चुदक्कड़ दोस्ती और मेरा अनमोल प्यार 

मेरा नाम मोहन है और यह मेरी खानी है दोस्तों जब मै स्कूल में पढाई करता था। उस समय तो आप सब को पता ही होगा की लड़को को किसी भी लड़की से प्यार हो जाता था और मै भी उन्ही लड़को में से था। 

मुझे बह एक लड़की से अब प्यार हो चूका था और उसके लिए मै सब करना चाहता था। यह खेल बहुत दिन तक चला और अब वह मेरी दोस्त बन चुकी थी और मै उसी लड़की के साथ अपना सारा दिन निकाला करता था। 

हम दोनों सारा दिन साथ में बाते करते खाना खाते और पढाई भी हम दोनों साथ मै ही करते थे। पर कुछ दिन बाद ही अब एक सचाई मेरे सामने आयी और मेरे दोस्त ने मुझे बताया की वह लड़की बहुत ही बड़ी चुदक्कड़ जो बहुत लड़को से सेक्स कर चुकी है। 

यह सुनते ही मेरे दिल में बहुत तेज दर्द हुआ और मेरा दिल अब टूट चूका था पर अंदर ही अंदर मेरे दिल में अब आग भी लग चुकी थी और मुझे किसी भी तरह अपने प्यार का बदला लेना था। 

अब मेने ठान लिआ की मै भी इस चुदक्कड़ की चुत मार के ही रहूँगा और अपने प्यार को बदला सही से लूंगा। अगले दिन से ही अब मेने उसे सेक्स करने के संकेत शुरू कर दिए। 

दिन में कई बार मै उस लड़की का हाथ पकड़ता और गाली के पास अपने होठ भी ले जाया करता जो की हवस बढ़ाने की बहुत ही अच्छी निशानी है। अब वह भी मेरे इरादे समझ चुकी थी। 

पड़ोसन का शराबी पति और उसकी चुदाई की प्यास

चुदक्कड़ लड़की के घर जाके किआ प्लान पूरा 

अब मेने धीरे धीरे अपनी दोस्ती को और भी पक्का करना शुरू कर दिआ और अब मै स्कूल इ बाद भी उस लड़की से मिलने लग गया। हम दोनों एक दूसरे के घर आने जाने भी लगे थे। 

अब मेरा प्लान बाद पूरा होने की वाला था मेने एक दिन प्लान करते हुए उसके घर पर पढाई करने का बोला और वह भी मान गयी। आज वीरवार था और उसकी माँ इस दिन बाजार जरुरु जाती थी। 

आज भी वैसा ही हुआ और उसकी मम्मी सब्जी ली के लिए घर से निकल गयी और मै अपने इरादों के साथ उसके घर चला गया। अब  हम दोनों साथ मै बैठकर पढ़ने लगे। 

धीरे धीरे धीरे मजाक शुरू हो गया और मेने अपने हाथ से उसकी हाथ मसलना शुरू कर दिआ और अपने होठो से उसके गालो पर चुम्बन कर दिआ जिससे वह भी गरम होने लग गयी। 

अब हालत बहुत ही गर्म हो चुके थे और वह मेरी आँखों में ही देख रही थी और यह मौका मेरे लिए सबसे अच्छा था और मेने खुद को उसकी तरफ कर दिआ और अपने होठ उसकी तरफ  कर दिए। 

वह भी मेरे इशारे समझ गयी और अपने आप को उसने मेरे तरफ कर दिआ और है दोनों एक दूसरे के होठो को चूसने लगे। काफी देर तक हम दोनों के होठ लग नहीं हुए और हम दोनों अब हवस में आ गए थे। 

भाभी ने नहाते हुए कराई अपने जिस्म की चुदाई 

दोस्त की करि चुदक्कड़ जैसी चुदाई 

अब मै अपना प्यार भूल चूका था और हम दोनों ही हवस में आते हुए एक दूसरे से चिपक गए थे और चुम्बन कर रहे थे। कुछ ही देर में अब मेने अपना हाथ उसके बॉब्स पर रखा और जोर जोर से दबाने शुरू कर दिए। 

वह भी बहुत गरम हो चुकी थी और मेरे साथ मेरा  साथ दे रही थी। मेने अब  खोलते हुए उसे ऊपर से नंगा कर दिआ और उसकी बूब्स की निप्पलों को मुह्ह में ले लिआ और चूसने लगा। 

उस लड़की का हाथ भी अब मेरे पजामे में था और वह मेरा लंड हिला रही थी जिससे वह खड़ा हो गया था। मेने भी अब अपने हाथो को निचे किआ और उसकी पजामी का नाडा खोलते हुए निचे से नंगा कर दिआ। 

मेने अपने हाथ से अब उसकी चुत को सहलाया और उसकी चुत पहले से ही बहुत गीली हो चुकी थी। मेने अब निचे से अपना लंड सेट किआ और इसकी चुत में घुसा दिआ और एक ही बार मै लंड अंदर चला गया। 

अब मेने लेटे हुए ही जोर जोर से अपने लंड को उसकी चुत में अंदर बाहर करना शुरू कर दिआ। वह भी किसी रंडी की तरह अपनी चुत मरवा रही थी और मेरे लंड से अपनी चुत की प्यास भुजा रही थी। 

यह चुदाई काफी जोर जोर से हो रही थी और मेरा प्यार इस चुदाई में कही खो गया था। मेरे लंड की रफ़्तार भी बहुत तेज हो चुकी थी और वह भी आह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह करते हुए अपनी चुत में मेरा लंड ले रही थी। 

कुछ ही देर बाद मेरे लंड ने भी भी अब जवाब दे दिआ और मेरे लंड से एक जोर की धार आयी और मेरा सारा वीर्य उसकी चुत के अंदर ही निकल गया जिसके बाद वह बहुत डर गयी। 

Leave a Comment