गर्लफ्रेंड की दोस्त की चूत चुदाई – रिहाना का प्यार और मेरी हवस

मेरा अखिल है और यह कहानी बहुत ही रंगीन होने वाली है जो आपको अपना लंड पकड़ने पर मजबूर कर देगी। मेरी उम्र अब 24 साल है और यह बात तब की है जब मै सिर्फ 21 साल का था। 

तो यह कहानी शुरू होती है मेरी गिलफ्रेंड कनिका से जिससे मुझे बेशुमार मोहब्बत थी। कनिका से मै हमेशा बाते किआ करता था  जिससे हम दोनों हमेशा खुश ही रहते थे। कनिकाकी एक खांस दोस्त भी जिसका नाम रिहाना था। रिहाना मेरी गर्लफ्रेंड के साथ बहुत सालो से थी और उन दोनों की दोस्ती हमारे पूरे इलाके में बहुत मशहूर थी।

रिहाना दिखने में मेरी गर्लफ्रेंड से थोड़ी काम सुन्दर थी पर  रिहाना के बूब्स किसी आम लड़की से कही ज्यादा उठे हुए और गोल थे। मुझे कई बार ऐसा प्रर्त्तित होता था जैसे रिहाना ने अपनी छाती पर दो बड़ी बड़ी बोल लगा रखी हो। 

रिहाना मुझसे भी अच्छे से बाते किआ करती थी।  हम जब भी मिला करते थे वो मुझे जोरो से गले लगाया करती थी जिसे देखकर मेरी गर्लफ्रेंड भी मुझसे नाराज हो जाया करती थी। अब जैसे जैसे दिन बढ़ते गए रिहाना ने मुझसे रोज बाते करना  शुरू कर दिआ। हम दोनों एक दूसरे से खुलकर बाते किआ करते थे जिसकी  वजह से रिहाना मुझे सब कुछ बताया करती थी।

और भी ऐसे ही किस्से: Hindi Sex Kahnia

रिहाना ने जगा दी मेरी हवस 

अब कुछ दिनों बाद मेरी गर्लफ्रेंड ने मुझे बताया की वह 2 दिनों  लिए गांव में शादी ने सम्मिलित होने के लिए जा रही है। मेरी गर्लफ्रेंड के घर से निकलने के बाद मुझे रिहाना का मेसेज आया की उसे मुझसे मिलना है। 

अब मैने भी बिना सोचे समझे रिहाना को मिलने के लिए हामी भर दी। रिहाना ने मुझे एक सुमसान से पार्क में बुलाया जहा लोगो का आना जाना बहुत कम था। हम दोनों मिले और बेंच पर बेथ कर एक दूसरे से बाते करने लगे। रिहाना उस दिन काले रंग का सूट पेहेन कर आयी थी जिनमे उसके बूब्स बहुत ही उठे हुए दिख रहे थे। बाते करते समय भी मेरा सारा ध्यान रिहाना के बूब्स की तरफ ही जा रहा था जिससे रिहाना नोटिस भी करने लगी थी। 

अब रिहाना ने बात करते हुए अपना एक हाथ मेरी जांघ पर रख लिआ जिससे मेरे रोंगटे भी खड़े हो गए थे। मेरे लंड में भी धीरे धीरे तनाव आना शुरू हो गया था जो मेरी पेंट के ऊपर से ही दिख रहा था। 

अब मुझे रिहाना न बताया की उसकी नजरो में मै बहुत ही अच्छा लड़का हु जैसा वो हमेशा से चाहती थी। अब रिहाना ने मेरा हाथ अपने हाथ में ले लिआ और मुझसे प्यार भरी बाते करने लगी। मेरे दिल और लंड दोनों में रिहाना के लिए चुदाई भरे ख्याल आने शुरू हो गए थे। मैने रिहाना को बहुत बार समझाया  की उसकी दोस्त मेरी गर्लफ्रेंड है यह किसी के लिए  भी अच्छा नहीं होगा। अब मुझपे जोर देते हुए रिहाना ने कहा की में उसे हां भर दू बदले में चाहे जो मांग लू। 

यह सुनने के बाद मेरी हवस और भी ज्यादा बढ़ गए थी और मुझे अब किसी भी तरह रिहाना को चोदने का मौका चाहिए था।  अब रिहाना को मेने एक दिन का गर्लफ्रेंड बनने के लिए राजी कर  लिआ और एक होटल का कमरा भी बुक कर दिआ जहा है दोनों सही से बाते कर पाए। 

