गांव की भाभी की कसिली चूत चोदी और लिआ चरमसुख का मजा

सभी को मेरा नमस्कार और हेलो, मेरा नाम विकास है और यह किस्सा मेरे गांव की भाभी का है जो अब मुझसे हमेशा चुदने को तैयार रहती है। भाभी की फिगर शुरू से ही बहुत अच्छी थी। भाभी के नितम्ब एकदम गोल और उभरे हुए थे जिनको देखते ही मेरा लंड खड़ा हो जाया करता था। 

अब यह कहानी शुरू होती है मेरे स्कूल से।  मै शुरू से ही पढाई में तेज रहने वाला बचा था और स्कूल भी हमेशा जरा करता था। अब कुछ दिन बाद ही हमारे रिश्तेदार के यहाँ शादी थी जिसके लिए हमें गांव जाना जरूरी था।  पापा के बहुत जोर देने के बाद भी में उन्हें ना जाने की जिद्द करता रहा। पर कुछ ही दिन बाद पापा ने मुझसे डाटते हुए मना लिए और अपने साथ गांव की ओर निकल गए।  

गांव पहुंचते ही हमारा बहुत अच्छे से स्वागत हुआ और मैने वही पहली बार भाभी को देखा और उनपर लट्टू हो गया।  भाभी मेरे गांव के ही एक भइया की धर्मपत्नी थी जिनसे मै उस दिन पहली बार ही मिला था। भभी ने उस दिन सूट पहना हुआ था जिनमे उनके  बूब्स साफ़ दिख रहे थे और वो एकदम माल लग रही थी। गांव में नया होने के कारण मुझे वहां  के बारे में ज्यादा नहीं पता था और इसी वजह से भइया ने भाभी को मुझे सब दिखाने और घुमाने के लिए कहा। हमने मिलकर बहुत से खेत, मंदिर और मीनारे घूमी जिससे मै बहुत ही खुश था। रस्ते में आते वक्त भाभी ने मेरा हाथ थाम लिए और हाथ साथ साथ चलने लगे। 

See Here: चाची की चोट का उठाया फायदा और टाँगे उठाकर खूब चोदा

भाभी ने समझाया मुझे कामवासना का खेल 

अब हम हर रोज कही ना कही घूमने चले जाया करते थे और इस बात से पापा भी खुश थे और भइया भी कामो में लगे रहते थे। ऐसे ही एक दिन रस्ते में एक गन्ने का खेत आया जिसके बारे में मीने भाभी से पूछा।  भाभी ने जवाब दते हुए कहा की यह गन्ने का खेत है जिसे लोग प्यार करने की जगह भी बोलते है। अब मै बहुत ही उलझन में चला गया था और भाभी की इस बात को समझ नहीं पाया था। मुझे देखते हुए भाभी ने हस्ते हुए बोला देवर जी तुम तो अभी छोटे ही हो। मैने गुस्सा होते हुए कहा की मै भी बड़ा हो गया हु और कुछ साल में तो मेरी शादी भी हो ही जाएगी। भाभी ने फिर हस्ते हुए  बोला च तो ऐसी बात है तो तुम्हरी गर्लफ्रेंड भी होंगी। 

मैने मना करते हुए कहा की पहले एक थी पर अब नहीं है।  अब भाभी ने मुझे एकदम से पूछा की की तुमने कभी उसको चूमा था ? मै एकदम से हैरान हो गया और भाभी को ही देखने लगा।  मेरी कुछ देर की ख़ामोशी के बाद भाभी ने कहा की मुझे भी अपनी दोस्त ही समझो। अब मै भी थोड़ा खुल चूका था और भाभी को बताया की कैसे मैने बस अभी तक एक ही लड़की को चूमा है और वह भी मुझे छोड़ कर चली गयी। अब भाभी हसने लगी और मुझे गुस्सा आने लगा।  मेने कहा अगर इतनी ही हसी आ रही है तो मिलो कभी अकेले।  भाभी एकदम हसना बंद हो गयी और हम दोनों कुछ समय बाद घाट चले गए। 

अगले दिन वह गन्ने का खेत वापस रस्ते  में आया पर मेने भाभी को कहा देखो भाभी प्यार का खेत।  भाभी जोर से हसने लगी और मैने भाही से कहा आओ भाभी गन्ने कहते है।  इतना कहते हुए मै खेत में घुसने लगा और भाभी मेरे पीछे आ गयी।   

Click On It For More: Bhabhi ki kahania

भाभी की करी चुदाई और खेतो में लेजाकर चोदा 

अब भाभी और में गाने तोड़कर खाने लगे और बाते करने लगे।  मैने भाभी को बोला की यहाँ तो कोई प्यार कर ही नहीं रहा।  भाभी ने मुझसे कहा की हम दोनों ही है जो गन्ने खा रहे है बाकि के लोग आते है यह अपना प्यार मुमकिन करने के लिए। अब मैने भाभी को कहा की किस तो कहि भी कर सकते है फिर सभी यहाँ इतनी दूर क्यों आते है।  भाभी ने मुझे समझाया की प्यार में किस के आलावा भी बहुत कुछ होता है करने के लिए। हम अभी भी गन्ने के खेत में ही थे और मै भाभी से पूरी बात समझने की जिद्द कर रहा था।  भाभी ने मुझसे वही बात कही की तुम बच्चे हो तुम्हे अभी सब बताना सही नहीं होगा। अब मेने अब गुस्सा आते हुए मेने भाभी को अपनी तरफ खींच लिआ।  भाभी पूरी तरह मेरी बाहो में आ गयी थी। अब मैने भाभी से बदला लेने के लिए उनके होठो पर रख दिए 

भाभी मेरे यह किसी बचे क तरह चूसे जा रही थी।  मै भी भाभी को किस करते हुए पूरी तरह कामवासना में बह चूका था।  मै भाभी के होठो पर जोरदार किस किये जा रहा था की तभी इतने में भाभी ने मेरा लंड पकड़ लिआ और उसे तेजी से  हिलाने लगी।  भाभी मेरे लौड़े से किसी बच्चे  की तरह खेले जा रही थी।  अब भाभी ने मुझे निचे लेटने को कहा और मेरे लंड पर आकर बेथ गयी।  अब मै निचे ऊपर होते हुए भाभी की चुदाई कर रहा था। 

भाभी भी मेरे लंड पर उछलती हुयी अपनी चूत  की चुदवाई करने लगी।  15 मिनट के बाद में भाभी की पूरी तरह से चुदाई कर चूका था और भाभी की चूत अभी भी गरम हो राखी थी। भाभी ने अपनी चूत  से लंड निकालते हए उसे अपनी गांड में लेने लगी।  भाभी की चूत की कम  चुदाई होने की वजह से भाभी की चूत बहुत ही ज्यादा टाइट थिस जिसकी चुदाई मुझे बहुत ह ज्यादा मजा रहा है।  इसी तरह मेने और भाभी ने दिनों में कई  बार खेतो में जाकर चमरसुख का स्वाद लिआ और एक दूसरे हो चुदाई के भरपूर मजे दिए। 

Leave a Comment