दीदी की रंडी दोस्त और एक दिन की बहन 

मेरी बेहेन का नाम प्रीति थी और वह कॉलेज में पढ़ती थी। मेरी दीदी मुझसे उम्र में बस एक साल ही बड़ी थी इसलिए हम दोनों काफी अच्छे दोस्त भी थे। दीदी मुझे उसके सभी दोस्तों से भी मिलाया करती थी और मुझे यह भी पता था की दीदी का एक बॉयफ्रेंड भी है जो इस ज़माने में आम बात है। 

दीदी के दोस्त यु तो हमारे घर आते जाते रहते थे और वह सभी मुझे जानते भी थे। पर एक दिन एक लड़की हमारे घर आयी। जैसे ही मेने गेट खोला उसने दीदी का नाम लेते हुए मुझसे पूछा की क्या वह घर प्रीति का है। मैने उसे हां कहा और वह मुस्कान देते हुए अंदर आ गयी। 

उसने मुझे बताया की दीदी  अभी रस्ते में है और कुछ देर में घर आ जाएग जाएगी। मेने दीदी की दोस्त  से उसका नाम पूछा तो उसने मुझे उसका नाम रेखा बताया। दीदी की दोस्त दिखने में बहुत ही सेक्सी लग रही थी जो बड़े बड़े बूब्स की मालकिन भी थी। 

रेखा ने  वाला टॉप [पहना हुआ था जिससे वह और भी मादक दिख रही थी। अब कुछ ही देर में दीदी घर आ गयी और रेखा से गले मिलते हुए मिली। दीदी ने मुझे रेखा से मिलवाया और कहा की वह दोनों आज दिनभर साथ रहेंगी। मैने दीदी को हां में जवाब दिआ और वह दोनों ऊपर चली गई। 

मै आपको बता दू की मेरी मम्मी  और पापा दोनों ही जॉब करते थे इसलिए हमारा घर ज्यादातर खली ही रहता था जहा मै और दीदी रहते थे। एक घंटा हो चला था और अब दीदी ने मुझे चाय बनाने को कह दिआ। मै चाय लेकर ऊपर गया तो दीदी और रेखा दोनों ने बहुत अच्छा मेकअप कर लिआ था। 

दीदी ने मुझे भी वही बैठने के लिए कह दिआ कह दिआ और दीदी और रेखा एक दूसरे का मेकअप करने लगे। दीदी ने मुझे कहा की अब बताओ हम दोनों में से किसका मेकअप ज्यादा अच्छा है। मेने दीदी का मेकअप दोनों में से अच्छा बताया और हम तीनो हसने लगे। 

रेखा ने कहा की तुम दोनों भाई बेहेन का प्यार कुछ ज्यादा ही गहरा है और काश मेरा भी ऐसा कोई भाई होता। दीदी ने  रेखा से कहा की यह भी तुम्हरे भाई जैसा ही है और मुझे दीदी ने कहा आज से रेखा भी तुम्हारी बेहेन है। मेने दीदी को देखा और हां बोल दिआ। 

कॉलेज की मस्ती और लाइब्रेरी में चुदाई

रेखा और मै रह गए अकेले

अब अचानक दीदी के बॉयफ्रेंड का फोन दीदी को आया और दीदी ने उससे बात करने के बाद हम दोनों से कहा की उसे अचानक कही जाना है जो की बहुत जरूरी है। दीदी ने कहा की वह कुछ ही देर में वापस आ जाएँगी इसलिए में रेखा का ख्याल रखु। 

अब मै और रेखा एक दूसरे से बाते करने लगे और रेखा ने मुझे कहा की आज से हम दोनों भाई बेहेन है इसलिए अब मुझे उसका ख्याल रखना होगा। मेने हां में जवाब दिआ और रेखा ने मुझे कहा की अब मै उसके कंधे की मसाज कर दू। 

एक भाई होने के नाते मेने उसे मना नहीं किआ और रेखा के कंधे दबाने लगा। रेखा बहुत ही अच्छे से मेरी मसाज का मजा ले रही थी और आंखे बंद करके एन्जॉय कर रही थी। तभी रेखा ने कहा की में अपने हाथ थोड़े आगे लेकर मसाज करू। 

मेने रेखा के कंधे आगे से पकडे और दबाने शुरू कर दिए। रेखा का टॉप का गला बहुत बड़ा जिसमे से उसके बूब्स साफ़ दिख रहे थे और रेखा ने शायद अंदर ब्रा भी नहीं पहनी थी इसलिए उसके बूब्स के निप्पल भी मुझे साफ़ दिखाई दे रहे थे। 

मै भी अब रेखा के बूब्स देखता हुआ उसके कंधे दबा रहा था और अब रेखा ने मुझे और आगे से कंधे दबाने को कहा। पर अब मेने अपने हाथ वही रखे और कंधे दबाने लगा। अब रेखा ने मेरे हाथ अपने हाथ में लिए और अपने सीने के ऊपर रखते हुए कहा की यहाँ से दबाओ। 

रेखा के बूब्स मेरे हाथो से कुछ ही दूरी पर थे और अब मेरे हाथ उसके गले पर चल रहे थे। रेखा आंखे बंद कर मजे से मसाज का मजा ले रही थी और मेने हिम्मत करते हुए अपने हाथ इसके बूब्स की तरफ ले जाने शुरू कर दिए। मै बार बार रेखा के बूब्स तक पहुंच कर हाथ पीछे कर लेता। 

