बेहेन ने नहलाया और लपक लिआ मेरा लंड

मै जब अपने कॉलेज जाना ही शुरू हुआ था की मेरी बाइक का दूसरी गाडी से टक्कर जो गयी और मेरे काफी चोट भी लग गयी थी। दीदी मुझसे 3 साल बड़ी थी और उनका कॉलेज भी अब ख़तम हो चूका था। 

दीदी दिखने में एकदम गोरी और सेहत से भी बहुत अछि थी। दीदी और मेरी बनती बह बहुत थी इसलिए जब मेरा एक्सीडेंट हुआ था दीदी मेरा बहुत ख्याल रखती थी। एक्सीडेंट हुए अब 10 दिन हो गए थे और मुझे नहाये हुए भी शायद हफ्ता हो चला था।

दीदी मेरा उस समय बहुत ही ज्यादा ख्याल रखती थी और दीदी का प्यार भी मुझे अछा लगता था। दीदी ने अब मुझे कहा की मुझे नहाये हुए काफी दिन हो गए है इसलिए मै आज नाहा लू। पर जैसे ही मेने उठने की कोशिश करि मेरा हाथ में थोड़ा दर्द होने लगा। 

मुझे दर्द में देख दीदी ने मुझे वापस से बिस्तर पर लिटा दिआ और बाद में नहाने के लिए कहा। अगले दिन दीदी को मेने बोलै की आज मै नहाना चाहता हु इसलिए मुझे वह बिस्तर से उठा दे। 

दीदी ने मुझसे बिस्तर से उठाया जिसमे मुझे थोड़ा सा दर्द भी हुआ जो दीदी समझ चुकी थी। अब दीदी ने मुझे कहा की अगर मुझे कोई दिक्कत ना हो तो वह मुझे आज नहला देंगी। मेने पहले इस बारे में बहुत सोचा फिर दीदी ने मुझे दुबारा यही कहा तो मै भी मान गया। 

दीदी अब ऊपर चली गयी और मै भी धीरे धीरे सीढिआँ चढ़ता हुआ ऊपर के बाथरूम में पहुंच गया। अब दीदी ने मेरे कपडे निकालने में मेरी मदद करि अब मरे जिस्म पर बस एक कच्छा यह गया जिसके पीछे मेरे लंड में तनाव भी आने लगा था 

भाभी का नंगा बदन गलती से देख हुआ चुदाई को बेचैन

दीदी ने थाम लिआ मेरा लंड और शुरू हो गया बाथरूम सेक्स 

अब दीदी ने मुझे निचे बैठने को कह दिआ। मेरे हाथ में अभी भी पट्टी बंधी हुई थी इसलिए मेने अपना वो हाथ ऊपर कर रखा था जिससे वह पानी से बचा रहे। दीदी ने अब मेरे सर से पानी डालते हए पुरे शरीर को गिला कर दिआ।

दीदी ने साबुन हाथ में लगते हुए अब मेरे जिस्म को अच्छे से साफ़ कर दिआ। अब दीदी  ने मुझे खड़े होने के लिए बोल दिआ और मै अपना हाथ ऊपर करता हुआ बाथरूम में खड़ा हो गया। 

अब दीदी ने धीरे धीरे मेरे पेरो पे साबुन लगाना शुरू कर दिआ। अब दीदी अपने दोनों हाथो से मेरे पैरो को मसलना शुरू कर दिआ और अब दीदी मेरी जांघो पर आ आयी। दीदी का हाथ बार बार मेरे लंड से छुए जा रहा था जिससे उसमे तनाव आने लगा था। 

दीदी अब खुद ही अपना हाथ बार बार मेरे लंड पर लगा रही थी जिससे वह खड़ा हो गया और दीदी हसने लगी।  दीदी को देख मेरी भी हसी निकल गयी और दीदी ने कहा की तुम्हारा छोटू तो बड़ा होता ही जा रहा था। 

