कैसे अपनी दोस्त को चुदाई के लिए किआ राजी और किआ सेक्स

बात मेरे कॉलेज के दिनों की है जब मेरी दोस्त और मेरे एक साथ ही एग्जाम हो रहे थे। हम दोनों के एग्जाम एक ही दिन थे  इसलिए हम दोनों ने साथ में ही परीक्षा देने के लिए प्लान बनाया। 

अब परीक्षा के दिन आ गए और हम दोनों एक ही साथ में अब परीक्षा देने वाले थे। आज हिंदी का एग्जाम होने वाला था इसलिए  मै अपने दोस्त के घर परीक्षा देने के लिए चला गया। 

अब जैसे ही हम लोग परीक्षा के लिए बैठे मेरी दोस्त के घरवाले अपने रिश्तेदारों के घर जाने के लिए तैयार हो रहे थे। आप लोग तो जानते ही होंगे कोरोना काल में एग्जाम कंप्यूटर के माध्यम से ही हो रहे है। 

एग्जाम शुरू हुए अभी 1 घंटा ही हुआ था की पुरे घर में सन्नाटा सा छाया हुआ था। मुझे बहुत ही अजीब सा ही अजीब सा लग रहा था इसलिए मेने मीना से कुछ बात करने की सोची। मेरी दोस्त का नाम मिना था और उसे सब मीनू कहकर बुलाया करते थे। 

मौसम काफी सर्दी वाला था इसलिए समय भी जल्दी जल्दी बीत गया। हिंदी का एग्जाम होने के कारन हमारा एग्जाम जाली ही खत्म हो गया और अभी भी हमारे पास 1 घंटा बचा हुआ था। 

हम लोग काफी बोर हो गए थे इसलिए मेने अब मजाक में मीनू से बोला की लाओ में तुम्हे चुम कर थोड़ा प्यार कर लेता हु। मीनू ने भी मजाक मजाक में ही हामी सी भर दी और मेने मीनू को अपने पास ही बिठा लिआ। 

मीनू को अपने पास बिठाने के बाद मेने मीनू को अपने  करीब आने को कहा। मीनू को यह सब अभी भी महज एक मजाक लग रहा था और इसलिए मीनू मेरे करीब आकर बैठ गई। 

आंटी ने खुद घर बुलाके खुद मरवाई अपनी मस्त चुत

अपनी दोस्त को किआ सही से गरम और खूब दबाके चोदा

अब मेने मीनू के करीब आते ही उसके चेहरे को अपने दोनों हाथो से पकड़ लिआ और अपने होठो को उसके होठो से मिला दिआ। मीनू एकदम चौक गयी थी  पर अब मीनू भी मेरा साथ देने लग गयी और मेरे होठो को चूसने लगी। 

मीनू को भी अब मजा आने लगा था और मीनू भी गरम होने शुरू हो गयी थी। मीनू के बूब्ड भी भी काफी मोटे थे इसलिए मेने मीनू के दोनों बूब्स अपने एक हाथ से दबाने और सहलाने शुरू कर दिए। 

इससे मीनू बहुत गरम हो गयी थी और मीनू मेरे होठो को जोरो से चूसे जा रही थी। मीनू के मेने अब बिस्तर पर सीधा लिटा दिआ और उसके ऊपर के कपडे ख़ोल दिए। मीनू के बूब्स मेरे सामने अब नंगे हो गए थे। 

मीनू के बूब्स की निप्पल अब मेने अब अपने मुह्ह में ली और चूसना शुरू कर दिआ। मीनू बहुत ही ज्यादा कामुक हो गयी थी और उसका हाथ अब मेरे लंड पर आ गया था। मीनू मेरे लंड को अच्छे से हिला भी रही थी। 

अब मीनू मेरा साथ देना शुरू हो गयी थी और मीनू ने भी मेरी टीशर्ट निकाल कर फेक दी। मीनू मेरे बदन को ऊपर से चूमे जा रही थी जिससे मुझे भी काफी मजा आ रहा था और अब मीनू धीरे धीरे मेरे लंड पर आ पहुंची। 

टिकटोक वाली लड़की की चुत की सील तोड़ चुदाई

मीनू की गरम चुत में घुसा दिआ लंड 

अब मीनू ने लंड को अपने मुह्ह में लिआ और अच्छे से चूसना शुरू कर दिआ। मीनू बहुत ही प्यार से मेरे लंड के सुपाडे को चाटे जा रही थी जिससे मेरा लंड पूरा हद हो गया था और चुदाई के लिए तैयार था। 

अब मेने मीनू को वापस से लिटाया और उसके ऊपर चढ़ गया। मीनू की पेंट का बटन खोलते हुए मेने मीनू की पेंट निकाल दी और अब मीनू मेरे सामने बस पैंटी में थी। मीनू की पैंटी उसकी चुत के पानी से पहले ही गीली हो गयी थी। 

मेने अब मीनू की पैंटी खोली और अपना लंड उसकी चुत की फांको में फ़िसलाना शुरू कर दिआ। एक जोर के धक्के के साथ मेने मीनू की चुत में अपना लंड घुसा दिआ और अब चुदाई शुरू कर दी। 

मीनू की चुदाई में जोरो से कर रहा था और मीनू वासना में लीन बिस्तर पर नंगी अपनी चुत मरवा रही थी। ऐसे ही चुदाई का यह सिलसिला 20 मिनट तक चलता रहा और मीनू कामुक होते हुए आहे ले रही थी। 

मेरा भी अब हौसला टूटने लगा था और कुछ ही देर की और चुदाई के बाद मेरे लंड से जोर की वीर्य की धार निकल गयी। 

Leave a Comment