मुझे बहुत डर भी लग रहा था और तभी अचानक रेखा ने मुझे देखा और मेरे हाथ लेकर अपने टॉप में डाल दिए और कहा लो दबा लो इन्हे भी। मै एकदम चौक गया और रेखा ने अपने हाथो से मेरे हाथो पे दबाव देते हुए अपने बूब्स दबाने लगी। 

रेखा को मजे आ रहे थे और मै भी अब उसके इरादे जान चूका था। रेखा के बूब्स पीछे से में अपने हाथो में लेकर अब दबाने लगा और रेखा वापस मदहोश होती हुई आंखे बंद करने लगी। तभी रेखा मुड़ी और मेरे होठो को अपने मुह्ह में लेकर चूसने लग गयी। 

रेखा अपने होठो के रास को लेकर मेरे होठो को चूसे जा रही थी और अब मेने भी इसी तरग से उसका जवाब देना शुरू कर दिआ। रेखा के बूब्स अभी भी मेरे हाथ में थे जिन्हे में लगातार दबा रहा था और उनके निप्पल भी पूरी तरह खड़े हो गए थे। 

चाची के बूब्स की मसाज करके चोदा – चाची की हवस

रेखा ने बताये सारे राज 

अब रेखा ने एक झटके से अपना टॉप उतार दिआ और उसके बूब्स मेरे मुह्ह में देकर चूसने लगी। मै भी बारी बारी उसके चुचो  निप्पलों को चूसा जा रहा था जिससे रेखा भी कामवासना में बहती जा रही थी। 

अब रेखा ने मेरे लंड पर हाथ फेरते हुए कहा की मेरा लंड तो उसकी सोच से भी बड़ा है। और अब रेखा ने मेरा लंड पजामे से बहार लेकर अपने मुह्ह में लेके गपागप चूसना शुरू कर दिआ। मेरी हालत रेखा की चुसाई से बुरी हो गयी और मेरा लड़ पूरी तरह खड़ा हो गया। 

रेखा ने अब अपने सरे कपडे उतार दिए और पूरी तरह नंगी हो गयी। रेखा की चूत पहले से ही ढीली हो रखी थी जिसका मतलब वह कभी और भी चुदाई करा चुकी थी। अब रेखा ने मेरा लंड सीधा करके अपनी चूत में लिआ और उसपर बैठ गयी। 

रेखा ऊपर निचे होते हुए मेरे लंड पर जोर जोर से कूद रही थी। रेखा की आँखों में हवस का समुन्दर था और वह मेरे लंड पे जोर जोर से उछलते हुए अपनी चूत में गहरी चुदाई करवा रही थी। रेखा कभी मेरा होठो को चुस्ती तो कभी अपने बूब्स को रगड़ती। 

काफी देर तक रेखा ऐसे ही मेरे लंड से अपनी चूत बजवाती रही और अब वह थक गयी थी। रेखा अब निचे लेट गयी और अपनी टांगे खोलकर मुझसे चुदाई करने को कहा। मैने अपना लंड हाथ में लेते हुए उसकी चूत में फसाया और जोर जोर से चुदाई चालू कर दी। 

रेखा अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह की आवाजे निकालते हुए चिल्लाने लगी और मै अपना लंड पूरा उसकी चूत में पेलता जा रहा था। रेखा की चूत अब पानी छोड़ने लगी थी और रेखा की आवाजे भी बढ़ती जा रही थी। रेखा मुझसे और अंदर लंड डालने को बोल रही थी और मै अपना पूरा लंड उसकी चूत में घुसाए जा रहा था। 

अब रेखा की चूत से सफ़ेद पानी बहने लगा था और वह चुदाई कराते हुए अपनी चूत भी रगड़ रही थी। अचानक रेखा ने जोर जोर से आहे भरना शुरू कर दिआ और उसकी चूत से ढेर सारा पानी झड़ने लगा। रेखा ने अपनी चूत जोर जोर से रगड़नी शुरू कर दी और वह पूरी झड़ गयी। 

मेरा लंड अभी भी खड़ा था पर अब रेखा ने कहा की मै अपना लंड उसकी गांड में डाल दू। मेने वैसा ही किआ और अपना लंड लेकर उसकी गांड के छेद पे रख दिआ। रेखा की गांड बहुत टाइट थी और जैसे ही मेने अपने लंड पे धक्का मारा रेखा चिल्लाने लगी। 

कुछ ही देर बाद मेरा आधा लंड रेखा की गांड में था और मेने रेखा की गांड चोदना शुरू कर दिआ। रेखा की गांड में मैने जैसे ही अपना पूरा लंड डाला वह करहाने लगी और मुझसे चुदाई करने को कहने लगी। 

मेने भी अपने धक्के तेज कर दिए और रेखा की गांड में अपना लंड पूरा अंदर बाहर करने लगा। तभी मेरे लंड में एकदम अकड़न आना शुरू हो गयी और मेने रेखा की गांड तेजी से पेलनि चालू कर दी। मेरा सारा वीर्य रेखा की गांड में बह गया और हम दोनों चरमसुख से नाहा गए। 

अब कुछ देर बाद रेखा ने मुझे बताया की यह सब उसका और मेरी दीदी का प्लान था जिसमे रेखा को मुझसे चुदाई कराने के लिए दीदी ने हां कर दी थी। 

Leave a Comment