सेक्स की एक लम्बी कहानी और वासना – 1

दोस्तों यह कहानी थोड़ी लम्बी होने वाली है।  तो अगर आप अपने लंड को पकड़ कर नहीं बेथ सकते थे मुठ मारने से नहीं रुक पाते तो आप यह कहानी ना ही पढ़े वरना आपका मॉल जल्दी निकल जायेगा। 

सेक्स के प्रति बचपन से मेरी ख़ास रूचि और हस्तमैथुन की आदत होने की वजह से में अपना वजन तो ख़ास नहीं बढ़ा सका। परन्तु जो चीज बढ़नी चाहिए वो किसी भी औरत को खुश करने के लिए काफी है। 

मैं पांच फुट दस इंच लम्बा हूँ, मेरे लिंग का नाप तो मैंने कभी लिया नहीं पर जिनके भी साथ मैंने सम्बन्ध बनाये हैं उन लड़कियों की साँसों से महसूस किया है कि मेरा लिंग किसी औरत को भी अंतर्मन से खुश करने लायक है। 

मैं एक लेखक होने के साथ साथ अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। मैं काफी वक्त से आपके साथ अपने सेक्स अनुभव साझा करने की सोच रहा था पर वक्त के अभाव ने मुझे रोका हुआ था। 

आज मैं आपके सामने अपनी पहली हिंदी भाभी की चुदाई कहानी लिख रहा हूँ। यह पहले सेक्स की तो नहीं पर मेरे अभी किये अंतिम सेक्स की कहानी है। मैंने बस कुछ जगहों और पात्रों के नाम को ही बदला है। 

कोरोना के वक्त मेरा नया स्टार्टअप असफल हो गया था और मुझे दिल्ली छोड़कर अहमदाबाद में अपने बिज़नेस को दोबारा शुरू करना था, इसलिए मैं यहाँ आ गया। वक्त बीता और मेरा स्टार्टअप ठीक ठाक चलने लगा। 

पड़ोसन की चुदाई का अलग मजा – 1

कमलेश निकल बहुत ही रंगीन मिजाज

पैसे के लिए निरंतर काम करने की वजह से मेरा कभी सेक्स की तरफ ध्यान नहीं गया। कभी कभी जब सुबह तीन चार बजे नींद खुलती थी तब मैं पसीने से तरबतर होकर काफी मशक्कत के बाद यहाँ अन्तर्वासना की कहानियां पढ़ पढ़ कर मूठ मारकर खुद को दुरुस्त किया करता था। 

सुबह होते ही मैं अपने स्टार्टअप के लिए नए क्लाइंट की तलाश में निकल जाता था। इस बीच यहाँ के लोगों से मेरी दोस्ती भी होने लगी। धीरे धीरे जब मैं उनमें घुलने लगा। 

काम के दौरान मेरी मुलाकात एक व्यक्ति से हुई जिसकी उम्र तो पचास के पार थी पर वो भाई भी काफी रंगीन मिजाज था। उसका नाम कमलेश था। एक दिन शाम को काम ख़त्म करने के बाद मैं और कमलेश चाय की एक दुकान में बैठकर बातें कर रहे थे। 

तब उसने अपनी एक पच्चीस साल की गर्लफ्रेंड का जिक्र किया और कहा कि मैं किसी तरह से उसकी मौसी को पटा लूँ। क्योंकि ऐसा करने से जब मैं उसे घुमाने ले जाऊं, तब कमलेश अपनी गर्लफ्रेंड से मिलने जाए। 

उसने बताया कि वो लोग बड़ौदा में रहते हैं और उसकी गर्लफ्रेंड बचपन से ही उसकी मौसी के साथ रहती है। उसकी मौसी के पति दुबई में रहते हैं। उनका एक बेटा भी है जो पढ़ाई के लिए ऑस्ट्रेलिया गया हुआ है। 

जब उसने इतना बताया तब उसकी मौसी की उम्र जानने की इच्छा हुई और पूछने पर कमलेश ने कहा- उम्र में क्या रखा है दीपक भाई, आपको कौन सी शादी करनी है। मैंने भी सोचा कि यार मैं तो खुद अपने से छोटी लड़कियों के साथ सेक्स करते हुए उन्हें यही कहता हूँ उम्र तो संख्याओं का खेल है। 

मेरी उत्सुकता बढ़ रही थी तो मैंने उससे पूछ लिया- पर कमलेश भाई, उससे बात कैसे की जाये, आगे मुझे क्या करना है? “अपनी कला का इस्तेमाल” कमलेश ने कहा। फिर उसने मुझे सौम्या का व्हाट्सप्प नंबर दिया। 

पड़ोसन की चुदाई का अलग मजा – 2 

हिमत करके मिला दिआ फोन

कुछ देर तक हम इधर उधर की बातें करते रहे। 9 बजे से यहाँ कोरोना की वजह से दोबारा नाईट कर्फ्यू लगने की घोषणा हो चुकी थी। पर घर तो वक्त पर जाना था इसलिए मैंने बिल पे किया और बाइक से अपने घर की तरफ जाने लगा। 

वरना कमलेश के चुदाई के किस्से सुनने में मजा भी बहुत आ रहा था। रास्ते में चलते हुए अचानक से मुझे सौम्या का ख्याल आया और मुझसे रहा नहीं गया। मैंने रास्ते में बाइक रोकी अपनी जेब से सिगरेट निकाली और उसे मुँह में रखकर एक जेब से लाइटर निकला और दूसरे से फ़ोन सिगरेट जलाते हुए मैंने कमलेश के दिए नंबर को पहले ट्रू कॉलर पर चेक किया। 

वहाँ उसका नाम कन्फर्म करने के बाद मैंने उसका नंबर यह सोचकर सेव किया कि व्हाट्सप्प DP में उसका फोटो देखने को मिलेगा। ढूंढने की कोशिश की पर DP खाली थी, शायद उसने उसने नंबर वाली सिक्योरिटी लगा रखी थी।

उस वक्त की मेरी उत्सुकता मैं जाहिर तो नहीं कर सकता, मैंने हिम्मत करके उसे कॉल कर दिया। उसने फ़ोन उठाया और पहली बार उसकी आवाज सुनते ही मेरे शरीर में एक कम्पन महसूस हुई। 

“हेलो, कौन बोल रहे हो?” कुछ देर की शांति में उसकी मीठी आवाज ने मानो मोतियों का हार पिरो दिया हो। मेरे पास कोई जवाब नहीं होने पर मैंने कहा- मैं दीपक बोल रहा हूँ दीदी, सौम्य से बात करनी है। 

उस पर उसने चौंकते हुए कहा- सौम्य या सौम्या? मैंने जवाब में कहा- सौम्य, दीदी मैं उसका मैनेजिंग डायरेक्टर बोल रहा हूँ, वो मेरे यहाँ ही जॉब करता है। “सॉरी रॉंग नंबर!” ये बोल कर उसने फ़ोन काट दिया।

सेक्स की एक लम्बी कहानी और वासना – 2

Leave a Comment