चाची की गीली चुत चुदाई और गांड मारी – 2

करीब 10 मिनट बात की और चाचा से बोलीं- आज मेरा सर दर्द कर रहा है … अब फोन रख रही हूँ। चाची ने फोन पर चाचा को एक किस देकर फोन काट दिया और अब वो मेरे पास आ गईं। उन्होंने बताया कि वो कल सुबह आएंगे। 

अब हमारा खेल शुरू हो गया। पहले मैंने उनको खूब किस किया। उनकी गर्दन से लेकर होंठ तक का रसपान किया। फिर धीरे धीरे मैं उनके संतरों को निचोड़ने लगा। चाची ‘सी सी सी उफ़्फ़ आह …’ की बहुत ही मादक आवाज निकाल रही थीं। 

मैं पूरा मदहोश होता गया। फिर मैं उनकी नाभि में जीभ से चाटने लगा। कुछ टाइम बाद उन्होंने मेरा लंड पकड़ा और लॉलीपॉप की तरह गपागप चूसने लगीं। प्रीति चाची एकदम रंडी की तरह मेरा लौड़ा चूस रही थीं। मैं उनकी चूत में उंगली कर रहा था। 

फिर हम दोनों ने 69 की पोजिशन ले ली और तकरीबन 20 मिनट की इस चुम्मा चाटी व चुसाई में चाची ने अपना रस मेरे मुँह में ही छोड़ दिया। मेरा भी माल उनके मुँह में निकल गया और चाची पूरा माल मेरा गटक गईं। 

उसके बाद चाची मेरा लौड़ा फिर से अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगीं। मैं इस बार उनकी चूत और गांड दोनों में बारी बारी से उंगली करने लगा। कुछ टाइम बाद मेरा लौड़ा फिर से लोहे रॉड की तरह मजबूती से खड़ा हो गया। 

चाची की चुत का मजा – 1

चूत में होने लगी जोरदार खुजली

इसके बाद चाची बोलीं- यार राज, अब मेरी चूत में अपना लंड डाल दो। मेरी चूत में बहुत खुजली हो रही है। मैंने भी चाची से कहा- कैसे लोगी मेरा लंड? वो बोलीं- मुझे कुतिया बन कर लंड लेने में बहुत मजा आता है। 

मैंने उनको बेड किनारे उतारा और डॉगी बना कर एकदम से उनकी बुर में लंड पेल दिया। चाची एकदम से चिहुंक गईं और गाली देती हुई बोलीं- भोसड़ी के आराम से डाल … मादरचोद फ्री की चूत समझ कर फाड़ेगा क्या? मैंने भी जोश में आकर एक और जोर का धक्का दिया- साली, फ्री का लंड खा रही है और चुदुर चुदुर भी कर रही है। 

इस बार लंड काफी अन्दर तक गया था। वो बहुत जोर चिल्लाने लगीं और छटपटाने लगीं। लेकिन मुझ पर वासना का भूत सवार हो चुका था, मैं रुका ही नहीं और उसी पोजिशन में उनकी चूत का भोसड़ा बनाने लगा। 

कुछ देर बाद वो भी अपनी गांड हिलाने लगीं और जोर जोर गाली देने लगीं- आंह चोद भोसड़ी के … आज मुझे रंडी बना कर चोद … बहुत दिनों से तेरा लौड़ा लेना चाह रही … अअअअ उफ़्फ़ आआआ ईई! चाची मेरा लौड़ा गपागप लेने लगी थीं। 

मैं बोला- साली मां की लौड़ी … आज तुझे रंडी बना कर चोदूंगा। उनके चूतड़ों पर मैं थप्पड़ मारने लगा जिससे उनके दोनों चूतड़ एकदम लाल हो गए। करीब 7 से 8 मिनट बाद मैंने बोला- अब तू मेरे लंड पर कूद साली रंडी। 

चल जल्दी से मेरे लंड की सवारी कर। मैं बेड पर लेट गया और वो मेरे ऊपर आकर अपनी चूत मेरे लंड पर सैट करने लगीं। लंड चूत में गया तो वो अपने मम्मे उछालती हुई लंड पर कूदने लगीं। 

उनके मम्मे मस्त हिल रहे थे। बहुत ही कामुक नजारा था। मैं उनके मम्मों को मसलते हुए गांड उठाने लगा और चाची की चूत चुदाई का मजा लेने लगा। फिर मैंने उनको बेड पर सीधा लेटा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर उन्हें चोदने लगा। 

तकरीबन बीस मिनट बाद उनका पूरा बदन ऐंठने लगा और हम दोनों एक साथ ही झड़ गए। मैं उनके ऊपर ही लेटा रहा। कुछ देर बाद हम उठे और बाथरूम में चले गए। उधर उन्होंने मेरा लौड़ा अपने मुँह में ले लिया और बाथरूम में ही चूसने लगीं। 

विधवा भाभी की मस्त चुत – 1 

बाथरूम के जाके चाची की गांड में दे दिआ लोडा

चाची बोलीं- राज, तेरे लंड में बहुत दम है। आज एक बार और चोद दे। मैंने हामी भर दी और इस बार हम दोनों ने बॉथरूम में ही खड़े खड़े चुदाई करने का मन बनाया। इस बार मैं चाची की गांड मारना चाह रहा। 

मैंने उनसे कहा- आज तू मेरी रंडी है और इस बाथरूम में आज तेरी चूत नहीं, गांड मारूंगा। वो अपनी गांड मराने तैयार हो गईं। मैंने शैम्पू लगाया और अपना औजार उनकी गांड में लगा कर धक्का दे दिया और मेरा लंड एक बार में ही अन्दर घुस गया। 

चाची की कराह निकल गई। मैं दबादब उनकी Xxx देहाती गांड मारने लगा। कुछ देर बाद मैंने उनकी चूत में लंड पेल दिया। अब कभी मैं उनकी गांड मारता, कभी चूत चोदने लगता। चाची मस्त मजा ले और दे रही थीं। 

इस बार फिर हम दोनों ने बाथरूम में काफी देर तक खूब जम कर चुदाई की और मैंने चाची के तीनों छेद को अच्छे से पेला। आधा घंटा बाद हम दोनों तृप्त होकर बॉथरूम से बाहर आ गए। 

चाची जी ठीक से चल नहीं पा रही थीं; उनकी चूत और गांड दोनों छेद सूज चुके थे। फिर हम दोनों एक साथ बिस्तर पर लेट गए। मैंने उनसे पूछा- चाची, पिछवाड़ा किसने खोला था? वो हंस दीं और बोलीं- सब कुछ एक दिन में ही जान लेगा क्या? 

मैंने कहा- ओके मत बताओ मगर अब आपके छेदों पर मेरा ही राज चलेगा। वो हंस कर लिपट गईं। कुछ देर बाद उनका एक लंबा किस लेने के बाद मैं अपने घर पर आ गया और अपने बिस्तर पर लेटकर सो गया। 

जब सुबह उठा तो मेरा पूरा बदन दर्द कर रहा था। कुछ दूर पर खड़ी प्रीति चाची मुझे देखकर हंस रही थीं। मैंने भी उनको फ्लाइंग किस दिया और फ्रेश होने चला गया। उस दिन के बाद से हर हफ्ते हमारी चुदाई होने लगी थी। अब मैं भी बहुत खुश रहने लगा था। जब भी सेक्स का मन करता, तो चाची की चूत की अच्छे से मरम्मत कर देता

Leave a Comment