तनहा भाभी को दिए चुदाई का मजा – 2

मैंने भी उनकी टी-शर्ट को निकाल दिया। उनकी ब्रा से उनके बड़े बड़े चुचे जैसे बाहर आने के लिए तड़प रहे थे। मैंने उनकी ब्रा भी निकाल दी और अब वो ऊपर से पूरी नंगी हो चुकी थीं। 

भाभी के दोनों मस्त चुचे देखकर मेरे मन में लड्डू फूट रहे थे। मेरा लंड पूरी तरह खड़ा हो गया था और पैंट के अन्दर से फुंफकार मार रहा था। देरी न करते हुए भाभी ने मेरी पैंट का बटन खोल कर मेरी पैंट निकाल दी और पैंट चड्डी समेत निकल गया। 

भाभी मुझे पूरा नंगा कर दिया। मेरा लंड देख कर वो बहुत खुश हुईं। मैं अभी कुछ संभल पाता कि उन्होंने जल्दी से मेरे पूरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगीं। मैं तो समझो जन्नत में घूमने लगा था। मेरी आंखें बंद हो गई थीं। 

मुझे कुछ भी समझ ही नहीं आ रहा था। भाभी मेरे दोनों गोटों को एकदम प्यार से सहला रही थीं और मेरे सात इंच के लंड को पूरा निगल रही थीं। भाभी ने करीब दस मिनट तक मेरा लंड चूसा। 

उसके बाद मैंने भाभी को खड़ा कर दिया और उनकी जीन्स और पैंटी को निकाल दिया। अब वो भी पूरी नंगी हो गई थीं। मैंने देखा कि उनकी चूत पर हल्के हल्के से बाल थे, जो चूत को और भी खूबसूरत बना रहे थे। 

मैंने चुदाई तो अभी तक की नहीं थी, इसलिए जैसा ब्लू फिल्मों में देखा था, वैसे ही उनको सोफे पर लेटा दिया और उनकी चूत को चाटने लगा। भाभी की चूत नमकीन लग रही थी। 

भाभी की मदमस्त चुदाई का मजा – 1

चुत को जुबान से जोर जोर से चाटा 

वो गरम सिसकारियां निकाल रही थीं- आह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ म्म्म्म्म … उनकी मदभरी आवाज सुन कर मैं भी पूरे ज़ोर से उनकी चूत के अन्दर अपनी पूरी जुबान डाल रहा था। 

करीब दस मिनट तक भाभी की चूत चूसने के बाद वो एकदम से अकड़ते हुए झड़ गईं और उनकी चूत से एक पानी की धार मेरे मुँह में ही निकल गई। उनकी चुत का नमकीन अमृत मैंने एक बूंद भी खराब नहीं जाने दिया।

इसके बाद मैंने उनके चुचे दबाए। भाभी के बहुत ही नर्म थे। उसके बाद भाभी कहने लगीं- अब देर न करो। मैंने ये सुनते ही अपना लंड भाभी की चूत पर सैट कर दिया और हल्का सा धक्का दे दिया। 

मेरा आधा लंड उनकी चूत के अन्दर फिसलता चला गया। वो लंड लेते ही एक बार को सिसक उठीं और उनके मुँह से ज़ोर से आवाज निकल गई ‘अह्ह्ह … मर गई।।’ एक दो पल बाद भाभी ने मेरे लंड से मजा लेना शुरू कर दिया। 

मैं उनकी उछलती चूचियां देख रहा था कि उन्हें बहुत मजा आ रहा है। ये देख कर मैंने फिर से एक ज़ोर का झटका दिया और पूरा लंड चूत में डाल दिया। वो फिर से चिल्ला उठीं- आं आंह मर गई … बाहर निकाल ले … मेरी जान चली जाएगी … मार ही डालेगा क्या। 

मुझे … प्लीज लंड बाहर निकाल … वर्ना मेरी चूत फट जाएगी। मैं रुका रहा और एक मिनट बाद धीरे धीरे अन्दर बाहर करते हुए लंड के झटके मारने लगा। मेरा सात इंच लंड पूरा टाइट था। भाभी की सिसकारियां बंद नहीं हो रही थीं। 

बेहेन की चुदाई रात के समय – 1

भाभी ने गांड में भी ले लिआ मेरा लंड 

कुछ देर बाद भाभी मजा लेने लगीं और अब वो बार बार मुझसे कहे जा रही थीं- आंह चोद डाल … मेरी चूत को फाड़ दे आज … मुझे पूरी रंडी बनाकर चोद दे … आजा मेरे राजा। ये सब सुनकर मैं एकदम ज़ोर से उनकी चुत में अन्दर तक झटके मारने लगा। 

उनकी चूत और मेरे लंड के मिलन से फच। … फच।। … की आवाजें आने लगीं। मुझे भाभी की चुत चुदाई में बड़ा मजा आने लगा। दस मिनट की चुदाई के बाद भाभी फिर से झड़ गईं और उनकी चुत ने मेरे लंड पर सारा पानी निकाल दिया। 

मैंने उनके झड़ जाने के बाद उनको उल्टा होने के लिए कहा। वो मना करने लगीं … तो मैंने उनके होंठों को ज़ोर से चूस लिया और एक कड़क चुम्बन जड़ दिया। इससे वो हंस दीं और मेरे लिए कुछ भी करने को तैयार हो गईं। 

भाभी के खुश हो जाने से मुझे पीछे से चुदाई की भी अनुमति मिल गई। वो उलटी हो कर लेट गईं और मुझसे कहा- आ जा मेरे राजा … आज मेरी इस गांड पर भी अपना लंड लहरा ले … और इसकी तन्हाई को भी दूर कर दे। 

मैंने मौके का फायदा उठा कर उनकी गांड के ऊपर लंड को सैट किया और एक हल्के से झटके के साथ लंड का टोपा अन्दर पेल दिया। उनके बदन में पूरी बिजली सी दौड़ गई और एकदम से सिसक उठीं। भाभी दर्द से तड़फ कर बोलीं- अब और मत तड़पा … मेरे दर्द की चिंता मत करना … मेरी इस गांड को भी फाड़ दे। 

Leave a Comment