मरीज लड़की की चुदाई का मजा – 4

मैं बिस्तर पर बैठ गया। उसने बिस्तर के नीचे अपने घुटनों के बल बैठ कर अपने एक हाथ से लंड को पकड़ा और उसे हिलाने के साथ चूसना शुरू कर दिया। कुछ देर बाद मैंने उसे बिस्तर पर ऊपर ले लिया और उसकी टांगों के बीच में बैठ गया। 

मैं उसकी चमचम करती हुई चूत को देखने लगा। क्या चूत थी यारो! पहले मेरा चूत चाटने का मन नहीं था लेकिन उसकी पिंक चूत देखने के बाद मेरा मन मान नहीं रहा था। मैंने भी उसकी चूत को और दाने को चूसना शुरू कर दिया। 

अब हम दोनों 69 की अवस्था में आ गए। मैं उसके मुँह में लंड पेल कर उसका मुँह चोद रहा था और उसकी चूत को भी चाट रहा था। फिर एक वक्त आया कि हम दोनों झड़ गए। उसने मेरा पूरा माल़ पी लिया और मेरा मुँह उसके पानी से भर गया। 

मैंने चूत चाटते समय उसकी फांकों को फैला कर देखा तो उसकी चूत की झिल्ली अभी भी साबुत थी। मैं समझ गया कि ये अभी तक कुंवारी है। इसने अपनी चूत में मोमबत्ती या कुछ और भी नहीं किया है। 

अब मैं सीधा हो गया और उसकी बाजू में आ गया। उसने मुझे किस करना शुरू कर दिया। मैं भी उसके मम्मों को दबाने लगा और एक हाथ से उसकी चूत को मसलना शुरू कर दिया। वो अपनी गांड उठाकर मुझे साथ दे रही थी। 

कुछ देर बाद वो उठी और मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगी। थोड़ी देर में मेरा लंड कड़क हो गया। मैंने उसको घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी चूत पर लंड घिसने लगा। वो आगे पीछे होने लगी। 

इंटरनेट से चुदाई मिलने की ख़ुशी – 1

रसीली चुत में चला गया मेरा लंड

अभी मैं उसको और मजा देना चाहता था तो मैं अपनी कमर को सिर्फ आगे पीछे कर रहा था। मैं उसको इतनी चुदासी कर देना चाहता था कि वो चिल्ला चिल्ला कर लंड पेलने की कहने लगे। वही हुआ। वो वासना के दरिया में गोते लगाने लगी और बोली- अब अन्दर डालो … प्लीज कुछ करो। 

मैंने उससे कहा- तुम्हें दर्द होगा। वो बोली- जो चाहे हो, हो जाने दो। मैं सब सहन कर लूंगी, नहीं तो मर जाऊंगी … अभी आप ज्यादा मत सोचो बस डाल दो। मैंने उसकी चूत के होंठों को फैलाया और चुदाई की पोजीशन ले ली। 

लंड पेलने से पहले मैंने उसके मुँह पर हाथ रखा और एक धक्का दे दिया। पहली बार में ही मेरा आधा लंड उसकी चिकनी और रसीली चूत में घुसता चला गया। उसके मुँह से एक चीख निकल गई मगर हाथ लगा होने से आवाज दब गई। 

उसकी आंखों में आंसू आ गए। मैं थोड़ा रुक गया और उसकी चूचियों पर हाथ रखकर दबाने लगा। मैंने उसको थोड़ा शांत होने दिया और किस करने लगा। जैसे ही मुझे लगा कि अब वो ठीक है, तो मैंने एक जोरदार धक्का और से दिया। 

इस बार मेरा पूरा लंड उसकी चूत फाड़ता हुआ अन्दर चला गया। उसकी चूत में से खून आने लगा। उसका तो बुरा हाल हो गया था। उसने घुटी आवाज में कहा- बहुत दर्द हो रहा है। मैंने कहा- अब दर्द नहीं होगा। मैं धीरे धीरे उसको चोदने लगा। 

कुछ पल बाद उसको थोड़ा अच्छा लगने लगा तो वो खुद आगे पीछे होने लगी। वो मेरा लंड जितना अन्दर ले सकती थी, लेने लगी। दस मिनट चोदने के बाद मैंने उसको सीधा लिटाया और उसके ऊपर चढ़ गया। 

दूर की बुआ चुदने आयी घर – 1

शादी होने तक करि लड़की की चुदाई 

उसने अपने पैर मेरी कमर पर जकड़ लिए और एक हाथ से मेरा लंड अपनी चूत पर सैट कर दिया। फिर मैंने एक जोरदार धक्का मारा, मेरा पूरा लंड अन्दर चला गया। उसने मुझे ऐसे जकड़ लिया मानो वो जौंक हो। 

अब मैं उसको चोद रहा था, वो भी नीचे से कमर उठाकर मेरा साथ दे रही थी। हम दोनों पसीने से भीग गए थे। बीस मिनट की मजेदार चुदाई के बाद हम दोनों का काम तमाम होने वाला था। 

मैंने उससे पूछा- कहां निकालूं? वो बोली- अन्दर ही निकालो। आप तो मेरे डॉक्टर हो। एक और गोली खा लूंगी। मैंने ये सुनते ही स्पीड बढ़ाई और अपना पानी उसकी चूत में ही छोड़ दिया। 

झड़ कर मैं वैसे ही उसके ऊपर पड़ा रहा। कुछ देर में धीरे धीरे मेरा लंड सिकुड़कर बाहर आ गया। उसकी चूत से खून और मेरा पानी मिक्स होकर बाहर आ रहा था। मैंने उसको उठाया और हम दोनों बाथरूम मैं जाकर नहाए, फिर बेड पर आ गए। 

मैंने उससे पूछा- अब कब मिलोगी? वो बोली- कभी भी बोलो, आज से जब तक मेरी शादी नहीं होती, तब तक मैं आपकी ही हूं। मैंने उसको चूमा और जाने दिया। उसने जाते वक्त कहा- गोवा में मेरी जॉब लग गई है। 

जब आपका दिल करे, आ जाना। मैंने कहा- ओके डियर अब गोवा में ही तुम्हारी चूत लूंगा। वो हंस दी। मैंने उसको गोवा में जाकर कैसे चोदा, वो मैं अगली बार की गोवा सेक्स कहानी में बताऊंगा। उधर उसकी वजह से कितनी ही लड़कियां मेरे पास चुदवाने आईं, वो भी बताऊंगा।  

Leave a Comment