भाभी को चोदकर बनाया माँ – 4

मैंने देखा कि वो गुलाबी रंग की ब्रा पहनी हुई थीं। मैं भाभी की चूचियों को कुछ देर तक एकटक देखता रहा।   भाभी नशीली आवाज में बोलीं- ऐसे क्या देख रहे हो जान … ये प्रिया अब ऊपर से नीचे तक तुम्हारी ही है। 

मैंने कहा- हां प्रिया, मैं अपनी पत्नी की चूचियों की मस्त उठान को देख रहा था। कितनी रसीली चूचियां हैं जान।   यह सुनकर भाभी शर्मा गईं। मैं उनकी चूचियों को मींजने लगा। वो सीत्कार भरती हुई बोलीं- आंह उत्तम धीरे धीरे करो। 

लेकिन मेरे अन्दर तो चूचियां दबाने की आग लगी हुई थी, मैंने भाभी की ब्रा को खोल कर अलग कर दिया।   आह क्या गजब की चूचियां थीं भाभी की! मैंने दोनों मम्मों को भरपूर नजरों से देखा, फिर एक चूची को अपने मुँह में लेकर पीने लगा। एक हाथ से दूसरे चूचे को दबाने लगा। 

वो सिर्फ ‘सी … सीई …’ की मादक आवाज़ निकालने लगीं। भाभी अपनी चूची मेरे मुँह से चुसवाती हुई बोलीं- आंह उत्तम … इसका पूरा दूध पी जाओ … आह मसल दो इन्हें … ये मुझे बहुत परेशान करती हैं आह आज खूब पियो इनको … मुझे बहुत मज़ा आ रहा है। 

उसी बीच मैंने अपने एक हाथ से भाभी के पेटीकोट के नाड़ा ढीला कर दिया और उसको खोल कर अलग कर दिया।   मेरे सामने भाभी गुलाबी रंग की पैंटी पहनी हुई थीं। उनकी संगमरमर सी दूधिया जांघें मुझे मदहोश कर रही थीं। 

मैंने कहा- प्रिया सच में तुम माल लग रही हो। भाभी मादक आवाज में बोलीं- अब ये माल जैसी प्रिया सिर्फ तुम्हारी है जान, जैसे चाहो वैसे अपनी पत्नी के शरीर को लूट लो।   फिर हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे और मैंने उनकी पैंटी को उतार कर फैंक दिया।

भाभी ने दिया अपनी चुत की चुदाई का ऑफर

भाभी की चुत में करि उंगली 

मैंने नंगी बुर को हाथ से छूकर देखा, तो बुर एकदम चिकनी हुई पड़ी था। भाभी की चुत पर झांट का एक भी बाल नहीं था। एकदम मक्खन की तरह चिकनी और मुलायम बुर देख कर मेरी आंखें वासना से भर उठीं।   मैंने कहा- प्रिया, तुम्हारी बुर तो एकदम चिकनी और रसीली है। 

भाभी वासना से बोलीं- हां मैंने आपसे चुदाई करवाने के लिए बालों को साफ किया है ताकि आपके लंड को कोई दिक्कत नहीं हो।   मैंने चुत की फांकों में उंगली फेरने लगा।   भाभी बोलीं- आपने तो मुझे नंगी कर दिया है जान और आप खुद कपड़ा पहने हुए हो। 

मैं बोला- रोका किसने है जान … तुम खुद ही अपने हाथ से मेरे कपड़े निकाल दो।   ये सुनकर भाभी ने मेरी शर्ट और पैंट दोनों को निकाल कर अलग कर दिया। फिर मेरी चड्डी भी निकाल दी।   वो मेरा बड़ा और खड़ा लंड देख कर बोलीं- आह जान … आपका लंड कितना बड़ा और मोटा है। 

मैंने पूछा- पसंद आया?   भाभी लंड सहलाती हुई बोलीं- हां बहुत पसंद आया। उन्होंने लंड को चुम्मी कर ली। फिर हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे और एक दूसरे को कस कर पकड़ कर अपनी वासना को भड़काने लगे। 

जीजा साली और चुदाई का खेल

भाभी ने लंड चूस कर दिआ एकदम कड़क

बीस मिनट के बाद हम दोनों अलग हुए।   मैंने भाभी से लंड चूसने को कहा तो वो बोलीं- हां मुझे उसका स्वाद लेना है। वो मेरा लंड चूसने लगीं और मुझे बहुत मज़ा आने लगा। भाभी लंड को ऐसे चूस रही थीं जैसे न जाने कितने दिनों की प्यासी हैं। 

उन्होंने बहुत देर तक लंड चूसा।  मैं एकदम से अकड़ गया था और उनके मुँह में मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया। भाभी लंड का पूरा पानी पी गईं और चूस चूस कर लंड को साफ़ कर दिया। 

फिर भाभी बोलीं- उत्तम, मुझे तुम्हारे लंड का पानी पीकर बहुत मज़ा आया। इतना मज़ा पहले कभी भी नहीं आया था। मैंने उनके गालों को सहलाते हुए कहा- प्रिया मुझे भी आपकी बुर का पानी पीना है। 

वो बोलीं- हां मेरे उत्तम आ जाओ न … मना किसने किया है आपको। आ जाओ और मेरी चूत का पानी पी लो और मुझे भी चूत चुसाई का आनन्द दे दो। मैं भाभी की बुर को चाटने लगा और चुसाई करने लगा। 

वो मचलने लगीं और कहने लगीं- आह उत्तम … आह आज पहली बार मेरी चुत को किसी ने चूसा है … आह और चूसो जान मेरी चूत को खा जाओ आह मेरी चूत को बहुत मज़ा आ रहा है … आह खूब चूसो। 

मैंने बहुत देर तक भाभी की बुर को चूसा और अन्तत: उन्होंने अपनी बुर का पानी मेरे मुँह में निकाल दिया। मैं भी किसी कुत्ते की तरह अपनी जीभ से भाभी की के बुर का पूरा पानी चाट गया।

सच में भाभी की चुत चाटकर मुझे बहुत अच्छा लगा और खूब मज़ा आया।   अब हम दोनों पति पत्नी जैसे एक दूसरे को बांहों में बांहें डाल कर आराम करने लगे।   कुछ मिनट बाद हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे। 

अब हम दोनों फिर से 69 की पोजीशन में आ गए और एक दूसरे के बुर और लंड की चुसाई करने लगे।   भाभी मेरे लंड को चूस रही थीं और मैं उनकी बुर की चुसाई कर रहा था।  ऐसा लग रहा था कि हम दोनों सिर्फ एक दूसरे के लिए बने हैं और एक दूसरे को खा जाएंगे। कुछ ही पलों में हम दोनों के लंड चुत चुदाई के लिए एकदम गरमा गए थे।

दोस्तो, कहानी थोड़ा लम्बी है इसलिए कहानी को अगले भाग में लिखूंगा, मैं आशा करता हूँ कि ए सेक्स स्टोरी आप सबको पसंद आएगी

Leave a Comment