गांव में मिली हवस से भरी लड़की

हर साल की तरह इस साल बह मै और पापा आपने गांव गए थे। वह बहुत ही ज्यादा सर्दी थी इसलिए रात के समय कोई भी गांव में नहीं दीखता था और गांव होने की वजह से वह के लोग भी 8 बजे ही सो जाया करते थे। 

पर मै एक शहरी लड़का था जिसे जल्दी से रात ो नींद नहीं आती थी और यह जानते हुए मै अपना फोन हमेशा ही चार्ज रखता था जिससे की मै उसे रात को आराम से चला स्कू। 

अब कुछ यु हुई की ऐसे ही एक रात अपना फोन चलाते हुए मै गालिओ में घूम रहा था। यह मेरा अपना ही गांव था इसलिए मुझे वह रात में भी डर नहीं लगता था। फोन चलाते हुए मेने काफी देर तक सफर किआ और अब मुझे वापस जाना था। 

पर जैसे ही मै अपने घर जाने लगा मेने देखा की अब कोहरा बहुत ही ज्यादा हो चूका था और मुझे साफ़ से कुछ दिखाई भी नाह दे रहा था।  अब मेने अपने आस पास देखा था वह  दे रहा था। 

सभी लोग अपने घर में सो रहा थे और मै ऐसे कोहरे में अपने घर भी नहीं जा सकता था। अब मेने देखा की अभी भी एक घर की बत्ती जाली हुई थी और वह शायद सोये हुए नहीं थे। 

मेने जल्दी से अपने कदम उस घर की तरफ बढ़ा दिए। मेने उनका दरवाजा बजाया  लड़की ने दरवाजा खोला जो की दिखने में बहुत ही ज्यादा सुन्दर थी। उसने मेरा परिचय पूछा और मेने उसे अपने दादा का नाम बता दिआ जिससे वह मुझे पहचना गयी। 

दोस्त की चुदक्कड़ मम्मी की चुदाई करि 

लड़की को देख हो गए मै भी पागल 

अब मेने उसे कहा की अभी बहुत ही ज्यादा कोहरा हो गया है इसलिए क्या मै कुछ देर के लिए उसके घर पर रुक सकता हु। उसने मुझे हां में जवाब दिआ और अब मेने उससे पूछा की क्या उसके घर में और कोई भी नहीं है। 

उसने मुझे बताया की उसके घरवाले आज कही शादी में गए  घर पर भी अकेली है। मेने उससे कहा की बाकि गांव वालो की तरह वह जल्दी क्यों नहीं सोई और अभी तक क्यों जाग रही है। 

उसने मेरी इस बात का कोई जवाब नहीं दिआ और अंदर चली गयी। मै बाहर ही बैठा हुई अपना फोन चला रहा था और वह अब कुछ देर बाद आयी और उसने मुझे कहा की मै अंदर जाके बैठ जायु। 

पर मेने उसे कहा की मै बाहर की कोहरा ख़तम होने का इन्तजार कर लूंगा इसलिए वह चाहे तो आराम से सो सकती है। उसने मुझे कहा की उसे ज्यादा नींद नहीं आती है यह शायद उसकी दवाइओ  का असर है। 

अब मै उसके कमरे में जाके बेथ गया और वह भी निचे एक कुर्सी पर बैठ गयी और मेरे बारे में मुझसे पूछने लगी।  उसने मुझसे कहा की क्या मेरी अभी शादी हो गयी है ?

मेने उसे ना जवाब दिआ और उसने मुझे कहा की उसकी शादी भी अभी नहीं हुई है पर वह एक बार शादी होने से  पहले किसी के साथ अच्छे पल बिताना चाहती है। 

अँधेरे में छोटी बेहेन को दिआ अपना लंड

गांव में हवसी लड़की की करि चुदाई 

यह सुन मै बहुत चौक गया था और मेने उसे कहा की यह सब शादी के बाद ही अच्छा लगता है पर वह अपनी बात पे अडी हुई थी और अब उसने मेरे करीब आते हुए कहा की वह बहुत अकेली है और मेरे साथ प्यार करना चाहती है। 

उसकी हवस उसकी शकल पर अच्छे से दिख रही थी और उसकी गरम साँसे मेरे चेहरे को छू रही थी। अब अगले ही पल मै और वो दोनों प्यार से एक दूसरे को किस कर रहे थे और वह मेरे ऊपर चढ़ी हुई थी। 

वह जोर जोर से मेरे होठो को चूस रही थी जिससे कुछ ही पालो में मेरा लंड खड़ा हो चूका था और वह अपने हाथ से भी मेरे लंड को सहलाये जा रही थी। अब उसने अपने सूट को ऊपर करते हुए निकाल दिआ। 

उसके बूब्स काफी मोटे थे और जो उसकी छाती पर लटक रहे थे। मेने भी अपने दोनों हाथो से उन्हें दबाते हुए उसे हवस का असल मजा दिआ और उसे प्यार करने लगा। 

पता नहीं क्यों पर वह चुदाई की प्यासी थी और उसने अगले ही पल मेरा लंड पेंट से बाहर निकल लिआ था। उसने अब मुझे कहा की मै उसकी सवारी शुरू करू इससे पहले की देर हो जाए। 

मै उसका मतलब समझ गया और मेने उसकी सलवार निचे करते हुए उसे आगे की तरफ झुका दिआ और पीछे से अपना लंड उसकी चुत में डाल दिआ और एक जोर की आह के साथ मेने उसकी चुदाई करना शुरू कर दिआ। 

वह भी मेरे लंड के हर झटके के साथ आह आह करे जा रही थी और चुदाई करवाते हुए खुद भी आगे पीछे हो रही थी जिससे मेरा लंड उसकी चुत की गहराई में जा रहा था। 

ठंडी में चुदाई काफी अच्छे से हो रही थी और मेरा लंड भी उसकी चुत में अच्छे से अंदर बाहर हो रहा था।  पर अब मेरे लंड से माल निकलने ही वाला था और मेने उसकी चुत से जल्दी से अपना लंड बाहर निकाल दिआ। 

सारा माल जमीन पर ही गिर गया और उसने अपनी सलवार वापस से पेहेन ली। अब कोहरा भी हट गया थे और मेने उसे वापस मिलने का वादा करते हुए उसे अलविदा कहा और उस दिन पूरी रात मेने उस चुदाई को याद करते हुए ही निकाल दिआ। 

Leave a Comment