फूफा की लड़की की चुदाई – 1

मेरा नाम समर्थ शर्मा है। मैं पटना, बिहार का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 26 साल की है और मैं एक प्राइवेट कंपनी में अच्छी पोस्ट पर नौकरी करता हूं। मेरे लंड का साइज 7 इंच है और ये काफी मोटा है।

ये हॉट कजिन सेक्स कहानी मेरी और मेरी फुफेरी बहन तमन्ना (बदला हुआ नाम) की चुदाई की है। मैं उससे 5 साल बड़ा हूँ। उसका रंग दूध सा सफेद है और वो क़यामत जैसे फ़िगर की मालकिन है। 

मेरी बुआ का घर मेरे घर के बाजू में ही है। मेरी और तमन्ना के बीच कभी कभी बात हुआ करती थी, ज्यादातर पढ़ाई से संबंधित। पहले मेरे मन में उसके लिए कुछ नहीं था। लेकिन जब से उसने जवानी में कदम रखा, मेरी नजर बदल गयी और मैं उसे चोदने के सपने देखने लगा। 

वो कभी कभी मुझसे पढ़ाई के सिलसिले में कॉल या मैसेज किया करती थी। मैं बातों बातों में उसके रूप और फिगर की तारीफ कर देता था। वो बस हल्के से मुसकुराती हुई बात को टाल देती थी। 

जब कभी वो मेरे घर मुझसे हेल्प मांगने के लिए आती तो मैं किसी बहाने उसे छूने की कोशिश करता था। उसने भी मुझे ऐसा करने के लिए कभी भी मना नहीं किया। मैं कभी उसकी चूचियों में अपनी कोहनी रगड़ देता, कभी उसकी पीठ को सहला देता।

बारिश और भाभी की अनोखी चुदाई – 1

चुदाई के दिन था बेचैन

लेकिन कभी भी बात इतनी आगे नहीं बढ़ सकी थी जिससे मुझे उसको चोदने का मौका मिल सके। हालांकि एक बात मुझे समझ आ गई थी कि उसके मन में भी कुछ न कुछ चल रहा था। 

अब चूंकि मामला बहन का था इसलिए दोनों तरफ से हिम्मत नहीं हुई थी। पिछले साल उसकी शादी हो गयी और वो ससुराल चली गयी। अभी भी कभी कभी हमारी बातें हो जाया करती थीं। 

एक दिन रात में बात करते करते मैंने उसे चुम्बन का इमोजी भेजा। उत्तर में उसने भी मुझे चुम्बन का इमोजी भेजा। मैंने पूछा- तुमने ये किस कहां दिया? उसने आंख दबाने वाला इमोजी भेजा और पूछा- आपको किधर लगा? मैंने कहा- मुझे नहीं मालूम। 

उसने कहा- मैंने होंठों पर किस किया। उत्तर में मैंने भी किस भेजा। अब उसने मुझसे पूछा- आपने कहां दिया? मैंने बोला- तुम्हारे बूब्स पर। वो हंस दी। मैंने कहा- कैसा लगा? उसने कहा- गुदगुदी सी हुई। मैंने कहा- एक बार और करता हूँ तब बताना।

वो बोली- ओके। मैंने फिर से किस की इमोजी भेजी। उसने उन्ह आंह लिखा। मैंने कहा- क्या हुआ? वो हंस कर बोली- काट क्यों रहे हो? मैंने कहा- मैंने काटा नहीं है। वो बोली- काटा ही तो है … काटा नहीं है तो क्या किया है? मैंने कहा- मैंने चूसा है। वो बोली- ऐसे चूसा जाता है कहीं? मैंने कहा- मैं ऐसे ही चूसता हूँ। खींच खींच कर … क्यों तेरा हबी खींच खींच कर नहीं चूसता है क्या? वो हंस दी। उसके बाद वो मुझसे और खुल कर बात करने लगी और उस दिन के बाद हम दोनों में सेक्स की बातें होने लगीं। धीरे धीरे हम दोनों आपस में एक दूसरे के साथ फोन सेक्स करने लगे। 

