पति से बदले के लिए करवाई चुत चुदाई – 2

अब मेने अपने पति को रेंज हाथ पकड़ लिआ था और मेरे पूछने पर उन्होंने मुझे जवाब दिया कि वो अभी अपने ऑफिस में ही हैं।  फिर मैं अपनी सहेलियों के पास आ गई और बोली- मुझे कोई जरूरी काम आ गया है, मुझे जाना होगा। 

मैं वहां से निकल गई और अपने शौहर का पीछा करने लगी। उनका पीछा करते हुए मैं एक घर के बाहर तक पहुंच गई।  मेरे शौहर और वो लड़की दोनों अन्दर घर में घुस गए थे। मैंने बाहर की खिड़की से अन्दर झांकने की कोशिश की और देखा कि मेरे शौहर उस लड़की को चूम रहे थे।  

ये देख मेरे पैरों तले से जमीन ही निकल गई। मुझे ये देख कर इतना दुख हुआ कि मैं बयान ही नहीं पाऊंगी। पर मैंने थोड़ी और हिम्मत की और कुछ देर बाद वापस अन्दर झांका तो देखा मेरे शौहर उस लड़की को घोड़ी बना कर उसकी चुदाई कर रहे थे।  

ये देख कर मैं वहां से चली गई और घर आ गई। घर पहुंच में बहुत रोई कि आखिर मुझमें ऐसी क्या कमी थी कि मेरे शौहर उस छिनाल रंडी के चक्कर में फंस गए।  मैंने ये सोच लिया था कि अब जब मेरे शौहर घर आएंगे तो मैं उनसे इस बारे में बात करूंगी और उनसे पूछूंगी कि आखिर क्या वजह थी कि उनको उस छिनाल के साथ सोना पड़ा।  

रात में जब मेरे शौहर घर लौटे तो मैंने उनसे बात करने की कोशिश तो की, पर मुझसे ये सब बोला ही नहीं गया। मैं चुपचाप ही रही, पर मेरे दिमाग में वहीं सब चल रहा था कि कैसे वो उस लड़की को अपने बांहों में भर उसको चोद रहे थे। 

चाची को पकड़ा चुत मसलते हुए

शोहर को पकड़ा कसी और रंडी के साथ

मैंने बहुत दिनों तक इस बारे में सोचा, फिर मैंने मन बना लिया कि अगर मेरे शौहर मेरे साथ ऐसा कर सकते हैं, तो मैं भी अब उनके साथ ये ही करूंगी। अब मैं भी अपनी प्यास बाहर से ही बुझाया करूंगी।  मैंने ऐसा ही किया। 

अब मैं अपने ही कॉलेज में नए लंड की तलाश करने लगी और मुझे वो मिल भी गया।  वो मेरे कॉलेज का फाइनल ईयर का स्टूडेंट था, वो 21 साल का नौजवान लड़का था।  उसे मैंने अपने घर बुलाया और उसको अपनी चुत दे दी। 

वाइफ चीटिंग सेक्स करके मेरे मन को तसल्ली हुई। यह मेरा पहला अनुभव था कि जब मैं किसी पराये मर्द को अपने बदन को छूने दे रही थी।  राज ने अपने 7 इंच के लंड से मेरी चुत की प्यास तो बुझा दी पर मुझे चुदाई के बाद अच्छा नहीं लगा कि मैं किसी पराए मर्द के साथ ऐसा कैसे कर सकती हूं।  

इतने में राज का लंड वापस खड़ा हो चुका था और वो मुझे फिर से चोदने वाला था। पर मैंने उसे जाने को बोला।  वो जाने लगा तो मैंने उससे बोला कि वो इस बारे में किसी को कुछ ना बताए। 

राज वहां से चला गया और मैं घर में अकेली होकर रोने लगी कि आखिर मैं इतना कैसे गिर सकती हूँ कि अपने शौहर को सबक सिखाने के लिए मैं भी उनकी तरह चरित्रहीन बन जाऊं। मुझे अपने ऊपर बहुत ग़ुस्सा आ रहा था।  

मैं कुछ दिन कॉलेज नहीं गई। राज ने मुझे कॉल और मैसेज भी किया पर मैंने उसका कोई जवाब नहीं दिया।  फिर जब मैं कुछ दिन बाद कालेज गई तो राज मेरे सामने आ गया और मुझसे बात करने लगा। पर मैं उसे अनदेखा करने लगी।  

मामी ने लिआ मोटा लंड अपनी चुत में

शोहर से बदले के लिए चुत चुदवा ली 

कॉलेज की छुट्टी होने के बाद मैं स्टॉफ रूम में जाने लगी। तभी अचानक राज ने मुझे एक खाली क्लास में खींच लिया और वो मेरे होंठों को चूमने लगा। मैं उसका विरोध करने लगी पर वो नहीं रुका।  

उसकी उंगलियां मेरी चुत को साड़ी के उपर से ही रगड़ने में लग गईं। धीरे धीरे मेरा भी मूड बन गया और मैं भी उसका साथ देने लगी।  उसने पैंट की चैन खोल कर अपना लंड बाहर निकाल लिया और मैं उसे अपने हाथों में ले हिलाने लगी।  

जब उसका लंड पूरा कड़क हो गया तो मैं बेंच का सहारा लेकर घोड़ी बन गई और राज ने मेरी साड़ी और पेटीकोट को ऊपर उठा मेरी पैंटी नीचे कर दी। उसने मेरी चुत पर थूक लगा कर अपना लंड अन्दर डाल दिया।  

पूरा लंड पेल कर वो मुझे चोदने लगा। मैं भी अपनी गांड आगे पीछे करके उसका पूरा साथ दे रही थी।  राज ने मुझे दस मिनट तक चोदा। फिर जब उसका लंड माल छोड़ने को तैयार हुआ, तो उसने मेरी कमर को पकड़ अपनी रफ़्तार को बढ़ाया और मेरी चुत में ही झड़ गया।  मैं भी झड़ चुकी थी।  

फिर हम अलग हुए और अपने कपड़े सही करने लगे।  राज ने मुझसे पूछा- क्या हुआ मैडम … आपको मेरी चुदाई पसंद नहीं आई क्या, जो आप मुझे अनदेखा कर रही हो? मैं बोली- ऐसी कोई बात नहीं है, तुम तो बहुत अच्छी चुदाई करते हो पर …  राज- पर क्या मैडम? 

मैं- मैं पहली बार किसी पराये मर्द से चुदी थी इसलिए मुझे अच्छा नहीं लग रहा था।  फिर हमने थोड़ी और बात की। उसके बाद राज वहां से चला गया और मैं भी स्टाफ रूम में आ गई। फिर वहां से घर आ गई।  

उस दिन के बाद से मैंने अपनी सारी शर्म-हया को अपने अन्दर से निकाल फैंका और मैं भी अपने शौहर की तरह घर से बाहर अपनी चुदाई का इंतजाम करके चीटिंग सेक्स करने लगी।  

मैंने बहुत से लंड अपनी चुत में लिए। अब मैं किसी बाजारू औरत की तरह बन चुकी थी।  पर अब तक मेरी गांड सील पैक ही थी, जिसे किसने और कब खोली, ये सब मैं आपको किसी और सेक्स कहानी में बताऊंगी। तब तक के लिए आपको मेरा नमस्कार।  

Leave a Comment