उंगलिओ से मसलते हुए उनके दोनों बूब्स को जोर जोर से दबाये जा रहा था। 

Also Read: Family Sex Story

चाची की चूत पर तेल लगाकर घुसा दिआ लंड 

अब चाची ने एकदम से मेरी तरफ देखा और मुझे अपनी तरफ खींचते हुए किस करने लगी। हम दोनों एक दूसरे के होठो को चूसने लगे। चाची के होठ भी उन्ही की तरह मुलायम और मीठे थे जिन्हे मै काफी देर तक चुस्त रहा। 

मै भी चाची के साथ में लेटते हुए उन्हें चूमा जा रहा था और अब चाची ने मेरा हाथ लेकर अपने पजामे में घुसाकर अपनी चूत पर रख दिआ। मेरे हाथो में अभी भी तेल था जिससे मेने चाची की चूत को रगड़ना शुरू कर दिआ। 

मैने अपनी एक उंगली चाची की चूत में डालते हुए अंदर बाहर करना शुरू कर दी और चाची लम्बी लम्बी सांसे लेते हुए मुझे किस करने लगी। अब मेने चाची का पजामा पूरा निकलकर फेक दिआ और उनकी चूत को देखा। 

चाची की चूत पूरी तरह चिकनी थी और उसपर एक भी बाल नहीं था। चाची का जिस्म पूरी तरह हवस से भर गया था और अब मेने अपने लंड पेंट से निकलकर चाची की चिकनी चूत पर रख दिआ। 

मेरे हाथो के तेल से चाची की चूत पूरी तरह से गीली हो गयी थी। मैने जैसे ही थोड़ा सा जोर लगाते हुए चाची की चूत में लंड डाला वह एक ही झटके में फिसलते हुए चाची की चूत चीरता हुआ अंदर घुस गया। 

चाची की एकदम से चीख निकल गयी पर उन्हें इससे मजा भी आ गया था। अब मेने धक्के मरते हुए चाची की चूत की चुदाई शुरू कर दी। चाची आहे भर्ती हुई बिस्तर को नोच रही थी और में जोर जोर से उनकी चूत चोद रहा था। 

चाची की चूत पूरी तरह से चिकनी हो गयी थी और मेरे लंड की रफ़्तार से उनकी चूत से पानी भी आने लगा था। अब मेने चाची को कुतिया बनने के लिए कहा और चाची एक ही बार में चुदाई वाली रांड के जैसे कुतिया बन गयी। 

मेने पीछे से चाची की चूत में अपना लंड वापस फसाया और उनकी चुदाई करने लगा। अब मुझ चाची को चोदते हुए काफी समय हो गया था और मेरा लंड भी झड़ने वाला था। मेने चाची को यह बात बताई और चाची ने मुझे वीर्य उनकी चूत में ही डालने के लिए बोल दिआ। 

कुछ देर चाची की चूत की चुदाई करते हुए मेने अपनी रफ़्तार बढ़ा दी और एकदम से मेरे लंड ने सारा वीर्य चाची की चूत में ही निकाल फेका।

Leave a Comment