दोस्त को बनाया अपनी चुदाई का साथी – कॉलेज फ्रेंड के साथ चरमसुख का मजा 

मेरा नाम प्रिय है और यह बात कॉलेज के दिनों की है। कॉलेज का समय सभी के लिए मस्ती भरा होता है और मेरा भी कुछ यही हाल था। कॉलेज में मेरा सबसे अच्छा दोस्त था जिसका नाम दीपक था। दीपक और मै कॉलेज में बहुत मस्ती करते थे। 

पहले में बहुत सीधी थी पर कॉलेज की दोस्तों ने मुझे पोर्न के बारे में बताया जिसके  बाद मेरा भी दिल सेक्स करने को करने लगा था। दीपक मेरा दोस्त था पर मै उससे अपनी चुदाई करने के लिए सीधा नहीं कह सकती थी। 

अब कुछ दिन के लिए मेरे घरवाले गांव जाने वाले थे और और यह चढ़ाई करने के लिए मुझपर बहुत ही अच्छा मौका था। मेने अगले ही दिन दीपक को अपने घर बुला लिआ और एक हॉट से मम्मी की हि मेक्सी पेहेन ली। 

मैक्सी के अंदर मेने कुछ और नहीं पहना ताकि मुझे चुदाई के लिए समय न गवाना पड़े। अब कुछ ही समय बाद दीपक भी मेरे घर आ गया और मेने उसे चाय के लिए पूछा। चाय बनाते हुए मेने काफी देर अपनी चूत भी रगड़ी जिसे मै गरम होती जा रही थी। 

 दीपक अब भी कमरे में ही बैठा था, चाय लेके में दीपक के पास गयी और झुकते हुए चाय दी जिससे मेरे बूब्स पूरा दिखाई देने लगे। मेरे नंगे बूब्स देखकर वह भी श्याद कामुक हो गया और बूब्स को ही देखता जा रहा था। 

भाई के साथ सो गयी एक रात – चुदाई का मौसम

दोस्त को गरम करके लंड का लिए मजा 

दीपक ने अब मुझसे पानी देके के लिए कहा ताकि वह मेरे बूब्स वापिस से देख सके। मेने वापिस से उसे अपनी चुचो के दर्शन कराये और उसका लंड वही खा होने लग गया। अब मै बिस्तर पर उसके साथ ही बैठ गयी और अपने  अपने पैर से थोड़ी सी मक्सी ऊपर कर ली। 

मेरा पैर अब नंगा सा दिख रहा था जिसे देख दीपक और गरम होने लग गया। अब दीपक का सारा ध्यान मेरे ऊपर ही था और मेने दीपक से पूछा क्या वह मुझे प्यार करता है या मै उसकी बस दोस्त ही हु। 

दीपक एकदम से चौक गया और मुझे कहने लगा की वह मुझसे बहुत ज्यादा प्यार करता है और यह बात वह पहले भी कहना चाहता था। मेने तभी दीपक को अपनी बाहो में ले लिआ और अपने जिस्म की गर्मी उसे देने लगी। 

दीपक का लंड अब पूरा खड़ा हो गया था और मेरे मुलायम बूब्स उसकी बदन पर चुपके हुए थे। वह मुझे अपनी बाहों से निकाल ही नहीं रहा था पर अब मै और सबर नहीं कर सकती थी। मेने सीधा उसके होठो पर अपने होठ मिला दिए। 

दीपक भी अब मेरे होठो को चूसने लगा और हम दोनों वासना में लीन हो गए। दीपक मैक्सी के ऊपर से ही मेरे बूब्स दबाये जा रहा था और मेरे होठो को चूस रहा था। मेने अब अपनी मैक्सी ऊपर करते हुए अपने बदन को पूरा नंगा कर लिआ। 

दीपक मेरा जिस्म चूमने लगा और मै कामुक होना शुरू हो गयी। दीपक का लंड पकड़ते हुए मेने हिलना शुरू कर दिआ जिससे वह और भी बड़ा और मोटा हो जाए। दीपक मेरे चुचो की निप्पल को काटते हुए चूसने लगा जिससे में और मेरी चूत दोनों में आग सी लग गयी। 

अब दीपक का सर पकड़ते हुए मेने निचे सरकना शुरू कर दिआ और वह समझ गया की मेरी चूत में आग लगी हुई है। दीपक ने अब अपनी जीभ से मेरी चूत को चाटना शुरू कर दिआ और मै चरमसुख पाने लगी। 

दीपक की जीभ मेरी चूत की फाको के बिच तेजी से चल रही जिससे मेरी चूत में एक तड़प होने लगी गयी और अब मेने दीपक को ऊपर खीचते हुए चूमना शुरू कर दिए। दीपक को भी नंगा करते हुए मेने उसके लंड को पकड़कर हिलना शुरू कर दिआ। 

भाई के लोडे की सवारी पड़ी भारी – चूत का करवा लिआ बुरा हाल

लड़के दोस्त के लंड से अपनी चूत की प्यास मिटाई 

दीपक का लंड मेने जैसे ही मुह्ह में लिआ वह और भी बड़ा होना शुरू हो गया। दीपक के लंड का टेस्ट बहुत ही अच्छा लग रहा था और मै दीपक के लंड की जोर जोर से कर रही थी। 

दीपक का लंड पूरा खड़ा करने के बाद मै उसके लंड को अपनी चूत में लेते हुए उसके ऊपर बैठ गयी। ऊपर निचे होते हुए मेने अपनी चूत मरवाना शुरू कर लिआ। दीपक भी निचे से अपने लंड को मेरी चूत में पेल रहा था जिससे मुझे और मजा आने लगा। 

मेरी चूत में जोर जोर से खुजली हो रही थी क्युकी दीपक लंड मेरे पहले वाले बॉयफ्रेंड के लंड से मोटा था और मेरी चूत को फाड़ रहा था। अब दीपक भी जोर जोर से मेरी चूत को मार रहा था और चुदाई कर रहा था। मुझे भी चुदाई का ऐसा आनंद इससे पहले कभी नहीं  मिला था। 

अब दीपक के धक्के मेरी चूत में अंदर तक जाने लग गए थे और उसके लंड में भी तनाव आने लगा था। दीपक ने मुझे कहा की उसके लंड से पानी आने ही वाला है इसलिए मै उसके लंड से उतर गयी और वापस लंड को मुह्ह में ले लिआ। 

दीपक के मुह्ह पर मेने अपनी चूत रखकर चटाना शुरू कर दिआ और उसके लंड को चूसैडने लगी। हम दोनों एक दूसरे के माल के प्यासे हो गए थे और एक दूसरे के अंगो को चाट रहे थे की तभी दीपक के लंड से माल आना शुरू हो गया और मेने उसे अपने मुह्ह में ले लिआ। 

दीपक अपनी भी मेरी चूत चाटने में लगा था और मेरी चूत में वह अपनी एक उंगली भी दे रहा था। मेरी चूत से पानी अब निकलने ही वाला था और मै  अपनी चूत उसके मुह्ह पर धसाये जा रही थी। 

तभी अचानक मेरी चूत में खुजली होना शुरू हो गयी और मेरा बदन कपङे लग गया। मेरी चूत  से सारा पानी दीपक के मुह्ह पर आ निकला जिसे दीपक ने पी लिआ और मेरी चूत को चाटकर साफ़ कर दिआ। उस दिन हम दोनों ने कई बार चरमसुख का मजा लिआ और चुदाई करि। 

Leave a Comment