अब मैं वो बात लिखता हूँ कि मैंने उसे कब और कैसे चोदा। तमन्ना की शादी को 6 महीने हुए थे। वो अपने मायके आई थी। उसके घर में माता पिता के अलावा 2 भाई भी थे। माता पिता कुछ दिनों के लिए गांव चले गए थे। 

उसके भाई छोटे थे और पढ़ाई करते थे तो वो अपने भाइयों की देखभाल के लिए उनके साथ ही रुक गयी। उस दिन हमारे रिश्तेदार में किसी के यहां शादी थी। उनका घर भी पटना में ही है। मेरे घर से सभी लोग वहीं गए थे और उसके दोनों भाइयों को भी शामिल होने जाना था। कोरोना खत्म हो चुका था।

मम्मी की सहेली और चुदाई की पहेली – 3

घर पर काम करते हुए मिला चुदाई का मौका

मगर उसके कारण मुझे घर से काम करने की सुविधा अभी भी मिली हुई थी, तो मैं अभी घर से ही काम कर रहा था और इसी कारण शादी में शामिल नहीं हो सकता था। शाम 7 बजे तमन्ना का मुझे मैसेज आया कि उसके भाई भी शादी में शामिल होने जा रहे हैं, क्या आप मेरे घर आ सकते हैं। 

मैंने कहा- मैं घर आ तो जाऊंगा, पर मुझे इनाम में क्या मिलेगा? वो बोली- मैं इनाम लेने के लिए बुला रही हूँ, देने के लिए नहीं। मैंने पूछा- तुझे इनाम में क्या चाहिए? वो बोली- केला। मैंने समझ लिया कि आग उस तरफ भी लगी है। 

आज मिलेगा हॉट कजिन सेक्स का मजा। मैंने कहा- दूध पिलाओगी? वो खुल कर बोली- चूत भी पिलाऊंगी, आप आओ तो! मैंने कहा- फाड़ दूंगा। वो बोली- मैं भी फड़वाने को रेडी हूँ। मैंने कहा- चल अकेली होते ही फोन करना। 

वो बोली- हां, भाइयों के जाते ही फोन करती हूँ। मुझे आज अपनी फुफेरी बहन की चूत चुदाई का सपना सच होता दिख रहा था। मैंने तुरंत बुखार का बहाना बना कर 2 घंटा पहले ही छुट्टी ले ली। उसके भाइयों को जाते ही उसका कॉल आया। 

मैंने झट से जाकर उसके दरवाज़े पर दस्तक दे दी। उसने दरवाजा खोला और जल्दी से अन्दर आने का इशारा किया। मेरे अन्दर जाते ही उसने दरवाजा बंद किया और मुझसे लिपट गयी। उसकी बड़ी बड़ी चुचियां मेरी छाती से दब रही थीं। 

उसके बदन से मादक खुशबू आ रही थी। मैंने उसे बांहों में भर लिया और उसके होंठों को अपने होंठों के बीच लेकर चुम्बन करने लगा। मुझे मदहोशी सी छाने लगी। मैंने उसकी टी-शर्ट में हाथ डाल दिया और उसकी रसीली चूचियों को जोर जोर से मरोड़ रहा था। वो अपने मुँह से मदहोश कर देने वाली आवाज निकाल रही थी। मैं उसे भूखे जानवर के जैसे भंभोड़ रहा था। 

आधा घंटे के बाद तूफान थोड़ा शांत हुआ तो मैंने उसे गोद में उठाया और बिस्तर पर ले गया। मैंने उसकी टी-शर्ट और लोअर को निकाल दिया। उसका संगमरमर सा गोरा बदन ब्रा पैंटी में मेरे सामने था और मुझे पागल बना रहा था।