रिहाना भी इस बात से बहुत खुश थी पर उसे शायद यह भी पता था की में ये सब सिर्फ उसकी चुदाई के लिए कर रहा हु। अब अगले दिन हम दोनों मिले और होटल के तरफ चल दिए। पैसे देने के बाद हम दोनों अपने कमरे में गए और बैठके बाते करने लगे। कुछ ही समय बाद मेने उठते हुए रिहाना को अपनी बहो में दबोच लिआ। रिहाना भी मुझे प्यार से गले लगा रही थी और अब मेने रिहाना की गर्दन पर चुम्बन करने शुरू कर दिए। 

Also Read: मेरी और दीदी की हवस की दास्तान

मेरी जोरदार चुदाई से रिहाना की निकल गयी चीखे 

अब रिहाना मेरी बाहो में पिघल सी गयी थी और अपना पूरा जिस्म मुझ पर छोड़ चुकी थी। रिहाना का मुह्ह अपनी तरफ करते हुए मेने उसके होठ पर अपने होठ मिलते हुए किस करना शुरू कर दिआ। रिहाना ने भी मुझे जवाब देते हुए मेरे होठो का रसपान चालू कर दिआ। अब हम दोनों बिस्तर पर लेट गए और एक दूसरे के होठो को चूसने लगे।

मेने अब रिहाना का सूट ऊपर करते हुए उसे रिहाना से अलग कर दिआ। रिहाना ने लाल रंग की ब्रा भी पहनी थी जिसको मेने खोलते हुए रिहाना के चुचे आजाद कर दिए। रिहाना की दोनों बूब्स बहुत ही बड़े और रसभरे दिख रहे थे जिनके निप्पल टाइट और काले रंग के हो रखे थे।

निप्पलों को मुह्ह में लेते हुए मेने रिहाना के बूब्स दबाना और चूसना शुरू कर दिए। रिहाना कामवासना में खो चुकी थी और मेरी हरकतों का मजा ले रही थी। अब मेने भी अपनी शर्ट उतार दी और पजामा भी उतारकर कोने में रख दिआ। मेरा लंड पूरा सख्त हो चूका था जो कच्छे में से साफ़ झलक रहा था।

अब रिहाना ने कच्छे के ऊपर से ही मेरा लंड पकड़ा और जोर जोर से हिलना शुरू कर दिया।  मेने अपना कच्छा भी उतार दिआ और रिहाना के पास अपना लंड लेके खड़ा हो गया। रिहाना ने मेरा लंड किसी लॉलीपॉप की तरह चूसना चालू कर दिआ जिससे मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था 

अब थोड़ी देर लंड चुसवाने के बाद मेने रिहाना की सलवार का नाडा खोला और सलवार को भी उतार दिआ। रिहाना की पैंटी पूरी तरह उसकी चूत के पानी से भीग चुकी थी जिससे मेने प्यार से साइड कर दिआ और अपना लंड रिहाना की चूत पर रख दिआ। रिहाना मेरा लोडा लेने के लिए तड़प रही थी।

अब मेने अपनी पूरी ताकत से रिहाना की चूत में अपना लंड घुसा दिआ जिससे रिहाना की चीख निकल गयी। पर मेरी हवस ने मुझे पागल बना दिआ था और मैने बिना रुके रिहाना की चूत में अपना लंड अंदर बाहर करना शुरू कर दिआ। रिहाना बिस्तर पर लेती हुई वासना में अह्ह्ह्हह मम्मीी आह्ह्ह्हह की आवाजे निकल रही थी और मुझे रुकने के लिए बोल रही थी। 

पूरे कमरे में रिहाना की चीखे घूम रही थी और मै रिहाना की चुदाई में खोया हुआ अपना लंड उसकी चूत में तेजी से घुसाए जा रहा था। अब कुछ समय बाद रिहाना भी चुदाई का मजा लेने लगी और अपनी गांड उठाते हुए मुझे चुदाई करवाने लगी। पर मेरा लोडा अब पूरी तरह गरम हो चूका था और झड़ने ही वाला था। मेने अपनी चुदाई की रफ़्तार तेज कर दी।  रिहाना भी आह भरने लगी और कुछ देर और चुदाई करने के बाद मेरे लोड़े ने हार मान ली और मेने अपना सारा वीर्य रहना की चूत में ही निकाल दिआ। 

तो दोस्तों कैसी लगी आपको हमारी यह कहानी हमें कमेंट करके जरूर बताये और रोज रोज एक से एक हवस की कहानिआ पढ़ते रहने के लिए हमारी इस वेबसाइट से जुड़े रहे। 

Leave a Comment