चाची का गरम  बदन और चुदाई की प्यास – चाची ने खुद चुदवाया

मेरी चाची का बदन कुछ इस तरह का था जिसको देख कोई भी आदमी अपना सुद्बुध खो बैठे। चाची को मै जब भी देखता था मेरे दिल में बाद यही प्यास रह जाती थी की चाची की चुदाई कैसे करि जाए। 

यह जून का मौसम था और हमेशा की तरह इस बार भी गर्मी कुछ ज्यादा ही पड़ रही थी। चाची का घर हमारे साथ में ही था और उसकी एक बेटी भी थी जो बहुत छोटी थी। मै उनकी बेटो को खिलने के बहाने उनके घर अत जाता रहता था। 

चाची का गांड एकदम उठी हुयी और मोटी थी जो की मैक्सी में भी मस्त दिखती थी। चाची का कद मुझसे कुछ छोटा था पर वह दिखने में बहुत की आकर्षक थी। अब एक दिन चाची जैसे ही बिस्तर पर बैठी मेने अपना हाथ उनकी गांड के नीचे रख दिआ। 

चाची भी मेरे हाथ के ऊपर आराम से बैठ गयी और मै धीरे धीरे अपना हाथ हिलाते हुए चाची की गांड सहलाता था। यह कार्यक्रम कुछ 15 दिन तक चलता रहा और अब एक दिन चाची और में बिस्तर पर पड़े टीवी देख रहे थे। 

मेरा हाथ अभी भी बिस्तर पर ही था की चाची उस पर अपनी गांड रख कर मेरे हाथ को मजा दे। अब चाची की बेटी निचे जमीन पर ही खेल रही थी और उसके दूध पिने का समय हो गया था। चाची ने अब पलटते हुए अपनी चूत मेरे हाथ पर रख दी और अपनी बेटी और बुलाने लगी। 

चाची की चूत एकदम मेरे हाथ के ऊपर ही रखी हुई थी और मैने अपना हाथ चलाना शुरू कर दिआ। चाची को भी मजा आने लगा और वह भी अपनी चूत आगे पीछे करती हुई मुझसे सेहलवाने लगी। गर्मी के मौसम के कारण कुछ ही देर में मेरे हाथ में पसीना आने लगा और चाची अब सीधी हो गयी। 

गर्लफ्रेंड की दोस्त की चूत चुदाई – रिहाना का प्यार और मेरी हवस

चाची को कर दिआ नंगा और मसल दिआ

चाची अब गरम हो गयी थी और गर्मी से उन्हें पसीना भी आ रहा था। अब चाची उठी और बाथरूम चली गयी। वापस आकर चाची ने मेरा हाथ फिर से बिस्तर पर देख अपनी गांड उसपर रख दी। इस बार चाची अपना पेटीकोट बॉथरूम में ही उतार आयी थी। 

चाची की चिकनी गांड पर में अपने हाथ फिराए जा रहा था और चाची को भी इससे मजा आना शुरू हो गया था। अब चाची ने अपने पैर से अपनी मैक्सी ऊपर कर दी फिर से अपनी चूत को मेरे हाथ पर रख दिआ और अपनी बेटी को बुलाने लग गयी। 

इस बार चाची की चूत एकदम नंगी थी और मुझमे हिम्मत भी आ गयी थी। चूत को सहलाते हुए मेने अपनी एक उंगली चाची की चूत की फांको में फिरानी शुरू कर दी जिससे चाची एकदम से मदहोश हो गयी। चाची की बेटी अब उनके पास आ गयी। 

चाची ने अपनी बेटी को अपने बूब्स से दूध पिलाते हुए सुला दिआ और हम दोनों कामवासना में चूर बिस्तर पर ही लेते हुए थे। अब मेने अपना हाथ चाची की मैक्सी पर लेजाते हुए हुए उनकी टांगो पर से मैक्सी हटाई और चूत को वापस से सहलाने लगा। 

चाची ने अपनी बेटी को दूसरी तरफ करते हुए अपना मुह्ह मेरी तरफ कर लिआ। अब मै और चाची एक दूसरे के होठो को चूसने लगे। चाची भी पूरी तरह हवस से भरी हुई थी और मेरे होठो को जोर जोर से चूस रही थी। 

मै अपनी एक उंगली चाची की चूत की फांको में देता हुआ उन्हें और ज्यादा गरम कर रहा था और अब चाची ने उठते हुए कमरे का दरवाजा बंद कर दिआ। चाची ने एक ही बार में अपनी मैक्सी ऊपर करते हुए उसे उतारा और मेरे सामने एकदम नंगी हो गयी। 

चाची को देख मेने भी अपने कपडे उतार फेंके और हम एक दूसरे को बाहो में लेते हुए प्यार करने लगे। में कभी चाची के बूब्स की निप्पलों को चूसता तो कभी उनके गले पर चुम्बन करता। चाची भी मेरे होठो पर थूक लगाते हुए उन्हें किस करे जा रही थी और मजे दे रही थी। 

भाई के साथ सो गयी एक रात – चुदाई का मौसम

चाची को घोड़ी बनाके चोदी चूत 

अब चाची की चूत और मेरा लंड दोनों गीले हो चुके थे और चाची को मेने प्न लंड चूसने के लिए कहा जिसे वह और भी सख्त हो जाये। चाची ने मेरा लंड मुह्ह में भरते हुए मेरे लंड का सुपाड़ा चाटना शुरू कर दिए जिससे कुछ ही देर में मेरा लंड फुंकार भरने लगा। 

अब चाची की दोनों टांगे मेने खोली और अपना लंड उनकी चूत की फांको के बिच रखकर फिराने लगा। चाची ने मुझे पकड़ते हुए खींचा और मेरा लंड उनकी चूत में समां गया। दूसरा झटका मरते हुए मेने अपना पूरा लंड उनकी चूत में पेल दिआ और चुदाई शुरू कर दी। 

चाची भी मेरे लंड की एकदम प्यासी हो चुकी थी और मुझे बाहो में भरते हुए पूरा लंड अपनी चूत ले रही थी। अब मेने चाची को घोड़ी बनने के लिए कह दिआ और चाची अपने घुटनो पर आ गयी। 

पीछे से मेने चाची के बूब्स अपने हाथो में लिए और चूत में लंड फ़साते  हुए वापस से चुदाई करना शुरू कर दिआ। चाची भी जोर जोर से आहे भर्ती हुई मेरे लंड का मजा ले रही थी और मै पीछे से उनकी चूत का पानी निकालने में लगा था। 

चाची के घुटने अब दुखने लगे थे इसलिए चाची वापस से टांगे खोलकर लेट गयी और मेने उनके पैर अपने कंधे पर लेते हुए चूत  डाल दिआ। चाची की अब मै  जोर जोर से चुदाई करने लगा और मेरा पूरा लंड उनकी चूत में अच्छे से अंदर बाहर हो रहा था। 

कुछ ही देर बाद चाची तेजी से आहे  भरने लगी और उनकी चूत को मसलने लगी। मेने यह देख अपनी रफ़्तार बढ़ाते हुए चाची की चूत का बुरा हाल कर दिआ और एकदम से चाची की चूत से पानी झड़ने लगा। 

चाची ने अपनी चूत जोर जोर से मसलते हुए सारा पानी जमीन पर गिरा दिआ और उनकी चूत की गर्मास ठंडी पड़ गयी। कुछ देर बाद मेरे लंड ने भी पानी की धार छोड़ दी जिसे चाची ने अपने मुह्ह में ले लिआ।

Leave a Comment