मुझे शर्म सी आ गयी और दीदी ने मेरा कच्छा निचे करते हुए मुझे कहा की लाओ तुम अच्छे से ही साफ कर दू जिससे तुम्हे बाद में परेशानी ना आये। अब दीदी ने मेरा लड़ अपने हाथ में ले लिआ और उसे प्यास से सहलाने लगी जिससे वह और बड़ा हो गया। 

दीदी को यह सब मजाक सा लग रहा था पर मेरा लंड अब बहुत मोटा और बड़ा हो गया था जो दीदी को पसंद आ गया। दीदी मेरे लंड से खेले जा रही थी और उसे अच्छे से हिला रह थी। अब दीदी ने एकदम से मेरा लंड मुह्ह में लेकर चूसना शुरू कर दिआ। 

मै भी एकदम चौक सा गया पर उस एहसास के कारण मै दीदी से कुछ न बोल  पाया और बस आनद में खो गया। दीदी मेरा लंड जोर जोर से चूसने लगी जिससे मुझे बहुत मजा आ था और अब दीदी अपने बूब्स भी खुद सहलाने लगी। 

दीदी मेरे लंड से पुरे मजे ले रही थी और पूरी तरह से गर्म हो गयी थी। अब दीदी ने मेरा लंड वापस से कच्छे में डाला और मुझे लेकर ऊपर वाले कमरे में चली गयी। में चुपचाप उनके साथ साथ चलता जा रहा था। 

माँ बाप की लड़ाई पर कर दी मम्मी की ही चुदाई

दीदी ने खुद चुदवाई अपनी चुत 

अब दीदी ने मुझे ऊपर बिस्तर पर आराम से लिटा दिआ और मेरे लंड को वापस से कच्छे से निकालकर मुह्ह में ले लिआ। दीदी मेरे लंड को प्यार से चूसते हुए अच्छे से हिलाने लगी और अब दीदी ने अपनी टीशर्ट निकालकर फेंक दी। 

दीदी ने अपनी ब्रा का हुक खोलते हुए अपने बूब्स को आजाद कर दिआ और अपने बूब्स को दबाने लगी। अब दीदी मेरे पास आयी और अपनी बूब्स मेरे मुह्ह पर लगाने लगी। मेने भी दीदी के दोनों बूब्स बारी बारी से चूसे और दीदी को और मजा दिआ। 

अब दीदी ने अपनी सलवार निकाल दी और मेरे लंड पर चढ़कर उसे अपनी चुत में ले लिआ। दीदी अपनी चुत में मेरा लंड पूरी तरह से ले गयी और ऊपर निचे कूदते हुए मुझसे चूसने लगी। अब दीदी अछि तरह से अपनी चुदाई करवा रही थी और दीदी हवस से भरी हुई थी। 

दीदी क टाइट चुत मेरे लंड पर रगड़ खा रही थी जिससे मेरे लंड क भी बहुत मजा मिल रहा था। दीदी अब जोर जोर से मरे लंड पर कूदने लगी और तेजी से अपनी चुत मरवाने लगी। दीदी बहुत गरम हो चुकी थी पर अपने बूब्स दबाते हुए चुदाई करवा रही थी। 

अब मेरा लंड भी बुरी हालत में आ गया था और दीदी उसपर कूदते हुए जोर जोर से चुदाई करवा रही थी। अब जैसे ही मेरा वीर्य निकलने वाला था मेने दीदी को यह बात बता दी और दीदी तभी मेरे लंड से निचे आ गयी और मेरा लंड मुह्ह में ले लिआ। 

दीदी मेरा सारा वीर्य एक ही सांस में पी गयी और मुझे अचे से कपडे पहनकर निचे आराम करवाने के लिए ले गयी। आगे भी हम भाई बेहेन में बहुत बार चुदाई करि जो आप बाकि कहानिओ में पढ़ सकते है। 

Leave a Comment