बुआ के साथ चुदाई का मजा आया – 4

अब मेरा आधे से ज्यादा लुंड बुआ की गांड क छेद में जा रहा था और बुआ अपने सर चटाई मत पे रख हुए ऊह्ह्हम्महिठाममा हहहहहहआ ोुहहममहहा हहहह्म्मह्ह्ह्हआआ म्माठोठाममहहहा हहहहह्ममहहा हहहह्ममहोहहाआ करते हुए चिल्ला रही थी। 

मेने अब अपना लुंड बुआ की गांड क छेद में डाले हुए ही खड़े पेअर कर क बेथ क बुआ क ऊपर आ गया और उनके बालो को अपने हाथों से पकड़ लिया।  में ाहः हहहहा ाःहाहा करते हुए अपने लुंड से बुआ की गांड क छेद में धक्के मार रहा था और अब मेरा करीब पूरा लुंड थप थप थप थप थप थप करते हुए बुआ की गांड क छेद में जा रहा था। 

बुआ आह्ह्हम्मअह्हह्हा मंमाहोहहाआ बेट्टाहाआ द्धहीरोटीःह्ममयहः मममहहाहहममहाहहए ोहीःह्ह्ममहा हहह्ममहाममाहोहहाआमा करते हुए चिल्ला रही थी और में लगातार बुआ क ऊपर चढ़ क उनकी गांड मार रहा था। 

अब करीब १०-१२ मिनट्स बाद मेने अपना लुंड बुआ की गांड क छेद में से निकला और में अब चटाई मत पे एक साइड घूम क लेट गया।  बुआ भी मेरे आगे एक साइड घूम क मेरी और अपनी पीठ कर क मेरे एक हाथ पे लेट गयी और मेने अब बुआ का एक पेअर उनकी झांग से पकड़ क ऊपर की और उठा दिया।

रांड बीवी और चुदाई की कीमत – 1

बुआ को लेना था गांड में लंड

बुआ ने अब अपना एक हाथ पीछे कर क मेरा लुंड अपने हाथ से पकड़ क लुंड का टोपा अपनी गांड क छेद पे लगा दिया और मेने अब बुआ की गांड में अपने लुंड से एक जोरसे धक्का मारा। 

बुआ क मुँह से ोठीयम्माह्ह्हो करते हुए चीख निकल गयी और मेरा आधे से ज्यादा लुंड बुआ की गांड क छेद में चला गया।  में अब पीछे से बुआ की गांड में अपने लुंड से ाहः हहहआ अहहहआ करते हुए धक्के मारने लगा और बुआ ोठीयंममहहहहह ोूहोहहमममा मममहहाहहममहहहह्म्मअ ाःहाहा ूहःहःहः हहहहामंहहहहहा ोौहहहहहहहहआ करते हुए चिल्लाने लगी। 

मेने अपने एक हाथ से बुआ क बूब्स को दबा क पकड़ रखा था और मेने अपना दूसरा हाथ आगे कर क अपनी २ उंगलियां बुआ की छूट क छेद में दाल दी।  मेरा अब पूरा लुंड थप थप थप थप थप थप करते हुए बुआ की गांड क छेद में जा रहा था और बुआ भी ूठीिम्माह्ह्ह हहहहहहांमाहोहहा ोूहःहा ममाहोहहाआ ढ़हिरियोयःहम्मा ोोहःममहहहहआ ममाहाहहःममा करते हुए चिल्ला रही थी।

अचानक से बुआ की छूट क छेद में से मूट क फुवारे निकलने लगे तो मेने अपनी उंगलियां बुआ की छूट क छेद में से निकल ली और मेरा भी अब वीर्य निकलने वाला था।  मेने अब करीब ५-६ मिनट्स बाद अपना लुंड बुआ की गांड क छेद में से निकला और बुआ क पीछे से उठ गया। 

मेने बुआ को सीधा कर दिया और बुआ क बूब्स पे घुटनो क बल बेथ गया।  बुआ ने अब अपना मुँह खोल दिया और मेने अपने लुंड का टोपा बुआ की जीभ पे रख दिया। 

में अब अपने लुंड को ाहः हहहहहह अहाहा ाःहाहा करते हुए मुठ मारने लगा और कुछ ही सेकण्ड्स में मेरे लुंड से वीर्य की पिचकारियां निकलने लगी।  मेरा थोड़ा वीर्य बुआ सीधा बुआ क गले में चला गया और थोड़ा वीर्य बुआ की जीभ पे गिरा हुआ था। 

अब मेने बुआ की जीभ पे से अपना लुंड हटा दिया और बुआ अपनी जीभ पे गिरा वीर्य पी गयी।  फिर बुआ ने मेरे लुंड क टोपे पे लगा वीर्य भी अपनी जीभ से चाट गयी और फिर में बुआ क बूब्स पे से हैट क बुआ क बगल में लेट गया।

भाभी और मॉल के अंदर मजा – 1

ठंडी में चुदाई गर्मी के साथ

मेरी और बुआ की बॉडी बारिश में भीगने की वजह से कांप रही थी।  में और बुआ थोड़ी देर तक ऐसे ही बारिश में चटाई मत पे लेता रहे और में बुआ क बगल लेते हुए ही बुआ क पेअर की झांग पे मूट दिया।

फिर बुआ ने अपनी साड़ी ब्लाउज पेटीकोट ब्रा-पेंटी ले ली और मेने सीढ़ियों पड़े अपने कदपदे ले लेके हम दोनों नंगे ही निचे चले गए।  बुआ ने मुझे एक टॉवल दिया और खुद भी टॉवल लेके अपनी बॉडी पोछने लगी। 

अब करीब मेने भी अपनी बॉडी पोछने क बाद अपने कपडे पहन लिए लेकिन में अपनी अंडरवियर ऊपर टेरेस पे ही भूल गया था।  बुआ ने अब निघ्त्य पहन ली थी और फिर बुआ ने चाय बनायीं और हम दोनों चाय-नाश्ता करने लगे। 

में- बुआ में अपनी अंडरवियर टेरेस पे ही भूल गया। रंजन बुआ- वैसे भी वो गीली होगी तो में बाद में लेके संभाल क रख दूंगी। में- ठीक हे। अब हम दोनों बे चाय-नाश्ता कर लिया और करीब ३:३० बजे हुए थे। 

में- चलो बुआ में चलता हु। रंजन बुआ- ठीक हे बेटा। में- बाई बुआ। रंजन बुआ- बाई बेटा। अब में बुआ क घर से मेरी कार में अपने घर आने क लिए निकल गया और करीब ६:०० बजे तक में अपने घर पहोच गया।